राजस्‍थान में करीब चार लाख नए किसानों का होगा दुर्घटना बीमा

सरकार कराएगी दस लाख रुपए तक का दुर्घटना बीमा, सलाहकार नियुक्ति पर कवायद शुरू

उदयपुर. सहकारिता विभाग प्रदेश में इस वर्ष चार लाख नए किसानों का दस लाख रुपए तक का दुर्घटना बीमा कराएगा। बता दें कि इससे पहले किसानों का 5 लाख रुपए तक का दुर्घटना बीमा होता था। ये वे ऋणी किसान हैं, जो हाल ही में सहकारी समितियों से नया ऋण लेकर जुड़े हैं। इसके लिए राज्य सरकार ने सलाहकार नियुक्ति की कवायद शुरू कर दी है। सलाहकार की नियुक्ति के बाद किसानों का बीमा कराने की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। पूर्ववर्ती सरकार के कार्यकाल में अपेक्स बैंक की छवि खराब होने के बाद इस बार बीमा कंपनियों ने दूरी बना ली है। सरकार ने इसके लिए दो बार टेण्डर जारी किए, लेकिन एक भी कंपनी आगे नहीं आई। ऐसे में अब सरकार ने फैसला किया है कि किसी सलाहकार को नियुक्त किया जाए,जो नए ऋणी किसानों का दुर्घटना बीमा करवा सके। सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना के मुताबिक जिन किसानों को योजना का लाभ नहीं मिल रहा है, उन्हें तुरंत लाभ मिले, इसके लिए सलाहकार नियुक्त किया जा रहा है। अपेक्स बैंक की ओर से कंसलटेंट नियुक्ति के लिए टेण्डर जारी किए गए है। इसमें शर्त रखी गई है कि सलाहकार की पूरी जिम्मेदारी होगी कि वह नए किसानों का दुर्घटना बीमा कराए और जरूरत पडऩे पर उन्हेंं क्लेम की राशि का भुगतान करवा सके। इसके लिए कंसलटेंट को पांच वर्ष का अनुभव होना जरूरी होगा। पिछली सरकार के कार्यकाल में जिन किसानों का दुर्घटना बीमा कराया गया था, उनमें करीब पांच लाख किसानों का क्लेम आज तक नहीं मिल पाया है। उदयपुर, राजसमंद व धरियावद में करीब 15 हजार नए किसानों का बीमा किया जाना है।

ऋणी किसान को मिलेगा लाभ
जिन ऋणी किसानों की खेत में काम करते समय अकाल मौत हो जाती है, उन किसानों को अब 5 लाख की बजाय 10 लाख की बीमा राशि का भुगतान किया जाएगा। इनमें करंट, सर्पदंश, दुर्घटना और आग में झुलसने से मौत के मामले में शामिल है। योजना के तहत किसी भी किसान के खेत में काम करते समय घायल होने या मौत होने पर 10 लाख रुपए तक का क्लेम मिलेगा।

madhulika singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned