बीसलपुर बांध में पानी की आवक बरकरार

बीसलपुर बांध के केचमेंट एरिया सहित बांध के निकटवर्ती क्षेत्र में गत दिनों मानसून की मेहरबानी के चलते हुई बारिश से बांध में पानी की आवक अभी भी बरकरार है।

By: pawan sharma

Published: 14 Sep 2021, 08:31 AM IST

राजमहल. बीसलपुर बांध के केचमेंट एरिया सहित बांध के निकटवर्ती क्षेत्र में गत दिनों मानसून की मेहरबानी के चलते हुई बारिश से बांध में पानी की आवक अभी भी बरकरार है। हालाकि बीते दो दिनों से बारिश नहीं होने के कारण धीरे-धीरे पानी की आवक भी धीमी पडऩे लगी है।

बांध के कन्ट्रोल रूम के अनुसार बांध का गेज रविवार रात 8 बजे तक 310.76 आरएल मीटर दर्ज किया गया था, जिसमें 13.123 टीएमसी पानी का कुल जलभराव था,जो सोमवार सुबह 8 बजे तक बांध से हो रही पानी की निकासी के साथ ही वाष्पीकरण में खर्च हो रहे पानी के बाद भी दो सेमी की बढ़ोत्तरी के साथ गेज 310.78 आर एल मीटर हो गया, जिसमें 13.196 टीएमसी पानी का भराव था।

वहीं शाम आट बजेदो सेमी की बढ़ोत्तरी के साथ गेज 310.80 आरएल मीटर पर पहुंच गया है, जिसमें 13.270 टीएमसी का जलभराव हो चुका है। इसी प्रकार गत दो दिनों से बारिश के अभाव में जलभराव में सहायक भीलवाड़ा जिले के बिगोद स्थित त्रिवेणी का गेज रोजाना 10 सेमी घटने लगा है।

त्रिवेणी का गेज 10 सेमी घटकर रविवार को 3.50 मीटर रह गया था, जो सोमवार दोपहर तक वापस 10 सेमी घटकर 3.40 मीटर रह गया है। इधर बांध क्षेत्र में बीते 24 घंटों के दौरान बारिश शून्य दर्ज की गई है।


फैलने लगी बाजरे व ज्वार की महक
पचेवर. क्षेत्र में इन दिनों खेतों में लहलाते हुए बाजरे व ज्वार की महक दूर-दूर तक फैलने लगी है। बाजरे व ज्वार की उन्नत खेती के साथ किसान भी खुश नजर आ रहे हैं। ज्वार व बाजरे के सिट्टे पकने से दिन भर आस पास खेतों में अलग अलग चिडिय़ाओं व अन्य कई प्रकार के पक्षीयों की चहक व खिल खिलहाट में हवाओं के साथ दूर-दूर तक आनन्दमय सुकून देती हैं तथा बाजरे की महक के साथ ज्वार भी महक बिखेरने में पीछे नही हैं। अबकि बार क्षेत्र में ज्वार व बाजरे की फसल अच्छी है, लेकिन किसानों ने दोनों फसलों की बुवाई बहुत कम की है।

pawan sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned