प्राचीन मूर्ति चोरी पर ग्रामीणों का धरना

आश्वासन पर ग्रामीणों ने धरना किया स्थगित
चोरी गई प्राचीन मूर्तियों की बरामदगी की मांग
9 माह बाद भी पुलिस के हाथ खाली 15 दिनों का दिया समय

नगरफोर्ट. क्षेत्र के बालापुरा गांव के नागेश्वर मोड्या के महादेव मंदिर से पुरातत्व खेड़ा सभ्यता से संबंधित नीलम जैसी दिखने वाले शिवलिंगव समेत अष्ट धातू का नंदी व त्रिशूल आधी चोरी के मामले को लेकर बुधवार को ग्रामीणों ने धरना दिया।

By: jalaluddin khan

Published: 28 Oct 2020, 09:01 PM IST

प्राचीन मूर्ति चोरी पर ग्रामीणों का धरना
आश्वासन पर ग्रामीणों ने धरना किया स्थगित
चोरी गई प्राचीन मूर्तियों की बरामदगी की मांग
9 माह बाद भी पुलिस के हाथ खाली 15 दिनों का दिया समय

नगरफोर्ट. क्षेत्र के बालापुरा गांव के नागेश्वर मोड्या के महादेव मंदिर से पुरातत्व खेड़ा सभ्यता से संबंधित नीलम जैसी दिखने वाले शिवलिंगव समेत अष्ट धातू का नंदी व त्रिशूल आधी चोरी के मामले को लेकर बुधवार को ग्रामीणों ने धरना दिया।

ग्रामीणों में नाराजगी थी कि चोरी की वारदात को 9 महीने हो गए और लम्बे समय बाद भी पुलिस आरोपियों तक नहीं पहुंच पाई। वे मंदिर से चोरी हुए शिवलिंग व अन्य का पता नहीं लगा पाई। लगातार प्रशासन व पुलिस को अवगत कराने के बाद भी जब चोरी का खुलासा नहीं हुआ तो ग्रामीणों ने धरना दिया।

मौके पर पहुंचे देवली उपखंड अधिकारी भरत भूषण गोयल, पुलिस उपाधीक्षक उनियारा राजेश मलिक ने ग्रामीणों से समझाइश की। उन्होंने जल्द ही मामले का खुलासा करने का आश्वासन देकर धरना हटवाया।

इस दौरान ग्रामीणों ने प्रशासन व पुलिस को 15 दिनों का समय दिया कि इस अवधि में चोरी का खुलासा किया जाए। ऐसा नहीं होने पर वे फिर से धरना देंगे। इधर, अधिकारियों ने ग्रामीणों को बताया कि आचार संहिता लगी हुई है और चुनाव भी नजदीक आने से अनशन करना ठीक नहीं होगा।

उपखंड अधिकारी ने कहा कि मूर्ति चोर गिरोह को पकडऩे के लिए प्रशासन की ओर से एक सघन अभियान चलाया जाएगा। ग्रामीणों ने उपखंड अधिकारी के आश्वासन पर धरना स्थगित कर दिया। मोडया महादेव समिति के प्रवक्ता सुरजीत चौधरी ने बताया कि 15 दिनों के अंदर प्रशासन द्वारा मूर्ति चोरी का पर्दाफाश नहीं किया तो नागेश्वर मोडया महादेव समिति के सदस्यों को दोबारा आंदोलन के लिए विवश होना पड़ेगा।

इसके बाद देवली उपखंड अधिकारी भरत भूषण गोयल ने मूर्ति चोरी हुई मंदिर मोडया महादेव बालापुरा पहुंचकर जगह का निरीक्षण किया और मंदिर में ही ग्रामीणों के साथ बैठकर चर्चा की।

इस अवसर पर नगरफोर्ट नायब तहसीलदार नीलमराज बंशीवाल, थानाधिकारी सलीम खान, मोडया महादेव समिति अध्यक्ष कचरावता दिलीप सिंह, अनीस भारती, तुलसीराम जाट, बाबू लाल, जगदीश, रामस्वरूप आदि मौजूद थे। गौरतलब है 3 फरवरी 2020 को मंदिर से प्राचीन शिवलिंग समेत अन्य मूर्तियां चोरी हुई थी। पुलिस इसका खुलासा अब तक नहीं कर पाई।

jalaluddin khan Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned