scriptTreatment of patients on tables and stretchers in Tonk Hospital | टोंक सआदत अस्पताल की ओपीडी 2300 के पार, टेबल व स्ट्रेचर पर मरीजों का उपचार | Patrika News

टोंक सआदत अस्पताल की ओपीडी 2300 के पार, टेबल व स्ट्रेचर पर मरीजों का उपचार

तेज गर्मी और मौसम में होने वाले बदलाव के कारण टोंक सआदत अस्पताल की ओपीडी में मरीजों को आंकड़ा 2300 के पार पहुंच गया है। भर्ती मरीजों को भी बेड कम पडने के कारण टेबल व स्ट्रेचर पर मरीजों का उपचार किया जा रहा है।

 

टोंक

Published: May 13, 2022 03:30:29 pm

टोंक. जिले के सबसे बड़े अस्पताल में बेड की कमी के कारण एक पलंग पर दो मरीजों का उपचार किया जा रहा है। इतना ही नहीं कई मरीजों को तो बेंच व स्ट्रेचर पर ही अपना इलाज कराना पड़ रहा है। वहीं बच्चों के वार्ड में तो एक ही पलंग पर चार-चार बच्चे भर्ती है। ऐसे हालातों में रोगियों में संक्रमण का खतरा बना हुआ है।
टोंक सआदत अस्पताल की ओपीडी 2300 के पार, टेबल व स्ट्रेचर पर मरीजों का उपचार
टोंक सआदत अस्पताल की ओपीडी 2300 के पार, टेबल व स्ट्रेचर पर मरीजों का उपचार
पिछले महीने से राजकीय सआदत अस्पताल टोंक में मौसमी बीमारियों से ग्रसित रोगियों में अचानक इजाफा होने से वार्डों में बेड ही कम पड़ गए हैं। हालात यह है कि सआदत अस्पताल के मेडिकल वार्ड में स्वीकृत 45 बेड है, लेकिन प्रतिदिन 100 रोगी भर्ती हो रहे हैं, जिस कारण मजबूरन बेंच एवं एक बेड पर दो रोगियों को भर्ती होकर इलाज कराना पड़ता है। यहीं हाल मातृ एव शिशु स्वास्थ्य केंद्र का है, जहां भी एक बेड पर चार से पांच बच्चों को भर्ती करके इलाज करना पड़ रहा है।

चिकित्सिक की सलाह बिना नहीं लें:
डॉ. राजीव यादव ने बताया कि तेज गर्मी और मौसम में होने वाले बदलाव के कारण लोग मौसमी बीमारियों के शिकार हो रहे हैं। उन्होंने बताया कि इस मौसम में खान-पान का विशेष ध्यान रखना चाहिए। स्वास्थ्य के प्रति लापरवाही के कारण उल्टी, दस्त, पेट दर्द, लू, तापघात, जी घबराना, आदि लक्षण होने पर तुरन्त डॉक्टर से सलाह लें समय पर अपना उपचार करवाएं, जिससे रोग अधिक नहीं बढ़ पाए।
तारीख ओपीडी आईपीडी
01 मई 1092 223
02 मई 1813 213
03 मई 1072 218
04 मई 2169 283
05 मई 2184 271
06 मई 2353 263
07 मई 2184 233
08 मई 1281 202
09 मई 2378 256
10 मई 2058 273
11 मई 2170 265
&तेज गर्मी के कारण अस्पताल में मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ है। प्रतिदिन मरीजों की संख्या बढऩे से वार्ड में पलंग की कमी को देखते हुए जो भी व्यवस्था हो पा रही उससे काम चलाया जा रहा है।
डॉ. बीएल मीणा, पीएमओ सआदत अस्पताल टोंक।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

Thailand Open: PV Sindhu ने वर्ल्ड की नंबर 1 खिलाड़ी Akane Yamaguchi को हराकर सेमीफाइनल में बनाई जगहIPL 2022 RR vs CSK Live Updates: रोमांचक मुकाबले में राजस्थान ने चेन्नई को 5 विकेट से हरायासुप्रीम कोर्ट में अपने लास्ट डे पर बोले जस्टिस एलएन राव- 'जज साधु-संन्यासी नहीं होते, हम पर भी होता है काम का दबाव'ज्ञानवापी मस्जिद केसः सुप्रीम कोर्ट का सुझाव, मामला जिला जज के पास भेजा जाए, सभी पक्षों के हित सुरक्षित रखे जाएंशिक्षा मंत्री की बेटी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने दिए बर्खास्त करने के निर्देश, लौटाना होगा 41 महीने का वेतनCBI रेड के बाद तेजस्वी यादव ने केंद्र सरकार पर कसा तंज, कहा - 'ऐ हवा जाकर कह दो, दिल्ली के दरबारों से, नहीं डरा है, नहीं डरेगा लालू इन सरकारों से'Ola-Uber की मनमानी पर लगेगी लगाम! CCPA ने अनुचित व्यवहार के लिए भेजा नोटिस, 15 दिन में नहीं दिया जवाब तो हो सकती है कार्रवाईHyderabad Encounter Case: सुप्रीम कोर्ट के जांच आयोग ने हैदराबाद एनकाउंटर को बताया फर्जी, पुलिसकर्मी दोषी करार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.