Water-Crisis

वाटर क्राइसेस

Water-Crisis

विवरण :
आधुनिकता की दौड़ में हम जल के महत्त्व को सही माने में महसूस नहीं कर पा रहे हैं. जबकि जल को बचाए रखना नई पीढ़ी की जिम्मेदारी है. प्रत्येक नागरिक को व्यक्तिगत स्तर पर पानी का दुरुपयोग न कर बचत भी करनी चाहिए.

1 : भारत में विश्व की लगभग 16 प्रतिशत आबादी निवास करती है

2 : विश्व के लगभग 88 करोड़ लोगों को पीने का शुद्ध पानी नहीं मिल रहा है

3 : मुंबई और चेन्नई जैसे महानगरों में तो पाइपलाइनों के वौल्व की खराबी के कारण प्रतिदिन 17 से 44 प्रतिशत पानी बेकार बह जाता है

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK