रामानंद सागर की 'रामायण' में हुआ खुलासा, असली माता-सीता का हरण नहीं कर पाए थे रावण, यहां जानें सच्चाई

By: भूप सिंह
| Updated: 18 Apr 2020, 05:29 PM IST
रामानंद सागर की 'रामायण' में हुआ खुलासा, असली माता-सीता का हरण नहीं कर पाए थे रावण, यहां जानें सच्चाई
Ram, Sita, Ravana

क्या सही में असली सीता का हरण कर ले गए थे रावण, रामानंद सागर की 'रामायण' में हुआ खुलासा, जानें सच्चाई.....

 

रामानंद सागर ( Ramananad Sagar ) की 'रामायण' ( Ramayan ) में ऐसे कई रहस्यों से पर्दा उठाया गया है जो हर कोई नहीं जानता था। सबसे बड़ा रहस्य तो यह है कि तीनों लोकों में अपने अंहकार और अपार शक्तियों के लिए पहचाने जाने वाले रावण ( ravana ) को भी ये पता नहीं था कि वे असली माता सीता ( Sita ) का हरण नहीं कर पाएं। वे माता सीता का हरण कर समझ रहे थे कि राम की सीता का उठा लाया हूं। जबकि रामानंद सागर की 'रामायण' में बताया गया है कि राम को पहले ही पता गया था कि गरुड़ पक्षी पर रावण, सीता को हरण कर ले जाएंगे।

 

Ram, Sita, Ravana

उन्होंने पहले ही अग्नि देव से विनती कर सीता की आत्मा को उन्हें सौंप दिया था, जब तक कि वे रावण का वध नहीं कर देंगे। दरअसल, रावण, सीता को हरण कर ले गए थे, लेकिन वे केवल परछाई सीता ही थीं। उनकी आत्मा को तो पहले राम ने अग्नि देव को सौंप दिया था। यह बात राम अपने भाई लक्ष्मण को भी नहीं बताई थी। जबकि वे अपने भाई से कोई भी बात नहीं छिपाते थे।

 

Ram, Sita, Ravana

राम से विद्रोह के लिए तैयार हो गए थे लक्ष्मण
रावण का वध करने के बाद राम ने विभिषण को लंका का महाराज घोषित कर उनका राज्यभिषेक कराया। उसके बाद लक्ष्मण ने भाई राम से माता—सीता को लाने की बात रखी। इस पर राम ने कहा कि लक्ष्मण, सीता को मेरे पास आने से पहले अग्नि से गुजरना होगा। इस बात पर लक्ष्मण, राम से खफा हो गए और यहां कि उन्होंने अपने भाई को माता सीता को अग्नि परीक्षा से गुजरने के लिए विद्रोह करने तक धमकी दे डाली थी।

इसके बाद राम ने लक्ष्मण को बताया कि असल में वे ऐसा इसलिए कर रहे हैं ताकि असली सीता को हासिल कर सके। उन्होंने बताया कि यह तो सीता की परछाई है और उनकी सीता की आत्मा तो अग्नि देव के पास है। इसलिए असली सीता को पाने के लिए उन्हें अग्नि से गुजरना पड़ा।

Show More