पांच वर्ष में साढ़े 94 हजार बच्चे जन्मजात बीमार, एक करोड़ से ज्यादा खर्च कर बदली जिंदगी

- राष्टीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम

By: bhuvanesh pandya

Published: 17 Oct 2020, 09:09 AM IST

भुवनेश पंड्या

उदयपुर. जिले में पिछले पांच वर्ष में साढ़े 94 हजार बच्चे जन्मजात बीमारियों वाले सामने आए हैं। सरकार ने उनका और उनके माता-पिता का दर्द महसूस किया और एक करोड़ रुपए से ज्यादा का खर्च कर इनमें से जरू रत के अनुसार साढ़े 66 हजार बच्चों का जीवन बदल दिया।

------

राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम 2015 में शुरू किया गया। जिसमें हजारों बच्चों को नया जीवन मिला और उनकी बीमारियां दूर हुई। - 38 तरह की बीमारियां व जन्मजात विकृतियां शामिल है, जो बच्चा सरकारी स्कूल या आंगनबाड़ी में पढ़ रहा है, या स्कूल नहीं जा रहा है। ऐसे छह माह से 18 वर्ष तक की उम्र के बच्चों के लिए है। - हर बीमारी के लिए अलग-अलग राशि तय की गई है। यह राशि तय ऑपरेशन के बाद सीधे ही निजी या सरकारी चिकित्सालय को दी जाती है।
- वर्तमान में उदयपुर में शहर के साथ ही जिले में 12 ब्लॉक पर कुल 13 मोबाइल हैल्थ टीम कार्यरत है। जिसमें 52 लोग है। इनमें हर ब्लॉक में दो टीम में चार आयुष चिकित्सक व दो स्वास्थ्य कार्यकर्ता शामिल हैं। जो तय माइक्रो प्लान के तहत सरकारी स्कूलों और आंगनबाडिय़ों में जाकर विभिन्न बीमारियों का जरूरत के हिसाब से उपचार शुरू करते हैं।
- जिले में इन पांच वर्षों में 94410 बीमार बच्चे सामने आए, जिनमें से 66403 बच्चों का उपचार किया गया। अब तक 663 अलग-अलग प्रकार की सर्जरी की गई हैं।

-----
2015 से अगस्त 20 तक
- कुल आरबीएसके शिविर- 125
- कुल मोबाईल डेन्टल वेन केम्प- 92
- वितरित चश्में-199
- हियरिंग ऐड - 97
----
बीमारी का नाम- चाइल्ड सर्जरी
जन्मजात हृदय रोग- 154
कंटे फंटे होंट और तालू-126
जन्मजात पैरों में विकृति-100
जन्मजात केटरेक-89
हिप ज्वाइंट - 28
कान की बीमारियां-57
चिपकी हुई जबान- 9
जन्मजात न्यूरल ट्यूब डिफेक्ट- 13
अन्य सर्जरी- 02
----
कुल- 668
----

हमने प्रयास कर सरकार के निर्देशानुसार इन बच्चों का जीवन सुधारने की शुरुआत की है, ग्रामीण अंचल में लोग ज्यादा सतर्क नहीं होने से समस्या आती है, लेकिन टीम पूरी मेहनत से कार्य कर रही है।

डॉ अशोक आदित्य, आरसीएचओ उदयपुर

bhuvanesh pandya
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned