'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' को लेकर सोशल मीडिया पर भिड़े लोग, ट्रेंड कर रहा TMKOC

By: पवन राणा
| Published: 26 Feb 2021, 10:35 PM IST
'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' को लेकर सोशल मीडिया पर भिड़े लोग,  ट्रेंड कर रहा TMKOC
Taarak Mehta Ka Ooaltah Chashmah Trending

  • तारक मेहता शो ( Taarak Mehta Ka Ooaltah Chashmah ) सोशल मीडिया पर हुआ ट्रेंड
  • प्रशंसा और आलोचाना से भरे मैसेज हो रहे वायरल
  • तारक मेहता शो में चल रहा जबरदस्त ट्विस्ट

मुंबई। कॉमेडी शो 'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' (TMKOC) सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर रहा है। लोग इस शो के बारे में अपनी-अपनी राय रख रहे हैं। शो के ट्रेंड होने की वजह है शो का कंटेंट। कुछ लोगों का कहना है कि Taarak Mehta Ka Ooaltah Chashmah ओवररेटेड शो है। जबकि अन्य का कहना है कि इससे अच्छा, रियलिस्टिक और फैमिली के साथ देखे जाने वाले यह सबसे बेहतरीन शो है।

यह भी पढ़ें : 'मैंने प्यार किया' के बाद भाग्यश्री ने हिमालय से कर ली थी शादी, पति पर यूं गुस्साए थे फैंस

सोशल मीडिया साइट ट्विटर पर TMKOC ट्रेंड में एक यूजर ने लिखा,' TMKOC एंटरटनेमेंट फैमिली शोज में से सबसे अच्छे शोज में से एक है। हां,'भाभी जी घर पर हैं मेरा नया फेवरिट है। इसकी स्टारकास्ट और व्यंग्य मुझे पसंद है।'

यह भी पढ़ें : शाहिद की पत्नी मीरा की पीठ पर ये टैटू देख बोले लोग- मोदी है तो मुमकिन है, जानिए क्यों

वहीं, एक अन्य यूजर का कहना है कि मुझे तारक मेहता शो इसलिए पसंद नहीं है कि इन दिनों पूरे एपिसोड देखते हैं और वो जेठालाल का सपना निकलता है।'

एक दूसरे यूजर ने लिखा,' बापूजी के चरण जेठालाल के लिए संसार हैं। उसके जैसा आदर्श बेटा नहीं मिलेगा, जो भी TMKOC को पसंद नहीं करता है, वह अपने पैरेंट्स की इज्जत नहीं करता है।'

एक यूजर ने लिखा,'TMKOC इसलिए सबसे अच्छा है क्योंकि इन दिनों भारतीय टीवी पर दिखाई जाने वाले शोज में से यही एक है जो असल जीवन के आदर्श और मूल्य दिखाता है।'

एक अन्य यूजर ने लिखा,' अब्दुल के परिवार को इस शो में इसलिए नहीं दिखाया जाता कि अगर ऐसा करेंगे तो शो के दूसरे पात्रों के लिए स्क्रीन टाइम कम मिलेगा।'

गौरतलब है कि 'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' शो में इन दिनों एक नया टॉपिक चल रहा है। इसमें मुख्य किरदार जेठालाल को अपनी दुकान बेचनी पड़ रही है। इसकी वजह है उसके किसी क्लाइंट का पेमेंट नहीं देना। उसके पेमेंट नहीं देने के कारण जेठालाल को बाजार से सामान नहीं मिल रहा है। दुकान को बचाने के लिए जेठालाल, उसका परिवार और सोसायटी वाले जुगत लगा रहे हैं। एक तरफ जेठालाल अपने गांव की पुश्तैनी जमीन को बेच पैसों का इंतजाम करना चाहता है, तो सोसायटी वाले अपनी बचत के पैसे देेकर उसकी दुकान बचाना चाहते हैं।