भागवत पहुंचे नारायणलाल के घर, एक घंटा रुककर मकाई का पानिया व लापसी का लिया स्वाद

- पानिया खाकर भागवत बोले ...जिसने बनाया उसे गोल्ड मेडल देना चाहिए

- उदयपुर के प्रबुद्धजनों को आज करेंगे संबोधित
- हिरण मगरी सेक्टर.4 विद्या निकेतन परिसर में होगा आयोजन

- कल भीलवाड़ा प्रवास पर, आचार्य महाश्रमण से करेंगे भेंट

By: bhuvanesh pandya

Updated: 19 Sep 2021, 07:34 AM IST

भुवनेश पंड्या

उदयपुर. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सर संघचालक डॉ. मोहन भागवत शनिवार रात बेदला के समीप प्रतापपुरा गांव में चित्तौडगढ़़ प्रान्त के शारीरिक प्रमुख नारायणलाल गमेती के मकान पर पहुंचे। वहां उन्होंने एक घंटा रुककर मेवाड़ी भोजन किया। यहां मकाई का पानिया, लापसी, तुरई की सब्जी, उड़द की दाल, चटनी, सलाद व राबड़ी का स्वाद लिया। इससे पहले ठीक आठ बजे भागवत वहां पहुंचे तो गमेती की दोनों बेटियों तनीषा व युक्ति ने तिलक लगाकर स्वागत किया। भागवत ने स्वयं के सिर पर हाथ रखकर तिलक करवाया और दोनों बेटियों को आशीर्वाद दिया। गमेती की पत्नी सुशीला, उनके छोटे भाई गिरधारीलाल व उनकी पत्नी अनीता ने उन्हें स्वादिष्ट भोजन परोसकर भागवत का सत्कार किया। भागवत यहां से ठीक नौ बजे रवाना हो गए।

-----
मेरा जीवन धन्य हो गया...

नारायणलाल गमेती ने बताया कि सरसंघचालक के घर आने से ऐसा लग रहा है जैसे जीवन धन्य हो गया। बातचीत में गमेती बोले कि सरसंघचालक उनके छोटे से घर आए तो जीवन का स्वयंसेवकपन पूरा होने का आभास हुआ। गमेती ने कहा कि उनका यहां आना एक ईश्वरीय योग ही कहा जाएगा, इस तरह से सरसंघचालक आएंगे ऐसी तो उन्होंने कभी कल्पना तक नहीं की थी। परिवार वाले भी बेहद खुश है। सभी ने ये सपना देखा और इसका फल मिल गया, ऐसा महसूस हो रहा है। प्रान्त कार्यकारिणी की यहां बैठक चल रही है, इसलिए किसी ना किसी प्रान्त कार्यकर्ता के यहां भोजन करना होता है। इसलिए यहां के संगठन ने यह तय कर उन्हें बताया और वह यहां पधारे। गमेती ने कहा कि पानिया खाकर भागवत बोले कि जिसने बनाया उन्हें गोल्ड मेडल देना चाहिए। ऋषभदेव के निवासी सूरजमल ने पानिया बनाए थे।
-----

प्रबुद्ध नागरिकों की गोष्ठी को आज संबोधित करेंगे संघ के सरसंघचालक
रविवार को भागवत उदयपुर के प्रबुद्धजनों को संबोधित करेंगे। हिरण मगरी सेक्टर.4 में विद्या निकेतन परिसर स्थित वैद्य भागीरथ जोशी सभागार में अपराह्न 4 बजे गोष्ठी होगी। इससे पूर्व अपने तीन दिवसीय प्रवास के दूसरे दिन शनिवार को सरसंघचालक डॉ. भागवत ने चित्तौड़ प्रांत के जागरण श्रेणी के प्रमुख कार्यकर्ताओं को मार्गदर्शन प्रदान किया। चित्तौड़ प्रांत के संघचालक जगदीश सिंह राणा ने बताया कि जागरण श्रेणी में संपर्क, सेवा एवं प्रचार विभाग आते हैं। जागरण श्रेणी के कार्यकर्ता समाज बंधुओं से प्रत्यक्ष सम्पर्क करने व संघ से जोडऩे का दायित्व निभाते हैं। इन्हीं दायित्वों से जुड़े कार्यकर्ताओं को सरसंघचालक डॉ. भागवत ने मार्गदर्शन दिया। उन्होंने बताया कि चित्तौडगढ़़ प्रांत में बांसवाड़ा, डूंगरपुर, उदयपुर, राजसमंद, चित्तौड़, प्रतापगढ़, भीलवाड़ा, अजमेर, कोटा, बूंदी, बारां, झालावाड़ जिले शामिल हैं।

राणा ने बताया कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की ओर से समाज में नेतृत्व करने वाले प्रबुद्ध वर्ग से समय-समय पर संवाद का आयोजन किया जाता है। इसी क्रम में रविवार को उदयपुर के गणमान्य व्यक्तियों के साथ संघ के उद्देश्य, विचार व कार्य पद्धति के विषय में सरसंघचालक डॉ. भागवत का उद्बोधन होगा। इसे लेकर शनिवार को प्रबुद्ध नागरिकों से सुझाव व जिज्ञासाएं प्राप्त की गई हैं। सरसंघचालक उदयपुर प्रवास के बाद सोमवार को भीलवाड़ा प्रवास पर रहेंगे। वहां पर वे आचार्य महाश्रमण से भेंट करेंगे।

bhuvanesh pandya
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned