आदिवासी अपनी पहचान का ‘आधार’ बनाने में भी परेशान

कोटड़ा जैसे इलाकों में आधार कार्ड को लेकर गफलत के साथ सुविधाएं भी न्यून

By: Mukesh Kumar Hinger

Published: 23 Dec 2020, 11:47 PM IST

मुकेश हिंगड़ / उदयपुर. नागरिकों को आधार नाम से एक विशिष्ट पहचान संख्या देने के लिए आधार कार्ड बनाने में आदिवासी बाहुल्य कोटड़ा का आदिवासी अपनी पहचान का ‘आधार’ कार्ड बनाने के लिए परेशान हो रहा है। यह अलग बात है कि वर्ष 2011 की जनगणना के मानक पर वहां 97.83 प्रतिशत लोगों के आधार कार्ड कागजों के रिकार्ड में बन गए है लेकिन हकीकत यह है कि गफलत के चलते वहां लोगों के हाथ में आधार नहीं पहुंचा है।
लोगों की इस बात को प्रशासन मानने को तैयार नहीं था लेकिन अब जब खाद्य सुरक्षा योजना में आधार सीडिंग के टारगेट में यह सामने आया कि वास्तव में लोगों तक उनका पहचान का कार्ड नहीं पहुंचा। अभी जिनको नए आधार कार्ड बनाने है उसके लिए भी इस आदिवासी क्षेत्र में कतारें लगी है क्योंकि पूरे क्षेत्र में मात्र चार जगह ही आधार कार्ड बनते है, उसमें भी कोई तकनीकी समस्या या स्टाफ नहीं आया तो काम नहीं होगा। वहां के जनप्रतिनिधियों का कहना है कि आधार की मशीने इस क्षेत्र में ज्यादा लगानी चाहिए और अभियान चलाकर आदिवासी का सहज व सरल तरीके से कार्ड बन जाए यह प्रबंध प्रशासन को करने चाहिए।

गफलत को ऐसे समझे
- जिनके आधार कार्ड बहुत पहले बने उन तक डाक महकमे से पहुंचे ही नहीं
- जिन्होंने आधार बनाए उनको आधार पंजीयन नंबर की पर्ची तक नहीं दी गई
- आधार बना दिया लेकिन आधार का प्रिंट निकलवाने के लिए उनके पास कोई दस्तावेज नहीं
- आधार नहीं मिलने से लोगों ने एक से ज्यादा बार तक पंजीयन करा दिया, फिर भी आधार हाथ में नहीं आया

मात्र चार जगह बनते आधार
कोटड़ा क्षेत्र में मात्र चार जगह ही आधार कार्ड बनते है। क्षेत्र में इस समय कोटड़ा, गोगरूद, मांडवा व मेडी में आधार कार्ड बनते है। वहां आधार बनाने के लिए भारी भीड़ भी है, वहां कतारें लगी रहती है। आसपास के गांव पैदल सफर दूर कर वहां पहुंचते और मशीन काम नहीं कर रही या आधार नहीं बन रहे तो उनको वापस निराश लौटना पड़ता है।

प्रशासन भी बेबस
प्रशासन का मानना है कि कोटड़ा में बड़ी संख्या में लोगों के आधार बनने है लेकिन वे बेबस है। उनका मानना है कि आधार कार्ड बनाने के लिए उनके पास उस क्षेत्र में तकनीकी रूप से मजबूत काम करने वाला भी नहीं मिल रहा है। साथ के साथ बड़े स्तर पर शिविर लगाने की योजना बनाने में भी कई तकनीकी और अन्य दिक्कतें सामने है।

एक नजर में कोटड़ा

कुल ग्राम पंचायते 66
वर्ष 2011 के अनुसार जनसंख्या 230532
कुल जारी आधार कार्ड 225533
वर्ष 2011 के अनुसार बने आधार का प्रतिशत 97.83

इनका कहना है...
कोटड़ा क्षेत्र में आधार जिनके बनाने है उनकी संख्या ज्यादा है। टीम इसके लिए काम कर रही है, नियमित फॉलोअप भी कर रहे है। इसमें और अच्छा करने का प्रयास कर रहे है।
- चेतन देवड़ा, जिला कलक्टर उदयपुर

Mukesh Kumar Hinger Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned