टीवी पर राधा-कृष्ण की भूमिका निभाने वाले स्टार्स, रियल लाइफ में ऐसे मनाते हैं कृष्ण जन्मोत्सव
Mahendra Yadav
| Updated: 23 Aug 2019, 07:37:22 PM (IST)
टीवी पर राधा-कृष्ण की भूमिका निभाने वाले स्टार्स, रियल लाइफ में ऐसे मनाते हैं कृष्ण जन्मोत्सव
sumedh

हर कोई कृष्ण के जन्मोत्सव krishan janam ashtami का साक्षी बनना चाहता है। टीवी इंडस्ट्री भी इससे अछूती नहीं है।

कल पूरे देश में कृष्ण जन्माष्टमी की धूम रहेगी। देश के कोने-कोने में भगवान कृष्ण की लीलाओं को प्रदर्शित किया जाता है। हर कोई कृष्ण के जन्मोत्सव का साक्षी बनना चाहता है। टीवी इंडस्ट्री भी इससे अछूती नहीं है। मुंबई में जगह-जगह दही हांडी फोडऩे का कार्यक्रम पूरे हर्षोउल्लास के साथ मनाया जाता है। इस मौके पर टीवी स्टार्स ने बताया कि उनकी लाइफ में जन्माष्टमी का क्या महत्व है।

सुमेध मुदगलकर
टीवी शो 'राधा कृष्ण' के एक्टर सुमेध ने कहा,'मैं बचपन से भगवान कृष्ण की कहानियां सुना करता था कि वह माखन के लिए किस तरह अपनी मां यशोदा को बहुत परेशान किया करते थे। ऐसे में खुद कृष्ण बनना मेरे लिए बहुत सौभाग्य की बात है। मैं खुद कृष्ण बनकर उनके साथ हुए हर पल को महसूस कर पा रहा हूं। इस बार उनके सबसे पसंदीदा काम को करना यानी मटकी फोड़ना मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण पल रहा। मटकी फोड़ना हमें यह सिखलाता है कि हम सभी को मिलकर हमेशा एक टीम में काम करना चाहिए, जिससे वह कार्य हमेशा सफल होता है।'

 

 

टीवी पर राधा-कृष्ण की भूमिका निभाने वाले स्टार्स, रियल लाइफ में ऐसे मनाते हैं कृष्ण जन्मोत्सव

मल्लिका सिंह
टीवी शो 'राधा कृष्ण' में राधा की भूमिका निभा रहीं मल्लिका ने कहा, 'बचपन से सुना हैं कृष्ण बहुत नटखट थे, अपनी मां यशोदा से चोरी छिपे माखन चुराकर खाते थे। गोपियों की पानी से भरी मटकी फोड़ते थे। मुंबई में कृष्ण जन्मोत्सव को बहुत धूमधाम से मनाया जाता है और दही हंडी फोड़ी जाती थी। मैं इस बार इस त्यौहार को अपनी आंखों से देखने वाली हूं, जिसके लिए मैं बहुत एक्साइटेड हूं।'

 

टीवी पर राधा-कृष्ण की भूमिका निभाने वाले स्टार्स, रियल लाइफ में ऐसे मनाते हैं कृष्ण जन्मोत्सव

ऋषिराज पवार

शो में राधा के सखा की भूमिका निभा रहे ऋषिराज ने कहा, 'मैं स्कूल से कृष्ण जन्माष्टमी पर मनाई जानेवाली दही हंडी को बहुत एन्जॉय करता हूँ। यह दिन बहुत ही महत्वपूर्ण है। मुंबई में लगभग एक महीने पहले से हंडी फोड़ने की प्रैक्टिस शुरू हो जाती है। एक महीने पहले से ही हर जगह बहुत अच्छा माहौल हो जाता है। फेस्टिवल्स हमेशा से ख़ास होते हैं। जब हम सब एक साथ आकर एक दिन को धूमधाम से मनाते हैं। टीम बिल्डिंग का सबसे बड़ा उदहारण है गोविंदा, जहां आपसी तालमेल और सामंजस्य से ह्यूमन पिरामिड बनाया जाता है। देश के कोने-कोने में भगवान कृष्ण की लीलाओं को प्रदर्शित किया जाता है। हर कोई कृष्ण के जन्मोत्सव का साक्षी बनना चाहता है। टीवी इंडस्ट्री भी इससे अछूती नहीं है। मुंबई में जगह-जगह दही हांडी फोडऩे का कार्यक्रम पूरे हर्षोउल्लास के साथ मनाया जाता है।

Show More