VIDEO : इस सरकारी दफ्तर में आधार बनाने के नाम पर ले रहे हैं नोट

Mukesh Hingar | Publish: Sep, 27 2018 10:57:55 PM (IST) Udaipur, Rajasthan, India

www.patrika.com/rajasthan-news

उदयपुर. जिला मुख्यालय पर आधार का फर्जीवाड़ा थमा ही नहीं है कि अब उदयपुर जिले के सायरा में लूट का मामला सामने आया है। यहां तो पंचायत समिति कार्यालय परिसर में ही लूट का अड्डा पिछले छह माह से चल रहा है। मुफ्त सेवा के नाम पर कार्यालय में ही ‘मेवा’ लिया जा रहा है। सूचना एवं प्रौद्योगिकी विभाग की पिछले थोड़ी हलचल हुई थी, तब यहां लूट के दो अड्डे बना दिए। एक निजी दुकान पर फॉर्म भरवाकर 150 से 500 वसूले जाते हैं और फिर उन्हें फॉर्म के साथ पंचायत समिति भेजा जाता है। वहां 30 रुपए की फीस अलग से ली जाती है। यानी एक उपभोक्ता को दो बार लूटा जा रहा है। उदयपुर जिले में मारवाड़ की सीमा पर स्थित सायरा पंचायत समिति परिसर में पत्रिका टीम ने स्टिंग किया तो अपनी पहचान के लिए आधार बनाने की लाइन लगी थी और मुफ्त की बजाय यहां मनमर्जी से राशि लेकर जेब के हवाले हो रही थी। पंचायत समिति परिसर के एक हॉल में आधार की मशीन लगी थी और आसपास के गरीब आदिवासी आधार की मशीन पर अपना अंगूठा रखने से पहले अपनी जेब से वहां प्रसाद चढ़ा रहे थे। पत्रिका टीम के वहां पहुंचने पर कार्मिकों ने लोगों से राशि लेना बंद कर दिया। वहां मौजूद लोगों ने बताया कि यहां रुपए देकर आधार बनाए जा रहे हैं। कुछ महिलाओं ने कहा कि उनसे 150 रुपए वसूले गए हैं।

जहां मशीन लगी, वहां लिखा आधार मुफ्त
सायरा में जहां मशीन लगी हुई है और जहां आधार नामांकन की प्रक्रिया पूरी की जा रही थी वहीं लगे एक बोर्ड पर लगी शुल्क सूची में लिखा कि आधार नामांकन मुफ्त में किया जाता है। एक महिला ने बताया कि वह बहुत मेहनत कर परिवार का गुजारा करती है लेकिन उससे भी रुपए ले लिए गए। एक युवती ने बताया कि पैसे नहीं देंगे तो आधार नहीं बनाएंगे क्या करें? अधिकांश आदिवासी परिवार से थे जो पैसे देकर ही आधार बना रहे थे और जिनके नामांकन की प्रक्रिया पूरी हो चुकी उनसे राशि ली गई।

पूरी पंचायत समिति में एक मशीन
ग्रामीणों ने बताया कि सायरा पंचायत समिति मुख्यालय पर एक मात्र मशीन है जिससे पूरे पंचायत समिति क्षेत्र के लोगों के आधार बनते है। लोग दूर-दूर से आते हंै और उनका नंबर भी बहुत देरी से आता है और कईयों को तो वापस लौटना पड़ता है।

ऑपरेटर बोला अब ध्यान रखूंगा
पत्रिका ने टीम ने वहां आधार बना रहे ऑपरेटर से पूछा कि वह मनमर्जी की राशि कैसे ले रहा है तो वह बोला कि कोई राशि नहीं ले रहा, फ्री में ही बना रहा है, जब लोग बोले कि राशि तो दी है तब वह बोला कि आगे ध्यान रखूंगा, पैसे नहीं लूंगा। जिस मशीन से आधार बन रहे थे उसकी ऑपरेटर आईडी एनओ०१६३०५ (प्रदीप पालीवाल) बताई गई।

फॉर्म की औपचारिकताएं दुकान पर
वहां खेल इस कदर चल रहा था कि आधार नामांकन के लिए वहां पंचायत समिति से 500 कदम पहले ई-मित्र संचालक की दुकान पर प्रक्रिया पूरी की जाती है, वहां से लोगों को पंचायत समिति भेजा जाता है। लोगों ने बताया कि कभी पैसे वहां ले लिए जाते हैं तो कभी पंचायत समिति में हाथों हाथ ही। आधार कार्ड मशीन सरकार ने पंचायत समिति परिसर में विकास अधिकारी के नाम से सत्यापित की है, जिसके तहत उस मशीन का गलत उपयोग या वहां पर अनियिमिताएं होती है तो समिति प्रशासन की जिम्मेदारी होती है लेकिन यहां समिति परिसर में ही गड़बडी का यह खेल चल रहा है।

READ MORE : यहां बंदर बने किसानों के लिए सिरदर्द .. मेहनत की फसल को रख दिया उजाड़कर,

कार्र्रवाई करेंगे
अगर ऐसा है तो कार्रवाई करेंगे। हमारे पास अभी तक ऐसी कोई शिकायत नहीं आई। संबंधित प्रभारी व इसमें कार्यरत कार्मिकों को भी नोटिस दिया जाएगा। इस तरह की गड़बड़ी अब यहां नहीं हो, इसकी पुख्ता व्यवस्था करेंगे।
- शक्ति सिंह शेखावत, विकास अधिकारी सायरा (अति. कार्यभार)

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned