पेयजल संकट से परेशान महिलाओं ने जाम लगाकर प्रदर्शन किया

देवली-राजमहल मार्ग स्थित कटारियों की ढाणी व खुरड़ों का झौपड़ा गांव की महिलाओं ने पेयजल संकट से परेशान होकर शनिवार सुबह देवली-राजमहल सड़क मार्ग पर जाम लगाकर प्रदर्शन किया।

By: pawan sharma

Published: 27 Jun 2021, 04:42 PM IST

राजमहल. देवली-राजमहल मार्ग स्थित कटारियों की ढाणी व खुरड़ों का झौपड़ा गांव की महिलाओं ने पेयजल संकट से परेशान होकर शनिवार सुबह देवली-राजमहल सड़क मार्ग पर जाम लगाकर प्रदर्शन किया। बीसलपुर-टोंक-उनियारा पेयजल परियोजना के द्वितीय चरण पर रख-रखाव व जलापूर्ति का कार्य देख रही गेमन इण्डिया प्राईवेट लिमिटेड कम्पनी के कार्मिकों की अनदेखी के कारण परियोजना के फिल्टर प्लांट के करीबी गांवों में पर्याप्त जलापूर्ति नहीं होने पर महिलाओं जाम लगाकर प्रदर्शन किया।

लगभग एक घंटे बाद ग्रामीणों व कम्पनी के कार्मिकों की ओर से अवैध कनेक्शन हटाने व पर्याप्त जलापूर्ति करवानेके आश्वासन के बाद जाम हटाया गया। प्रदर्शन कर रही महिलाओं ने बताया कि कटारियों की ढाणी व खुरड़ों का झौपड़ा गांव बीसलपुर-टोंक-उनियारा पेयजल परियोजना के राजमहल फिल्टर प्लांट से महज दो किमी की दूरी पर बसे है।

वहीं उनके गांवों में जलापूर्ति की पाइप लाइन में पानी कई किमी का सफर तय कर पहले गांवड़ी की ओर वापसी में उनकी तरफ आता है, जिससे पानी का दबाव कम हो जाता है। वही गांव में जगह-जगह लोगों ने पाइप लाइनें तोड़कर अवैध नल कनेक्शन ले रखे है, जिससे सार्वजनिक नल पॉइंट में पानी नहीं पहुंच पाता है, जिससे नाराज महिलाओं ने बीसलपुर चौराहे के करीब देवली-राजमहल मार्ग पर कांटों की बाड़ लगाने के साथ ही जाम लगाकर प्रदर्शन करना पड़ा। महिलाओं ने बताया कि जल्द अवैध नल कनेक्शन हटवाकर कार्रवाई नहीं की गई फिर से प्रदर्शन किया जाएगा।

कचरा बना परेशानी का सबब

निवाई. शहर की अलसुबह में जगह-जगह गंदगी ढेर नजर आते है और सड़कों पर पॉलीथिन की थैलियां बिखरी पड़ी रहती है, जिनमें मुंह मारते मवेशी दिखाई देते है, जिनसे मार्निंग वॉक करने वालों और राहगीरों को बचकर निकलना पड़ता है। शहर में बेसहारा मवेशी आमजन और आने वाले लोगों के लिए परेशानी का कारण बन हुए है, लेकिन इनसे निजात दिलाने के लिए प्रशासन द्वारा कोई कारगर नहीं उठाए गए है, जिससे शहर के लोगों के लिए परेशानी का सबब है।

लोगों द्वारा हर चुनाव में यही मांग रही कि शहर को बेसहारा मवेशियों से मुक्त बनाया। हाथ में लेकर घरेलू सामान लेकर जाने वाले लोग मवेशियों की वजह से दुर्घटना का शिकार हो चुके है। आए दिन दुपहिया वाहन चालक गिरकर चोटिल हो जाते हैं,लेकिन प्रशासन द्वारा को मवेशियों से आमजन को बचाने के लिए कोई योजना नहीं बनाई गई।

Show More
pawan sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned