वायरल बुखार बन रहा है कोविड सेल के लिए मुसीबत, 50 फीसदी रोगी वायरल बुखार से ग्रसित

वायरल बुखार बन रहा है कोविड सेल के लिए मुसीबत, 50 फीसदी रोगी वायरल बुखार से ग्रसित

 

By: pawan sharma

Published: 05 Sep 2020, 08:14 PM IST

देवली. शहर में इन दिनों वायरल बुखार का प्रकोप घर-घर में दस्तक दे चुका है। स्थिति यह है कि हर घर में 50 फीसदी रोगी वायरल बुखार से ग्रसित है। लेकिन बुखार व कोविड-19 के लक्षणों में काफी समानता होने से चिकित्साकर्मियों के साथ आमजन भी भ्रमित चल रहा है। लिहाजा लोगों में गलतफहमी पनपती जा रही है। गौरतलब है कि मानसून सत्र के अंतिम दिनों में सर्दी, जुकाम, खांसी, बुखार, सिरदर्द, छाती का भारी होने सहित बीमारियां घरों में पसरती जा रही है।

इसी प्रकार गत 6 माह से चल रही वैश्विक महामारी कोरोना के लक्षण भी वायरल बुखार के समान है। ऐसे में घर-घर वायरल से ग्रसित रोगी स्वयं को कोविड संक्रमित मानने लगे है। वहीं कोविड-19 संक्रमित व्यक्ति स्वयं को बुखार से पीडि़त मान रहे है। ऐसेे में शहरवासी लापरवाह होकर अपने स्तर पर उपचार ले रहे है।

जो बेहद जोखिमपूर्ण हो सकता है। चिकित्सा अधिकारी डॉ. रजनीश गौतम ने बताया कि कोविड व वायरल बुखार के रोगियों के समान लक्षणों से चिकित्सक भ्रम की स्थिति में है। फिर भी श्वांस में तकलीफ आना व ऑक्सीजन लेवल की जांच कर कोविड व बुखार रोगियों का वर्गीकरण किया जा रहा है।

लेकिन बुखार के अस्पताल आने वाले अधिकतर रोगी सैम्पल देने की बात कह रहे है। जिससे कोविड सेल की मुसीबते बढ़ रही है। उन्होंने बताया कि रोगियों को चिकित्सक परामर्श से पहले स्वयं को संक्रमण का रोगी नहीं मानना चाहिए। वहीं शरीर में पनप रहे लक्षणों को नजर अंदाज नहीं करना चाहिए। चिकित्सकों ने इस भयावह स्थिति में कोरोना गाइड लाइन पालन करने की बात कही।

कोरोना कार्यशाला का समापन, लोगों को सैनेटाईज व सोशल डिस्टेंस की दी जानकारी
राजमहल. कस्बे के राजीव गांधी सेवा केन्द्र भवन में शुक्रवार को सरपंच किशन गोपाल सोयल की अध्यक्षता मे कोरोना कोविड-19 की कार्यशाला का समापन किया गया। इस दौरान संदर्भ व्यक्ति की ओर से मौजूद वार्ड पंचों व ग्रामीणों को कोरोना कोविड-19 को लेकर बचाव के लिए सोशल डिस्टेंस में रहने के साथ ही भीड़ वाले क्षेत्र में मास्क जरूरी, बार बार साबुन से हाथ धोने व सैनेटाईज करने, लम्बे समय तक सर्दी जुकाम व खांसी आदि लक्षण दिखाई देने पर चिकित्सालय में जांच करवाने पर जोर दिया गया।

कार्यक्रम में सरपंच किशन गोपाल सोयल की ओर से लोगों को सम्बोधित कर कोरोना से बचाव के बारे में बताया। इस दौरान वार्ड पंच गोपी लाल खटाणा, धर्मराज लोधा, रामदयाल विजय, लेखराज वर्मा, अंजनी शर्मा, पंचायत सहायक बुद्धिराज मीणा, अविनाश शर्मा, माया वर्मा, कनिष्ट लिपिक भवानी शंकर मीणा आदि मौजूद थे।

pawan sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned