रेमडेसिविर और टोसीलीजुमेब इंजेक्शन पर प्रशासन की नजर


- निजी अस्पतालों के लिए एसओपी हुई तय

By: bhuvanesh pandya

Published: 15 Apr 2021, 09:20 AM IST

भुवनेश पंड्या
उदयपुर. राज्य सरकार के निर्देशानुसार उदयपुर जिले में निजी अस्पतालों में रेमडेसिविर दवा के स्टॉक पर नजर रखने के लिए प्रशासन ने दिशा-निर्देश जारी किए हैं। जिले में कोरोना संक्रमण की वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए रेमडेसिविर और टोसीलीजुमेब की संभावित कालाबाजारी को रोकने के लिए चिकित्सा विभाग ने निजी अस्पतालों के लिए अलग से आदेश जारी किए हैं। कोरोना संक्रमण की गति अचानक बढ़ जाने से दोनों इंजेक्शन की मांग में भी तेजी आई है।
अधिकतम दो दिन का स्टॉक जारी होगा

राज्य सरकार की एसओपी के मुताबिक कोविड उपचार के लिए अनुमोदित निजी क्षेत्र के अस्पताल ही रेमडेसिविर और टोसीलीजुमेब की मांग कर सकते हैं। निजी हॉस्पिटल सीएमएचओ और औषधि नियंत्रक को लिखित में दोनों इंजेक्शन की डिमांड भेजेंगे। इसके आधार पर जिले के दवा स्टॉकिस्ट संबंधित सीएंडएफ ओ को डिमांड भेजेंगे। अधिकतम दो दिन के उपयोग के लिए इंजेक्शन का स्टॉक जारी किया जाएगा। इसके लिए सीएमएचओ कार्यालय ने निजी हॉस्पिटलों के लिए निर्धारित प्रारूप भी जारी कर दिया है। सीएमएचओ को स्टॉक का सत्यापन करने के निर्देश दिए गए हैं। रेमडेसिविर और टोसीलीजुमेब का ओवर द काउंटर बेचान करने पर रोक लगा दी गई है।
ज्यादा पैसा लिया तो कार्रवाई

जिला कलक्टर चेतन देवड़ा ने बताया कि राज्य सरकार द्वारा कोविड उपचार के लिए निर्धारित दरों से ज्यादा वसूल करने पर निजी अस्पतालों के विरुद्ध नियमानुसार कार्रवाई होगी।
----------

राजनेताओं, धर्मगुरूओं एवं धार्मिक-सामाजिक संगठनों के साथ संवाद
भयावह दौर से मुकाबले के लिए सभी के सहयोग की जरूरत . मुख्यमंत्री

उदयपुर. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि कोविड.19 महामारी से प्रदेश की जनता को सुरक्षित रखने की जिम्मेदारी राज्य सरकार की है। हम लोगों को समझाइश कर और सख्ती करके अपनी जिम्मेदारी को निभाएंगे, जिसमें सभी संगठनों, धार्मिक-सामाजिक संस्थाओं, महत्वपूर्ण व्यक्तियों और आम लोगों के सहयोग की सख्त आवश्यकता है। गहलोत बुधवार को राजनीतिक एवं धार्मिक-सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों तथा धर्मगुरूओं के साथ मुख्यमंत्री निवास पर वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से संवाद कर रहे थे। उन्होंने कहा कि कोविड संक्रमण की पहली लहर के दौरान आमजन स्वास्थ्य गाइड लाइन्स का समुचित पालन कर रहे थे, इसी कारण हम महामारी से बच पाए। इस बार जबकि संक्रमण अधिक तेजी से फैल रहा है, ज्यादा घातक है और कम उम्र के लोगों को भी चपेट में ले रहा है। इसके बावजूद आम लोगों ने कोविड प्रोटोकॉल की पालना छोड़ दी है, यह गंभीर चिंता का विषय है। मुख्यमंत्री ने सभी प्रतिष्ठित जनों से अपील की है कि सभी कोरोना प्रोटोकोल का पालन करें।
------

उदयपुर के प्रतिनिधियों की भी हुई चर्चा
वीसी दौरान रोटरी मेवाड़ के अध्यक्ष और उदयपुर चेम्बर ऑफ कॉमर्स के पूर्व अध्यक्ष हंसराज चौधरी ने मुख्यमंत्री से संवाद किया। उन्होंने कफ्र्यू के समय में बढ़ोतरी की अपेक्षा सख्ती अपनाने का सुझाव दिया। चौधरी ने कहा कि आर्थिक स्थिति को देखते हुए उद्योगों को बंद नहीं करना चाहिए, इससे लोगों में पलायन होगा, जिसे नियंत्रित करना बहुत कठिन हो जाएगा।

bhuvanesh pandya
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned