अल्पसंख्यक मंत्रालय का बड़ा फैसला, निजी ऑपरेटरों को 10 हजार हजयात्रियों को सरकारी दर पर ले जाना होगा

अल्पसंख्यक मंत्रालय का बड़ा फैसला, निजी ऑपरेटरों को 10 हजार हजयात्रियों को सरकारी दर पर ले जाना होगा

Madhulika Singh | Updated: 24 Jun 2019, 01:33:02 PM (IST) Udaipur, Udaipur, Rajasthan, India

Ministry of Minority Affairs , केन्द्रीय हज कमेटी Central Haj Commitee के निर्णय पर टूर ऑपरेटरों ने की बुकिंग, हज यात्रियों Hajj Pilgrims को होगा फायदा, निजी संचालक करवाएंगे सभी सुविधाएं मुहैया

उदयपुर. केन्द्र सरकार के अल्पसंख्यक मंत्रालय Ministry of Minority Affairs ने हजयात्रियों Hajj Pilgrims के लिए इस बार बड़ा फैसला किया है। केन्द्रीय हज कमेटी Central Haj Commitee के साथ ही इस बार निजी ट्यूर ऑपरेटर्स private tour operators को 10 हजार हजयात्रियों को रियायती दर पर मक्का-मदीना ले जाना होगा। हालांकि कमेटी के इस आदेश से कुछ ट्यूर ऑपरेटर्स खफा होकर पहले कोर्ट भी पहुंचे थे लेकिन वहां से आपस समझाइश से मसला हल करने के आदेश पर अल्पसंख्यक मंत्रालय के (हज विभाग) ने दो दिन पूर्व निजी ट्यूर ऑपरेटरों को अंतिम परिपत्र जारी कर दिया। इस परिपत्र के बाद निजी ट्यूर ऑपरेटरों ने अपनी बुकिंग भी कर दी। इस आदेश से जहां हजयात्रियों को फायदा होगा, वहीं सरकार भी अधिभार कम पड़ेगा।

देशभर से इस बार 1.40 लाख हजयात्री सरकारी कोटे से तथा 60 हजार यात्री निजी ट्यूर कंपनियों के मार्फत मक्का-मदीना mecca madina जाएंगे। कमेटी ने निजी ट्यूर ऑपरेटर्स को उनके कोटे में से 10 हजार हजयात्रियों को सरकारी शुल्क पर ले जाने का आदेश जारी कर प्रत्येक ट्यूर कंपनी को उनके कोटे के अनुसार सरकारी यात्रियों को भी कोटा जारी कर दिया। गुजरात, राजस्थान, महाराष्ट्र, दिल्ली सहित कई जगह पर ऑपरेटर्स ने बुकिंग भी कर दी। इस संबध में केन्द्र सरकार के अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय (हज विभाग) ने सूचना भी प्रसारित करते हुए सभी ऑपरेटर्स की ऑनलाइन सूची जारी कर दी है। --

कमेटी ने जारी किए निर्देश
- हजयात्री अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय की वेबसाइट www.haj.nic.in/pto, www.haj.gov.in, www.minorityaffairs.gov.in पर उपलब्ध ट्यूर एजेन्सी की जांच करें।

- संबंधित एजेंसी का प्रमाण पत्र व उसका नाम वेबसाइट में पंजीकृत नहीं हो, तो बुकिंग नहीं करवाएं।
- निजी ट्यूर एजेन्सियां हजयात्रियों का स्वयं प्रशिक्षण व टीकाकरण करवाएगी।

- कोई भी हज यात्री अधिक जानकारी के लिए 011-26160064 नम्बर पर सम्पर्क कर सकता है।
--

हजयात्रियों से रुकेगी ठगी

केन्द्रीय हज कमेटी की ओर से निजी ट्यूर एजेन्सियों को ऑनलाइन करने से अब हजयात्रियों से ठगी रुकेगी। पूर्व में निजी ट्यूर ऑपरेटर्स का कोटा निर्धारित नहीं होने के बावजूद कई ऑपरेटर अपना काम सबलेट कर देते थे जिससे निचले स्तर पर बैठे संबंधित ऑपरेटर कोटा नहीं होने के बावजूद बुकिंग कर देते थे। अंतिम समय में कोटा नहीं मिलने पर इन यात्रियों को छोड़ ऑपरेटर भाग जाते थे। ऐसा कई बार होने से कमेटी ने इस बार समस्त निजी एजेन्सियों को ऑनलाइन करते हुए उनका कोटा भी सार्वजनिक किया है। कोई भी व्यक्ति एक क्लिक में किसी भी एजेन्सी को पता लगा सकता है।

--
ये सुविधा, इतना कोटा

- देश में कुल निजी ट्यूर एजेन्सियां- करीब 700
- निजी ट्यूर कंपनियों को हज का कोटा निर्धारित- 60 हजार

- सरकारी के अधिकृत यात्री ले जाएंगे-10 हजार
- इस बार देशभर से हज यात्रा पर जाएंगे यात्री- करीब 2 लाख

- सरकारी कोटे से जाएंगे- 1.40 लाख यात्री
- राजस्थान से हजयात्रा पर जाने वाले यात्रियों की संख्या- 6588

- पहली फ्लाइट-20 जुलाई, अंतिम फ्लाइट 1 अगस्त
--

केन्द्रीय हज कमेटी के आदेश पर उन्हें जो कोटा मिला है, उनमें से कुछ सरकारी कोटे के हजयात्रियों को उन्हें ले जाना होगा। इस संबंध में आदेश मिलने के बाद हमने बुङ्क्षकग भी कर दी।

अमीन छीपा, निजी ट्यूर ऑपरेटर

--
दो वर्ष पूर्व केन्द्र सरकार से मांग की थी कि सभी कंपनियों की जानकारी ऑनलाइन की जाए ताकि ऑनलाइन देखकर अधिकृत कंपनियों को हज यात्री अपनी बुङ्क्षकग करवा सके। अब सभी कंपनियों के ऑनलाइन होने से इस निर्णय से हजयात्रियों को काफी फायदा होगा व ठगी से बच पाएंगे।

जहीरूद्दीन सक्का, हज संयोजक
--

सरकार के इस निर्णय से ठगी करने वाली निजी ट्यूर कंपनियां पर लगाम लगेगी और निर्धारित कोटा होने से निजी कंपनियां भी हर किसी को नहीं ले जा पाएंगी।

मोहम्मद आजाद, निजी ट्यूर ऑपरेटर

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned