पति कलशयात्रा में मस्त, घर पर अकेली पत्नी ने किया कुछ ऐसा काम... जिसे देख सब रह गए दंग

dinesh saini

Publish: Jun, 14 2018 11:41:10 PM (IST) | Updated: Jun, 14 2018 11:43:22 PM (IST)

Tonk, Rajasthan, India
पति कलशयात्रा में मस्त, घर पर अकेली पत्नी ने किया कुछ ऐसा काम... जिसे देख सब रह गए दंग

प्रीती के पति भागचन्द ने बताया कि वह मां प्रेम देवी सहित अन्य के साथ गांव स्थित लाखेड़ा बालाजी के आयोजित नवकुण्ड़ात्मक श्रीराम महायज्ञ में गए थे तो पिता मोहनलाल बकरियां चराने गए थे...

टोंक/बंथली। सीतापुरा निवासी विवाहिता ने गुरुवार प्लास्टिक की रस्सी का फंदा गले में बांध टीन शेड़ की एंगल से झूल जीवन लीला समाप्त कर ली। घर आए पति ने फंदे झूलती पत्नी को देख परिजनों की मदद से फंदे से उतार एम्बुलेंस 108 से दूनी अस्पताल लेकर आया मगर चिकित्सक सुनील कुमार ने मृत घोषित कर दिया। महिला के गले में फंदे के निशान देख चिकित्सक ने पुलिस को घटनाक्रम की जानकारी देकर बुलवा लिया। बाद में पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर मोर्चरी में रखवा पीहर पक्ष, देवली एसडीओ रवि वर्मा व अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक नरेन्द्रमोहन शर्मा को घटना की जानकारी दी। इस दौरान एफएसएल टीम ने भी अस्पताल में पहुंच शव की जांचकर साक्ष्य जुटाए। पीहर पक्ष के लोगों के आने के बाद उनकी सहमति से शव का पोस्टमार्टम करा परिजनों को सौंप दिया। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शर्मा ने बताया कि मृतका सीतापुरा निवासी प्रीती (25) पत्नी भागचन्द मीणा है। उन्होंने बताया कि सुबह गांव में शुरू हुए महायज्ञ की कलशयात्रा में गए थे इसी दौरान प्रीती ने प्लास्टिक थेलों के रेसों से बनी रस्सी को गले में बांध कमरे में लगे टीन शेड़ की लोहे की एंगल में लगा झूल गई। पति जब कलशयात्रा से लोटा तो पत्नी फंदे पर लटकी मिली। बाद में परिजनों की मदद से पत्नी को फंदे से नीचे उतारकर एम्बुलेंस 108 को बुलवाया ओर दूनी अस्पताल में लेकर आया मगर चिकित्सक ने मृत घोषित कर दिया।

एफएसएल ने जुटाए साक्ष्य
अस्पताल में पहुंचे एसडीओ रवि वर्मा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक नरेन्द्रमोहन शर्मा ने डॉ. सुनीलकुमार शर्मा, डॉ. दिव्या जोशी व डॉ. महावीर जैन की टीम के साथ मोर्चरी में पहुंचे ओर गहनता से महिला के शव का निरीक्षण कर पति भागचन्द से पुछताछ की। किया। बाद में पहुंची एफएसएल टीम के विनोद कुमार महिला के शव की जांचकर साक्ष्य जुटाए। चिकित्सकों की टीम का कहना है कि महिला की मौत संभवतया अस्पताल लाए जाने के पांच घंटे पूर्व ही हो चुकी थी। फंदे के निशान गले में अधूरे है जैसे की फंदा लगाने के बाद होने चाहिए। वही बॉडी में फांसी लगने के बाद होने वाली घुटन के लक्षण भी नहीं दिखाई दे रहे है। पूरी जानकारी पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने पर मिल सकेगी।

कलशयात्रा में गए थे परिजन
मृतका प्रीती के पति भागचन्द ने बताया कि वह मां प्रेम देवी सहित अन्य के साथ गांव स्थित लाखेड़ा बालाजी के आयोजित नवकुण्ड़ात्मक श्रीराम महायज्ञ में गए थे तो पिता मोहनलाल बकरियां चराने गए थे। मां ने प्रीती को भी महायज्ञ में चलने के लिए बोला मगर उसने मना कर दिया। ओर पीछे अकेली रहने के बाद उसने फंदा लगाकर मौत को गले लगा लिया। उसने बताया कि उसकी शादी डेढ़ वर्ष पूर्व देवाखेड़ा थाना पेच की बावड़ी निवासी प्रीती से हुई थी। उनके अब तक कोई संतान भी नहीं थी।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned