किसान आंदोलन: रायामण के राम के बाद अब लक्ष्मण का विदेशी हस्तियों पर फूटा गुस्सा, रिहाना को लगाई जमकर लताड़

By: Sunita Adhikari
| Published: 06 Feb 2021, 09:51 PM IST
किसान आंदोलन: रायामण के राम के बाद अब लक्ष्मण का विदेशी हस्तियों पर फूटा गुस्सा, रिहाना को लगाई जमकर लताड़
Sunil Lahri

  • सुनील लहरी ने विदेशी हस्तियों को लगाई लताड़
  • देश के मुद्दे में दखल न देने की कही बात

नई दिल्ली: देश में बीते दो महीने के ज्यादा वक्त से कृषि कानून के खिलाफ किसान आंदोलन (Farmers Protest) चल रहा है। यह आंदोलन अब अंतर्राष्ट्रीय मुद्दा बन चुका है। हाल ही में अमेरिकन पॉपस्टार रिहाना (Rihanna) ने किसानों के समर्थन में ट्वीट किया। जिसके बाद कई और विदेशा हस्तियों ने भी इस आंदोलन को सपोर्ट किया है। जिसके बाद भारत के कई सेलेब्स ने सरकार का समर्थन करते हुए कहा कि किसान आंदोलन देश का आंतरिक मुद्दा है, इसमें बाहरी लोगों को दखल देने का कोई अधिकार नहीं है।

कांग्रेस नेता ने पूछी कंगना रनौत की राजनीतिक योग्यता, एक्ट्रेस बोलीं- मैं लीड करने के लिए बेस्ट हूं

हाल ही में 'रामायण' (Ramayan) शो के राम यानि अरुण गोविल (Arun Govil) ने भी विदेशी हस्तियों को करारा जवाब दिया था। उन्होंने कहा था कि कुछ देश विरोधी शक्तियां है जो घातक एजेंडा चला रही हैं। रामायण के राम के बाद अब लक्ष्मण यानि सुनील लहरी (Sunil Lahri) ने ट्वीट कर रिहाना और बाकी हस्तियों को जमकर लताड़ लगाई है। उन्होंने लिखा, 'रिहाना या किसी और विदेशी को हमारे देश के किसान आंदोलन या किसी भी मामले में दखल देने का कोई अधिकार नहीं है। अपनी प्रॉब्लम को सॉल्व करने के लिए हम सक्षम है।' सुनील लहरी का ये ट्वीट काफी वायरल हो रहा है। फैंस उनके ट्वीट पर तरह-तरह के रिएक्शन दे रहे हैं।

बता दें कि इससे पहले अरुण गोविल ने ट्वीट कर लिखा था, 'किसानों के प्रदर्शन के नाम पर 26 जनवरी के दिन देश की राजधानी दिल्ली में जो हुआ उसे कृषि प्रधान देश के अन्नदाता के शर्मसार कर देने वाली छवि पूरी दुनिया के सामने पहुंची हैl इस तरह देखकर लगता है कि कुछ देश विरोधी शक्तियां है जो घातक एजेंडा चला रही है।'

किसान आंदोलन बीच बेयर ग्रिल्स ने पीएम मोदी के लिए कही बड़ी बात, बोले- ओहदों के पीछे हम सब एक जैसे हैं

इसके बाद अरुण गोविल ने विदेशी हस्तियों को दखन न देने की बात कही। उन्होंने ट्वीट कर लिखा, 'भारत कृषि प्रधान और सर्वे भवंतु सुखिनः के आदर्श पर चलने वाला श्रीराम का देश है। हमारे देश की सरकार और मा.प्रधानमंत्री को अपने घरेलू विवाद समझने सुलझाने की पूरी समझ है। किसान आंदोलन के मुद्दे पर रेहाना या किसी भी विदेशी व्यक्ति या देश को इसमें हस्तक्षेप करने का कोई अधिकार नहीं है।'