विभाग सोया चैन की नींद , ग्रामीण रातभर जागकर कर रहे पहरेदारी

विभाग सोया चैन की नींद , ग्रामीण रातभर जागकर कर रहे पहरेदारी

By: pawan sharma

Published: 12 Nov 2020, 06:36 PM IST

निवाई. जहां एक ओर बघेरों के आंतक से ग्रामीणों की नींद उड़ी हुई है, वहीं दूसरी ओर वन विभाग के अधिकारी-कर्मचारी बघेरों को पकड़े जाने के लिए सतर्कता तक नहीं दिखा रहे है। ग्रामीण गांव के मवेशियों को बघेरों से बचाने के लिए गांव में रातभर जागकर पहरेदारी कर रहे हैं।

मंगलवार रात को गांव बस्सी में बघेरों के आंतक से अपने पशुओं को बचाने के लिए जगराम कटारिया, धन्नालाल जाट, रामसहाय गुर्जर, शिवराज प्रजापत, रामकल्याण, सीताराम मीणा, सुरजन गुर्जर, नरसी, महेशराज आदि ग्रामीणों ने जंगल की पठारों से गांव की ओर आने वाले रास्तें पर जागकर पहरेदारी कर रहे है।

रात भर सर्दी से अपने आप को बचाने के लिए अलाव जलाकर तापते रहे है। अपने पशुओं को बचाने के लिए ग्रामीण हाथों में लाठियां व गले में टॉर्च टांग कर पूरी तरह चौकन्ने है। अपनी जान को जोखिम में डालकर बस्सी के ग्रामीण मवेशियों की जान बचाने की जुगत में लगे है, वहीं वन विभाग के अधिकारी-कर्मचारी कहीं भी नजर नहीं आए।

इसी प्रकार गांव किवाड़ा में भी ग्यारसीलाल, रामनिवास, लेखराज, गोलू, तेजकरण, कमलेश, सुरेन्द्र, मनीष, रामू,बस्तीराम,गणेश सहित कई गांववासियों ने बघेरों के डर से जंगल की ओर से गांव की ओर आने वाले रास्ते पर हाथों में लाठियां लेकर जागते रहे।

थोड़ी आहट पर भी ग्रामीण पूरी तरह मुस्तैद और चौकन्ने रहे। वन विभाग द्वारा बघेरों को पकडऩे के लिए अधिकारियों द्वारा अभी तक कोई कारगर कदम नहीं उठाए गए है, जिससे ग्रामीण रातभर चौकीदारी कर अपने पशुओं को बघेरों के शिकार से बचा रहे है।


दो साल में भी नहीं पकड़ पाए
क्षेत्र के ग्रामीण लगातार वन विभाग के अधिकारियों को पहाडिय़ों में बघेरे होने की जानकारी देकर पकडऩे की मांग कर रहे है, लेकिन वन विभाग दो साल बाद भी बघेरों नहीं पकड़ पाया है। ग्रामीणों ने बताया कि सहायक वन संरक्षक लाखनसिंह ने नोहटा की पहाडिय़ों में बघेरे को देखने के बाद ग्रामीणों को आश्वस्त किया था कि शीघ्र बघेरों को ट्रेकुंलाइज किया जाएगा, लेकिन 6 दिन बीत जाने के बाद भी कुछ नहीं किया गया, जिससे ग्रामीणों आक्रोश बढ़ता ही जा रहा है।

pawan sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned