उदयपुर एयरपोर्ट पर रोज 600 से 800 यात्री आ रहे, इनमें 100 ऐसेे जो नहीं लाते आरटीपीसीआर रिपोर्ट

उदयपुर एयरपोर्ट पर पिछले दो माह में आए 22 हजार 687 यात्री, इनमें से 3 हजार 81 नहीं लाए आरटीपीसीआर रिपोर्ट, अब तक निकल चुके 35 पॉजिटिव

By: madhulika singh

Published: 11 Apr 2021, 10:40 PM IST

उदयपुर. जिस तरह कोरोना संक्रमितों की तादाद बढ़ रही है, उस हिसाब से अब जरा सी लापरवाही और भारी पड़ सकती है। प्रदेश के बाहर से आने वाले लोगों के लिए आरटीपीसीआर की अनिवार्यता कर दी गई है, लेकिन, अब भी आरटीपीसीआर रिपोर्ट साथ लेकर आने के प्रति लोगों में जागरूकता नहीं है। यहां आकर एयरपोर्ट पर ही उनकी जांच होती है और उन्हें रिपोर्ट आने तक क्वारेंटाइन रहना होता है। उदयपुर एयरपोर्ट पर पिछले दो माह में राजस्थान से बाहर आए लगभग 35 यात्री पॉजिटिव आ चुके हैं। अगर ये यात्री पहले ही जागरूक होकर जांच करा कर यात्रा करते तो दूसरों को कोई खतरा नहीं रहता। वहीं, अब जिला कलक्टर भी आरटीपीसीआर रिपोर्ट को लेकर गंभीर हो चुके हैं। हाल ही में होटल संचालकों के साथ हुई बैठक में उन्होंने आरटीपीसीआर रिपोर्ट के नेगेटिव होने पर ही प्रवेश देने के लिए संचालकों को पाबंद किया है।

एयरपोर्ट पर पिछले एक सप्ताह में 792 लोगों की हुई सेंपलिंग

दरअसल, राज्य सरकार ने फरवरी अंत में केरल व महाराष्ट्र में कोरोना के बिगड़ते हालात देखते हुए वहां से आने वालों के लिए 72 घंटे पहले की आरटीपीसीआर रिपोर्ट देना अनिवार्य किया था। फिर मार्च माह में राजस्थान से बाहर के कुल 6 राज्यों से आने वाले लोगों के लिए आरटीपीसीआर रिपोर्ट आवश्यक कर दी थी और प्रदेश के बाहर के हर व्यक्ति की रिपोर्ट अनिवार्य है। एयरपोर्ट, रेलवे व सडक़ मार्ग से आने वालों के लिए आरटीपीसीआर रिपोर्ट जांचने के लिए टीमें भी तैनात हैं। उदयपुर एयरपोर्ट की बात करें तो यहां पिछले एक सप्ताह में राजस्थान से बाहर के 792 यात्री जो अपने साथ आरटीपीसीआर की रिपोर्ट नहीं लाए उनकी सेंपलिंग की गई। इनमें से करीब 18 लोग पॉजिटिव मिले।


शारीरिक शिक्षक अलग-अलग शेड्यूल में दे रहे सेवाएं

एयरपोर्ट पर प्रशासन की टीम में शारीरिक शिक्षक सेवाएं दे रहे हैं। राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, जसपुरा बलवीर सिंह राठौड़ ने बताया कि वे यहां पिछले 5-6 महीनों से तैनात हैं। राज्य सरकार की गाइडलाइंस के अनुसार यात्रियों की जांच करते हैं। इसके लिए एयरपोर्ट पर 4 काउंटर बना रखे हैं। यहां 12-12 लोगों की टीम अलग-अलग शेड्यूल में काम करती है। यहां आने वाले यात्रियों के आईडी की जांच से लेकर उनकी आरटीपीसीआर रिपोर्ट तक की जांच उनकी टीम करती है। यदि उनके पास रिपोर्ट नहीं होती है तो वे चिकित्सा विभाग की टीम के पास सेंपल देने के लिए उन्हें भेजते हैं। साथ ही रिपोर्ट नहीं आने तक उन्हें क्वारेंटाइन रहने के लिए पाबंद करते हैं। इसके लिए उनका घर का पता व फोन नंबर सभी लिए जाते हैं ताकि उनको फॉलोअप किया जा सके।

udaipur_airport1.jpg

उदयपुर एयरपोर्ट पर पिछले सात दिन राजस्थान से बाहर के आए यात्री
- तारीख - कुल यात्री - बिना आरटीपीसीआर यात्री - नमूने लिए - पॉजिटिव

1 अप्रेल- 874 - 94 - 94 - 2

2 अप्रेल- 891 - 99 - 99 - 3

3 अप्रेल- 887 - 108 - 108 - 0

4 अप्रेल- 693 - 121 - 121 - 2

5 अप्रेल - 567 - 110 - 110 - 7

6 अप्रेल- 646 - 63 - 63 - 2

7 अप्रेल - 544 - 88 - 88 - 0

8 अप्रेल - 707 - 109 - 109 - 2

कुल - 5809- 792- 792 - 18


यात्रियों से नेगेटिव आरटीपीसीआर लेने के बाद ही प्रवेश दें- कलक्टर

हाल ही होटल संचालकों के साथ हुई बैठक में कलक्टर चेतन देवड़ा ने प्रत्येक होटल व पर्यटन स्थल संचालक से हर आने वाले व्यक्ति की थर्मल स्क्रीनिंग करने व आईडी लेने, अन्य राज्य से आने वाले की नेगेटिव आरटीपीसीआर मांगने, उन्हें मास्क पहनने, सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करने जैसे कोरोना प्रोटोकॉल की पालना के लिए पाबंद करने के लिए और उसके बाद ही प्रवेश देने के लिए कहा।

इनका कहना है.
एयरपोर्ट पर शारीरिक शिक्षकों की टीम लगा रखी है। बिना सैंपलिंग के किसी को नहीं जाने देते। मैंने एक दिन पूर्व ही जाकर व्यवस्थाएं देखी हैं। पुलिस की उपस्थिति में कार्य होता है। कोई यात्री अगर सैंपल देने में आनाकानी करता है तो उन्हें पाबंद किया जाता है। चिकित्सा विभाग की टीम सैंपल लेती है। वहीं, एयरलाइंस को भी पाबंद किया गया है कि पूरी सतर्कता बरतें।

शिखा सक्सेना, उपनिदेशक, पर्यटन विभाग

madhulika singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned