Mahahar Dham Ghazipur

महाहर धाम गाजीपुर

Mahahar Dham Ghazipur

विवरण :

गाजीपुर.  गाजीपुर जिला मुख्यालय से 35 किलोमीटर दूर स्थित महाहर धाम में विश्व प्रसिद्ध प्राचीन तेरह मुखी शिवलिंग है, जो जमीन के अंदर से उस वक्त निकला था जब पुरातन काल में प्रचंड सूखे से निजात पाने के लिए कुएं का निर्माण कराने की कोशिश की गई थी । महाहर धाम के बारे में प्रसिद्ध है कि यहां राजा दशरथ के शब्दभेदी वाण से भूलवश श्रवण कुमार की हत्या हुई थी और श्रवण कुमार के अंधे और बूढ़े मां बाप ने राजा दशरथ को श्राप दिया था। ब्रह्म हत्या से बचने के लिए राजा दशरथ ने इस स्थान पर शिव परिवार व भगवान ब्रह्मा की स्थापना की और यहां महल बनाकर अयोध्या से आते जाते रहते थे। आज भी लोगों का मानना है कि राजादशरथ की गढ़ी जो जमीन के नीचे दबी पड़ी है उसमें खजाना दबा हुआ है। जिसे कई बार निकालने की कोशिश हुई लेकिन कोई कामयाब नहीं हुआ और आज भी वह रहस्य का विषय बना हुआ है।

 

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK