famous temple in indore

इंदौर के फेमस मंदिर

famous temple in indore

विवरण :

खजराना मंदिर- इन्दौर का सबसे प्रसिद्ध गणेश मंदिर खजराना है। इस मंदिर का निर्माण अहिल्या बाई होल्कर के समय में उन्हीं के हाथों द्वारा किया गया था। इस मंदिर की खासियत है कि यहां की मुख्य मूर्ति भगवान गणपति की है, जो केवल सिन्दूर द्वारा निर्मित है। इस मंदिर में केवल गणेश प्रतिमा ही नहीं बल्कि सभी भगवान की मूर्तियां उपस्थित हैं। यहां जो भी भक्त अपनी मनोकामना की पूर्ति के लिये गणेश जी के पीठ पर उल्टा स्वास्तिक बनाता है, गणपति जी उसकी मनोकामना पूर्ण करते हैं। मनोकामना पूर्ण होने के पश्चात पुन: सीधा स्वास्तिक बनाते हैं। यहां गणेश जी की विशेष आराधना बुध वार एवं चतुर्थी को की जाती है।

बिजासन माता मंदिर- शहर के बिजासन माता मंदिर का इतिहास एक हजार साल पुराना है। इस मंदिर की खास बात है कि यहां पूरी की पूरी नौ देवियों के स्वरूप उपस्थित हैं। पिछले समय की बात करें तो काले हिरणों का जंगल होने के कारण तंत्र-मंत्र और सिद्धि के लिए इस मंदिर की खास पहचान बनीं है। इस मंदिर का निर्माण इंदौर के महाराजा शिवाजीराव होलकर ने 1760 में कराया था। बिजासन माता को सौभाग्य और पुत्रदायिनी माना जाता है। जिन किसी के भी विवाह या संतान न हो रही वे इा मंदिर में जरूर जाते हैं और उनकी मनोकामना पूरी होती है। बताया जाता है कि आल्हाऊदल ने भी मांडू के राजा को परास्त करने के लिए माता से मन्नत मांगी थी।

अन्नपूर्णा मंदिर- अन्नपूर्णा, इंदौर में स्थित एक भव्य विशाल मंदिर है। यह इंदौर का अभी तक का सबसे पुराना मंदिर है। इस मंदिर को 9 वीं शताब्दी में भारत और आर्य व द्रविड़ स्थापत्य शैली के मिश्रण से बनाया गया था। जितना यह मंदिर पुराना है उतना ही यह ऊंचा भी है। इस मंदिर की ऊंचाई 100 फीट से भी अधिक है। यह मंदिर, हिंदूओं की देवी अन्नपूर्णा को समर्पित है जिन्हे भोजन की देवी माना जाता है। इस मंदिर के दर्शन करने के बाद किसी का भी घर भोजन से खाली नहीं रहता। इस मंदिर का मुख्य आकर्षण कमल में बैठे भगवान काशी की साढ़े चौदह फुट ऊंची मूर्ति है।

बड़ा गणपति मंदिर- बड़ा गणपति मंदिर, इंदौर के प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है।इस मंदिर में पूरे विश्व से बड़ी और २५ फीट ऊंची गणेश जी की मूर्ति विद्यमान है। इस मंदिर का निर्माण 1875 में किया गया था। किंवदंतियों के अनुसार, अवंतिका ( उज्जैन ) के एक निवासी, श्री दाधीच ने रात में भगवान गणेश की मूर्ति का सपना देखा और अगले दिन उठकर वहां मंदिर बनवाने का फैसला लिया। इस मूर्ति का निर्माण ईटों, चूने के पत्थरों, गुड़, सात पठारों की मिट्टी, घोडों, गाय और हाथियों के पैरों कुचली मिट्टी व कीचड़, पंचरत्नों के पाउडर ( हीरा, पन्ना, मोती, माणिक और पुखराज ) और कई धार्मिक स्थलों के पवित्र जल से किया गया है। मूर्ति का ढ़ांचा, सोने, चांदी, पीतल, तांबे और लोहे से बना हुआ है।

कांच मंदिर- कांच मंदिर, इंदौर का एक भव्य मंदिर है। यह मंदिर सफेद पत्थर से बना हुआ है। इस मंदिर को एक मध्ययुगीन हवेली के रूप में बनाया गया है जिसमें एक चंदवा बालकनी और शिकारा भी है। मंदिर का अंदरूनी हिस्सा पूरी तरह कांच से निर्मित है। कांच मंदिर एक जैन मंदिर है जिसे 20 वीं सदी के मशहूर कपास व्यापारी हुकुमचंद ने बनवाया था। मंदिर में कांच का शानदार काम हुआ है। मंदिर के अंदर दीवारें, छत, खंभे, फर्श, दरवाजे आदि सब कुछ कांच से तैयार किया गया है। मंदिर में भगवान महावीर और तीर्थांकर की मूर्तियां लगी हुई है। इस मंदिर में जैन श्रद्धालु और पर्यटक, दर्शन के लिए जाते है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK