Taarak Mehta Ka Ooltah Chashma : लॉकडाउन में पोपटलाल बने बावर्ची, सोसायटी की महिलाएं हुईं बेहाल

By: पवन राणा
| Published: 17 Oct 2020, 07:14 PM IST
Taarak Mehta Ka Ooltah Chashma : लॉकडाउन में पोपटलाल बने बावर्ची, सोसायटी की महिलाएं हुईं बेहाल
Taarak Mehta Ka Ooltah Chashma : लॉकडाउन में पोपटलाल बने बावर्ची, सोसायटी की महिलाएं हुईं बेहाल

कॉमेडी शो 'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' ( Taarak Mehta Ka Ooltah Chashma ) में पत्रकार पोपटलाल ( Popatlal ) को लॉकडाउन के कारण अपने घर के फुलटाइम बावर्ची होने का एहसास हो रहा है। अपने बेटे और सोसायटी के बाकी सदस्यों के जीवन में लॉकडाउन के चलते आ रही परेशानियों की जांच पड़ताल करने के लिए चंपकलाल ( Champaklal ) सभी को बारी-बारी से फोन करते हैं।

मुंबई। कॉमेडी शो 'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' ( Taarak Mehta Ka Ooltah Chashma ) की गोकुलधाम सोसाइटी ( Gokuldham Society ) के सभी सदस्य लॉकडाउन के चलते परेशान हैं। अन्य सदस्यों की तरह पोपटलाल ( PopatLal ) भी परेशान हैं। उन्हें लॉकडाउन में शादी करने की इच्छा हो रही है। वहीं, सोसाइटी के पुरुष मंडल 'वर्क फ्रॉम होम' और अपनी काम की दिनचर्या के कारण परेशान हो चुके हैं। महिला मंडल अपने पतियों के हर वक्त बदलते स्वभाव और बच्चों के सुस्त बर्ताव से तंग आ चुकी हैं।

यह भी पढ़ें: Prabhas और सैफ अली की फिल्म 'आदिपुरुष' का बजट 400 करोड़, अब तक की सबसे महंगी भारतीय फिल्म!

पोपटलाल को हुआ जीवन साथी की कमी का अहसास
पत्रकार पोपटलाल को लॉकडाउन के कारण अपने घर के फुलटाइम बावर्ची होने का एहसास हो रहा है। वैसे तो उन्हें खुद के लिए खाना बनाना पड़ता था, लेकिन कम से कम उन्हें बाहर खाने, सहयोगियों और अन्य लोगों से मिलने का भी विकल्प था। हालांकि अब, घर पर ही अटके रहने के कारण, उनकी रोजमर्रा की दिनचर्या की वजह से उन्हें एक साथी की कमी महसूस होने लगी है। घर के वही काम रोज अकेले करते-करते, वह एक जीवन साथी के लिए तरस रहे हैं।पोपटलाल, चंपकलाल को समझाते है कि उन्हें घर के सभी काम खुद करने में कोई आपत्ति नहीं है, पर इसके कारण उनका जीवन बेस्वाद हो चुका है। यह सब सुनने के बाद चंपकलाल सोचते हैं कि सिर्फ पोपटलाल ही नहीं बल्कि सोसाइटी के सभी रहिवासी लॉकडाउन की पीड़ा से गुजर रहे हैं और इस समस्या का जल्द से जल्द कोई समाधान ढूंढ़ना पड़ेगा।

यह भी पढ़ें: मैंने कुछ चीजों से समझौता नहीं किया, इसलिए गंवानी पड़ीं 20-30 मूवीज- Mallika Sherawat

हर घर में परेशानी
अपने बेटे और सोसायटी के बाकी सदस्यों के जीवन में लॉकडाउन के चलते आ रही परेशानियों की जांच पड़ताल करने के लिए चंपकलाल सभी को बारी-बारी से फोन करते हैं। सबसे पहले वह माधवी को कॉल करते हैं। वह बताती है कि भिड़े आजकल अपने ऑनलाइन क्लासेस में इतना व्यस्त हो चुके हैं कि वह घर में होने के बावजूद भी उपलब्ध नहीं होते, उनके ऑनलाइन क्लासेस की लिस्ट घर में बिखरी पड़ी रहती है। चंपकलाल अगला फोन कोमल हाथी को मिलाते हैं। वह अपने कहती हैं कि किस तरह वह गोली के खाने, सोने, ऑनलाइन मूवीज, शोज और गेमिंग से परेशान हो गयी हैं। डॉ. हाथी लगातार अपने कॉल्स पर व्यस्त होने के कारण कोमल को खुद ही घर की सारी भाग-दौड़ करनी पड़ती है। रोशन का भी यही हाल है। सोढ़ी हर वक्त सिर्फ पार्टी के बारे में सोचते रहते हैं।

यह भी पढ़ें: जिस गंभीर बीमारी के लिए दुनियाभर के डॉक्टर्स ने बता दी थी सर्जरी, अनिल ने इससे ऐसे पाया छुटकारा

तनाव में सोसायटी के महिला-पुरुष
चंपकलाल फिर बबीता को फोन लगाते हैं। वह उन्हें अय्यर को लेकर हो रही चिंता के बारे में बताती है। अय्यर हर वक्त कोरोना वायरस के इलाज के विकास के बारे में पढ़ते, देखते रहते हैं। वह वैज्ञानिक समुदाय में हर छोटी जानकारी जानने में व्यस्त रहते हैं। आखिरकार चंपकलाल, अंजलि को फोन करते हैं, तो उनके घर का माहौल भी कुछ ऐसा ही हो चुका है। वह चंपक चाचा को बताती है कि उनके पति तारक अपने काम और बॉस को लेकर काफी तनाव महसूस कर रहे हैं। सुबह से रात देर तक वह अपने लैपटॉप में व्यस्त रहते हैं। यहां तक कि उन्हें एक शाम घर की डिनर डेट भी रद्द करनी पड़ी और नतीजन अंजलि को अकेले ही खाना पड़ा।