खाद्य सुरक्षा से जुड़े उदयपुर जिले के 18167 परिवारों का नहीं है जनआधार

उदयपुर जिले में ऐसे परिवारों को चिन्ह्ति करने पर अभियान, राज्य सरकार की योजनाओं के फायदे के लिए जनआधार जरूरी

By: Mukesh Hingar

Updated: 04 Aug 2021, 09:43 AM IST

मुकेश हिंगड़

उदयपुर. राज्य सरकार की योजनाओं का फायदा लेने के लिए परिवार इकाई की जानकारी को अपडेट करने वाला जन आधार नामांकन जरूरी है। खाद्य सुरक्षा योजना से जुड़े 18167 परिवार उदयपुर जिले में अभी जनआधार से नहीं जुड़े है। इनको जोडऩे के लिए जिला प्रशासन ने राशन के दुकानदार, पटवारी व ग्राम सचिव के सहयोग से अभियान शुरू किया है। साथ के साथ ही जनआधार एवं राशनकार्ड की सीडिंग एवं मैपिंग के लिए भी कार्य शुरू किया है जिसमें अभी तीन ब्लॉक व एक पंस. को शामिल किया है।
केन्द्र सरकार के आधार कार्ड की तर्ज पर राज्य सरकार का जन आधार कार्ड को सरकार की सभी योजनाओं एवं एप से लिंक किया गया है। भामाशाह योजना का दूसरा नाम ही जनआधार है जिसमें महिला मुखिया है। इस योजना के तहत प्रत्येक परिवार का पंजीयन अनिवार्य है। वैसे अभी चिरंजीवी योजना में जन आधार की अनिवार्यता होने से कई परिवारों का एकाएक बड़ी संख्या में जन आधार का पंजीयन हुआ था। जन आधार का सबसे बड़ा फायदा सरकारी विभागों को यह होगा कि किसी भी परिवार में कोई भी अपडेट होगा तो स्वत: सभी में अपडेट हो जाएगा। राशन कार्ड से सीडिंग एवं मैपिंग होने के बाद राशन कार्ड में भी नाम हटाने व जुड़वाने का कार्य स्वत: ही हो जाएगा।
जन आधार में सीडिंग व मैपिंग के लिए राज्य सरकार ने पायलट प्रोजेक्ट के रूप में बडग़ांव की बेदला ग्राम पंचायत को लिया था। कोविड की लहर आई उससे पहले हुए सर्वेक्षण में सामने आया था कि वहां 80 प्रतिशत का डेटा अपडेट था और 20 प्रतिशत में किसी का नाम गलत था या कुछ अन्य गड़बडिय़ां थी जिसे ठीक किया गया। इसके बाद शुरू हुए पहले चरण में गोगुंदा, लसाडिय़ा, ऋषभेदव ब्लॉक व सलूंबर नगर पालिका को शामिल किया गया था जिनमें कुल 35 हजार के डेटा गड़बड़ थे जिनको ठीक किया गया था और वहां 94 प्रतिशत सीडिंग कार्य पूर्ण कर लिया गया।

अब दूसरा चरण शुरू हुआ
जनआधार एवं राशनकार्ड की सीडिंग एवं मैपिंग के कार्य का द्वितीय चरण शुरू हो गया है। इसमें प.स. सराड़ा, सायरा, झाड़ोल मावली एवं नगरपालिका फतहनगर को शामिल किया गया है। वहां 55,391 परिवारों के राशन कार्ड की मैपिंग का कार्य राशन डीलर, ब्लॉक सांख्यिकी अधिकारी एवं ई-मित्र के माध्यम से 31 अगस्त तक किया जाएगा। साथ ही परिवार के वह सदस्य जो मृत्यु, विवाह या पलायन के कारण स्थानान्तिरित हो गए है, उनकी सूचना भी एकत्रित की जा रही है।

इनका कहना है...
इस कार्य के लिए ब्लॉक्स में काम शुरू कर दिया गया है। संबंधित प.स. के राशनकार्डधारी उपभोक्ता जनआधार एवं राशनकार्ड की सीडिंग एवं मैपिंग के लिए राशन प्राप्ति के समय केवाएसी के लिए जनआधार कार्ड व आधार कार्ड की प्रति साथ लेकर जाए।
- पुनीत शर्मा, उप निदेशक (सांख्यिकी)

Show More
Mukesh Hingar
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned