घी का नमूना लेने गई टीम को धमकाया, बैरंग लौटाया

निरीक्षक ने सदर थाने में कराया मामला दर्ज
तहसीलदार पहुंचे पुलिस लेकर मौके पर
टोंक. चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की खाद्य सुरक्षा टीम को बुधवार को चंदलाई गांव में घी का नमूना लेते समय कारोबारियों ने धमका दिया। यहां तक नमूना भी नहीं लेने दिया। मौके पर मौजूद मिलावटी घी भी हटा दिया गया।

By: jalaluddin khan

Updated: 09 Jun 2021, 08:55 PM IST

घी का नमूना लेने गई टीम को धमकाया, बैरंग लौटाया
निरीक्षक ने सदर थाने में कराया मामला दर्ज
तहसीलदार पहुंचे पुलिस लेकर मौके पर
टोंक. चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की खाद्य सुरक्षा टीम को बुधवार को चंदलाई गांव में घी का नमूना लेते समय कारोबारियों ने धमका दिया। यहां तक नमूना भी नहीं लेने दिया। मौके पर मौजूद मिलावटी घी भी हटा दिया गया।


वहीं टीम में मौजूद एक कर्मचारी को जाति ***** शब्दों से अपमानित किया। सूचना के बाद पहुंचे तहसीलदार ने पुलिस मौजूद में टीम को टोंक लेकर आए। हालांकि टोंक तक उक्त कारोबारियों ने पीछा किया।


बाद में खाद्य निरीक्षक ने उक्त आरोपियों के खिलाफ सदर थाने में रिपोर्ट दी है। पुलिस के मुताबिक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के खाद्य निरीक्षक मदनलाल गुर्जर ने सदर थाने में रिपोर्ट दी कि वह अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट के मौखिक व मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी के आदेश पर मिलावटी (नकली) घी बनाने वालों पर कार्रवाई करने गए थे।


वह टीम में शामिल कमलेश कुमार व सत्यनारायण नामा के साथ दोपहर में चंदलाई गांव पहुंचे। जहां एक प्रतिष्ठान पर नरसी यादव लोगों को घी बेचते मिला। ऐसे में खाद्य निरीक्षक ने उक्त घी बेचने वाले से खाद्य अनुज्ञा बिक्री प्रपत्र मांगा। इस पर उसने पिता रामअवतार के पास होना बताया। कुछ देर बाद ही रामअवतार यादव भी मौके पर पहुंच गए।


खाद्य निरीक्षक ने उनसे पत्र मांगा तो उन्होंने मना कर दिया। ऐसे में खाद्य निरीक्षक प्रतिष्ठान में मौजूद घी का नमूना लेने लगे। इस पर उन्होंने अन्य लोगों को बुला लिया। ऐसे में वहां भीड़ जमा हो गई। मौजूद लोगों ने खाद्य निरीक्षक को घी का नमूना नहीं लेने दिया।

जबकि वहां एक पीपे में करीब 15 किलो, एक पीपे में 20 किलो, 2-2 किलो घी की भरी दो थैलियां रखी हुई थी। पुलिस को दी गई रिपोर्ट में खाद्य निरीक्षक ने आरोप लगाया कि वहां आए तारण निवासी हनुमान यादव, श्योजी यादव व दिनेश यादव ने उनके साथ अभद्रता की।

साथ ही उनके दस्तावेज छीनने का प्रयास किया। ऐसे में खाद्य निरीक्षक ने अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट को जानकारी दी। इसके बाद तहसीलदार रामपाल मीणा वहां पुलिस को लेकर पहुंचे। इसके बावजूद उक्त लोगों ने खाद्य निरीक्षक को भद्रता कर धमकियां दी तथा टीम में शामिल कार्मिक कमलेश कुमार को जातिसूचक शब्दों से अपमानित कर धमकियां दी।


ऐसे में तहसीलदार टीम को टोंक ले आए। बाद में खाद्य निरीक्षक ने सदर थाने में उक्त सभी लोगों के खिलाफ राजकार्य में बाधा, धमकी देना, जाति ***** शब्दों से अपमानित करने की रिपोर्ट दी है। इधर, सदर थाना प्रभारी दशरथसिंह ने बताया कि खाद्य निरीक्षक ने रिपोर्ट दी है। मामले की जांच की जाएगी।

jalaluddin khan Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned