video : महंगाई के विरोध में भारत बंद का उदयपुर में दिखा असर, कांग्रेसी उतरे सड़कों पर, जमकर कोसा सरकार को

madhulika singh | Publish: Sep, 10 2018 12:50:00 PM (IST) | Updated: Sep, 10 2018 12:52:57 PM (IST) Udaipur, Rajasthan, India

www.patrika.com/rajasthan-news

उदयपुर. पेट्रोल, डीजल और गैस की बढ़ी कीमतों के विरोध में कांग्रेस सहित विपक्षी दलों की ओर से सोमवार को बंद के आह्वान के तहत उदयपुर में भी बंद का खासा असर दिखाई दिया। जगह—जगह पर कांग्रेसी इकट्ठा होकर पेट्रोल,डीजल और गैस की कीमतों का विरोध करते नजर आए। शहर के पेट्रोल पंपों पर कांग्रेसियों ने पहुंचकर केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और लगातार बढ़ रही पेट्रोल,डीजल की कीमतों को कम करने की बात कही।
इस दौरान शहर के देहलीगेट चौराहे पर कांग्रेसियों ने मानव शृंखला बनाकर सरकार की गलत नीतियों का विरोध किया। कांग्रेस के साथ-साथ विपक्षी दलों के कार्यकर्ताओं ने भी बंद में पूरा समर्थन देते हुए कुछ जगह पर खुली दुकानों को बंद करने का आह्वान किया। कांग्रेस और विपक्षी दलों की ओर से बंद के आह्वान के बाद निजी स्कूलों के संचालकों ने पूर्व में ही बच्चों की छुट्टी की घोषणा कर दी। जिसके चलते बंद के दौरान स्कूल पूरी तरह से बंद नजर आए। व्यापारिक संगठनों की बात करें तो उदयपुर चेंबर ऑफ कॉमर्स पूर्व में ही बंद के लिए अपनी सहमति जता दी थी जिसके चलते बाजार नहीं खुल पाए और सभी व्यापारियों ने बंद का समर्थन किया। हालांकि ऐसा पहली बार देखने को मिला है कि जहां एक और कांग्रेस और विपक्षी दल बंद करवाने की कोशिश कर रहे हैं वहीं भारतीय जनता पार्टी इस बंद का पूरी तरीके से विरोध कर रही ह़ै।

 

READ MORE : विदेश से एमबीबीएस डिग्री के नाम पर लाखों की ठगी...भूपालपुरा थाने में मामला दर्ज

 

भाजपा के कार्यकर्ता दबे स्वर में कह रहे हैं कि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की ओर से पेट्रोल,डीजल की कीमतों में कमी करने के बाद भी इस तरह बंद करना गलत है। आपको बता दें कि एक दिन पहले ही मुख्यमंत्री ने 4% वेट घटाकर पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कमी की थी। बंद का जिले में भी असर देखा गया भटेवर,कानोड़, मावली, जावरमाइंस, खेरवाड़ा, अदवास आदि कई जगहों पर सैकड़ों कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने एकत्रित होकर जुलूस निकाला और बाजार की सभी दुकानों को करवाया गया।

 

BHARAT BANDH

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned