स्कूल नहीं गया चौथी कक्षा का बच्चा, पिता डाटेंगे इस डर से पी गया कीटनाशक

स्कूल नहीं गया चौथी कक्षा का बच्चा, पिता डाटेंगे इस डर से पी गया कीटनाशक

Dinesh Saini | Publish: Feb, 19 2019 11:24:39 AM (IST) Udaipur, Udaipur, Rajasthan, India

छात्र ने महज इस वजह से कीटनाशक पी लिया कि वह स्कूल नहीं गया था तो साथी बच्चों ने उसके पिता द्वारा घर जाने पर डांटने की बात कह दी...

उदयपुर।

जिले के फलासिया पंचायत समिति के खरडिय़ा गांव मे सोमवार को चौथी कक्षा में पढऩे वाले एक छात्र ने महज इस वजह से कीटनाशक पी लिया कि वह स्कूल नहीं गया था तो साथी बच्चों ने उसके पिता द्वारा घर जाने पर डांटने की बात कह दी। अनिल नाम का यह बच्चा इस बात से इतना घबरा गया कि उसने घर जाकर विषाक्त पदार्थ का सेवन कर लिया।

घटना के वक्त बच्चे के पिता प्रभूलाल वहीं बाहर ही बैठे थे जिन्होंने अनिल की हालत बिगड़ती देख पूछा तो उसने बताया कि डांट के डर से उसने विषाक्त का सेवन कर लिया है। इस पर घबराए हुए हालात में अनिल को लेकर उसके पिता बाइक से झाडोल पहुंचे। जहां उसकी गंभीर हालत को देख चिकित्सकों ने उसे 108 एम्बूलेंस से उदयपुर महाराणा भूपाल चिकित्सालय रेफर कर दिया। एमबी अस्पताल में उसका इलाज किया जा रहा है। डॉक्टरों ने बच्चे अनिल की हालत में सुधार बताया है।


वहीं इधर... अस्पताल में आईसीयू के 100 बेड बढाए जाएंगे
जयपुर के सवाई मानसिंह अस्पताल में स्वाइन फ्लू समेत अन्य विभागों में गंभीर मरीजों की बढती संख्या से अस्प्ताल की आईसीयू व्यवस्थाएं चरमराने लगी हैं। अब मरीजों को तत्काल आईसीयू मिले और उनकी जान बचाइ जा सके इसके लिए राज्य सरकार ने प्रयास करना शुरू कर दिया है। एसएमएस अस्पताल के सूत्रों के अनुसार मेडिकल, कार्डियोलॉजी समेत अन्य सभी आईसीयू में 100 बिस्तरों की बढोतरी करने की तैयारी चल रही है। पहले चरण में मौजूदा आईसीयू में 25 बिस्तर बढाए जाएंगे। एसएमएस अस्पताल में आईसीयू में बिस्तरों की संख्या बढाने की मंजूरी सरकार ने दी दी है और जल्द ही इस पर काम शुरू होने वाला है। एसएमएस अस्पताल में मेडिकल आईसीयू समेत अन्य सभी विभागों में आईसीयू में बिस्तरों की संख्या 150 से ज्यादा है। लेकिन आईसीयू में बिस्तर की सबसे ज्यादा मारामारी मेडिकल आईसीयू में रहती है। अभी मौजूदा समय में मेडिकल आईसीयू और सुपर स्पेशियलिटी आईसीयू में 60 बेड हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned