scriptउदयपुर की ये हैं खूबसूरत जगहें, जिन्हें एक बार जरूर घूमें | Patrika News
उदयपुर

उदयपुर की ये हैं खूबसूरत जगहें, जिन्हें एक बार जरूर घूमें

8 Photos
2 months ago
1/8

उदयुपर पहुंचने के बाद यह पहली जगह होनी चाहिए जिसे आपको देखना चाहिए। सिटी पैलेस, पिछोला झील के तट पर स्थित है, जो आपको पूर्व मेवाड़ शासक परिवार के लिए बनाई गई विशाल संरचनाओं के साथ राजस्थान की राजसी भव्यता की झलक देगा। यह महल विस्तृत दर्पण-कार्य, अद्वितीय पेंटिंग, भित्ति चित्र, प्राचीन फर्नीचर और संगमरमर के काम से युक्त अपने उत्कृष्ट आंतरिक सज्जा से यात्रियों को मंत्रमुग्ध कर देगा। महल परिसर कई खूबसूरत विला और महलों में विभाजित है, जिनमें अमर विलास, भीम विलास, कृष्ण विलास, मानक महल और मोती महल शामिल हैं। शाम को मेवाड़ लाइट एंड साउंड शो भी देखने लायक है!

2/8

लेक पैलेस : 4 किमी लंबी, मानव निर्मित झील पिछोला पर स्थित इस पैलेस कि सुंदरता आप देखते ही रह जाएंगे। यह निश्चित रूप से पूरे राज्य में सबसे रोमांटिक स्थानों में से एक है और हेरिटेज वॉक का मजा ही कुछ और है! महाराजा जगत सिंह द्वितीय ने इस अद्भुत महल का निर्माण कराया था, जो अपने संगमरमर और ढलाई से आपको मंत्रमुग्ध कर देगा। यहां रहते हुए, आप रामेश्वर घाट से सिटी पैलेस तक शांत पिछोला झील पर पूरा दिन नौका विहार में बिता सकते हैं।

3/8

जगमंदिर : 17वीं शताब्दी का यह महल परिसर भी पिछोला झील पर स्थित है। लेक गार्डन पैलेस के नाम से भी जाना जाने वाला जगमंदिर आपको अपनी भव्यता और शांति से आकर्षित करेगा। इसमें गार्डन कोर्टयार्ड, गुल महल, दरीखाना, बारा पत्थरों का महल, कुंवर पाड़ा का महल और जनाना महल जैसे विभाग हैं। नाव की सवारी के दौरान जरूर इस जगह पर जाएं।

4/8

जगदीश मंदिर : इंडो-आर्यन स्टाइल में जगदीश मंदिर के निर्माण का श्रेय महाराणा जगत सिंह को जाता है। उदयपुर में यह मंदिर सिटी पैलेस के बड़ी पोल प्रवेश द्वार के पास स्थित हैं और यहां तक पहुंचने के लिए आपको कुछ सीढिय़ां चढऩी पड़ेगी। भगवान विष्णु की काले पत्थर की मूर्ति और उसके सामने पीतल की गरुड़ की मूर्ति आपको आश्चर्यचकित कर देगी। सूर्य देव, भगवान गणेश, भगवान शिव और देवी शक्ति को समर्पित कई अन्य मंदिर भी हैं। यहां सूर्यास्त आरती एक अद्भुत अनुभव होगा।

5/8

सहेलियों की बाड़ी : सहेलियों की बाड़ी या गार्डन ऑफ द मेडंस का निर्माण18वीं शताब्दी के शुरुआती वर्षों में महाराणा संग्राम सिंह द्वारा करवाया गया था। इस विस्मयकारी बाड़ी का निर्माण उन दासियों के लिए किया गया था जो उदयपुर की राजकुमारी के साथ उनकी शादी की बाद जाती थीं। इस स्थान पर सुंदर महिलाएं नाचती, गाती और आनंद मनाती थीं और सुंदर संगमरमर के हाथी, फ व्वारे, एक कमल पूल और खोखे उस समय की समृद्धि के पर्याप्त प्रमाण हैं।

6/8

सज्जनगढ़ महल : सज्जनगढ़ पैलेस या मानसून पैलेस एक पहाड़ी की चोटी पर स्थित है और फतेह सागर झील और आसपास के सज्जनगढ़ वन्यजीव अभयारण्य के अद्भुत दृश्य प्रस्तुत करता है। यह महल केवल इसलिए बनाया गया था ताकि आकाश में आशाजनक रूप से उमड़ते मानसूनी बादलों को देखने का आनंद लिया जा सके। इसका निर्माण 1884 में महाराणा सज्जन सिंह द्वारा क रवाया गया था। उदयपुर घूमने जाएं तो इसे देखना नहीं भूलें। यह राजसी महल वास्तव में देखने लायक है, खासकर जब यह शाम को रोशन होता है। आप यहां कुछ अविश्वसनीय सुंदर तस्वीरें ले सकते हैं।

7/8

फतेह सागर झील : हरी-भरी पहाडिय़ों की पृष्ठभूमि में अपने आकर्षक नीले पानी वाली इस खूबसूरत मानव निर्मित झील के कारण ही उदयपुर को "दूसरा कश्मीर" का उपनाम मिला है। असाधारण रूप से स्वच्छ और विस्तृत, फतेह सागर झील मुख्य रूप से अपने 4 द्वीपों के कारण उदयपुर में घूमने के लिए एक शानदार जगह है जो अपने आप में आकर्षण हैं। केवल नाव द्वारा पहुंचा जा सक ने वाला यह द्वीप सार्वजनिक पार्कों और एक सौर वेधशाला की मेजबानी करता है जो देखने लायक है। इस झील का नाम उदयपुर और मेवाड़ के महाराणा फतेह सिंह के नाम पर रखा गया है। इस झील से न केवल शहरी क्षेत्रों में पानी की आपूर्ति की जाती है बल्कि आबादी के एक बड़े हिस्से को रोजगार भी प्रदान करती है।

8/8

पिछोला झील : 1362 ई. में संभवत: एक बंजारा आदिवासी द्वारा निर्मित, पिछोला झील आज उदयपुर का एक प्रतिष्ठित प्रतीक है। लगभग 4 किमी लंबी और 3 किमी चौड़ाई वाली यह झील उदयपुर में देखने लायक जगह है। पिछले कुछ वर्षों में झील के चारों ओर और इसके कई द्वीपों पर असंख्य महल, मंदिर, शाही क्वार्टर और घाट और चबूतरे विकसित किए गए हैं। लेक पैलेस और जग मंदिर जैसी ये संरचनाएं यहां के सबसे लोकप्रिय स्थल हैं।

अगली गैलरी
next
Copyright © 2024 Patrika Group. All Rights Reserved.