Ajmer Jain temple

सोनीजी की नसियां दिगंबर जैन मंदिर

Ajmer Jain temple

विवरण :

सोनीजी की नसियां दिगंबर जैन मंदिर - आगरा गेअ के पास सोनीजी की नसियां के नाम से वियात इस ाव्य ावन का निर्माण 1865 में सेठ
मूलचंद नेमीचंद सोनी ने करवाया और सन् 1885 में इसमें प्रथम तीर्थंकर ऋषीादेव की प्रतिमा स्थापित करवाई गई । यह दो मंजिला इमारत सुंदर रंगों
से पुती हुई है। पिछवाड़े में स्वर्णकारी हॉल है, जिसकी दीवारें व छत कांच की चित्रकारी के काम से परिपूर्ण है। इसके आंगन में 26 मीटर उंचा
मानस्ता ाी शोाायमान है। पीछे की ओर दो मंजिला ावन में जैन कल्याणक, तेरह द्वीप , सुमेरू पर्वत , ागवान की जन्म स्थली अयोध्या नगरी आदि
की सुंदर रचना बेहद लुावनी है। यह संपूर्ण रचना स्वर्णरचित वर्क से ढ़की है। इसे स्वर्ण नगरी ाी कहा जाता है।

सोनीजी की नसियां दिगंबर जैन मंदिर : निर्माण 1865 में सेठ मूलचंद नेमीचंद सोनी ने करवाया

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK