धूल के बवड़ंर में ‘बेबस’ है श्रद्धालु, कछुआ गति से चल रहा है सडक़ निर्माण का कार्य

https://www.patrika.com/rajasthan-news/

By: pawan sharma

Published: 03 Jan 2019, 02:27 PM IST

 

बंथली. सरोली-बूंदी राज्य-राजमार्ग के सरोली से आवां मार्ग का नवीनीकरण कार्य संवेदक की अनदेखी से कछुआ गति से चल रहा है। इससे क्षेत्र ग्रामीणों, राहगीरों एवं वाहन चालकों को परेशानी से गुजरना पड़ रहा हैं। सडक़ निर्माण के लिए की गई खुदाई से गिरकर आए दिन दुपहियां वाहन चालक एवं सवार चोटिल हो रहे है।

 

साथ ही वाहनों की आवाजाही से उड़ रहे धूल के बवंडऱ से सुदर्शनोदय तीर्थ क्षेत्र में विराजित मुनि पुंगव सुधासागर के दर्शनों को जाने वाले श्रद्धालु भी बेबस दिखाई दे रहे है। उल्लेखनीय है की स्वीकृत के बाद संवेदक की ओर से सडक़ निर्माण कार्य आचार संहिता से पूर्व ही शुरू कर कर दिया, लेकिन कार्य धीमी गति से चलने के कारण अभी तक सडक़ निर्माण कार्य गति नहीं पकड़ पाया।

 

साथ ही संवेदक की ओर से खोदी गई पुरानी सडक़ व साइडों के कारण छोटे चौपहियां एवं दुपहियां वाहन चालकों को दुर्घटना का भय बना है। ऐसे में संवेदक की अनदेखी से कभी भी कोई बड़ा हादसा होने का खतरा बना हुआ है।

 

आवां के महावीर चतुर्वेदी, सरोली के मदनलाल जाट, दूनी के सुरेन्द्रसिंह शेखावत ने बताया कि धीमी गति से चल रहे सडक़ निर्माण से आवागमन में परेशानी हो रही है। वाहनों से उड़ रही वाहन चालकों के साथ-साथ आस-पास के गावों के लोगों को बीमारियों की भी सौंगात दे रही है।

 

परेशानी का सबब बने राज्य राजमार्ग पर सानिवि की ओर से सरोली-दूनी मार्ग तीन किमी 5 करोड़ 25 लाख, दूनी-आवां 6 किमी 10 करोड़ के अलावा दूनी-कालाकाकरा, उनियारा, पलाई दूनी, आवां व ख्वासपुरा में साढ़े अठारह किमी मार्ग की 11 करोड़ 57 लाख रुपए की स्वीकृति मिली।

 

इसके बाद आचार संहिता से पूर्व संवेदक ने कार्य शुरू कर दिया, लेकिन संवेदक की अनदेखी से कार्य कछुआ गति से चलने से ग्रामीणों, राहगीरों व वाहनों को परेशानी उठानी पड़ रही है। सरोली-आवां मार्ग पर चल रहे सडक़ निर्माण कार्य में क्षेत्र के एवं बाहर से आने वाले वाहन चालकों को अधिक परेशानी रात के समय उठानी पड़ रही है।

 

संवेदक कार्मिकों की ओर से दिन में कार्य किए जाने के बाद सडक़ पर फैली मिट्टी व पत्थरों को एक तरफ नहीं कर ऐसे छोड़ जाने से रात के समय वाहन चालकों को पन्द्रह मिनट का सफर एक घंटे में तय करना पड़ रहा है।

pawan sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned