BIRD PARK AT UDAIPUR: उदयपुर में तेजी से तैयार हो रहा पक्षियों के लिए अनूठा आशियाना

BIRD PARK AT UDAIPUR: उदयपुर में तेजी से तैयार हो रहा पक्षियों के लिए अनूठा आशियाना

Mukesh Hingar | Updated: 29 Sep 2017, 05:09:51 PM (IST) Udaipur, Rajasthan, India

गुलाबबाग में बर्ड पार्क निर्माण की रफ्तार बढ़ी...

 

उदयपुर . वन्यजीवों के नाम से ख्यात गुलाबबाग जंतुआलय के वन्यजीव भले ही सज्जनगढ़ बायोलॉजिकल पार्क में शिफ्ट हो गए हो लेकिन अब वहां पक्षियों के रहने का जो आशियाना तैयार किया जा रहा है उसका काम तेजी से चल रहा है। सिंगापुर की तर्ज पर बनने वाला यह बर्ड पार्क प्रदेश भर के लिए आकर्षण का केन्द्र होगा। बर्ड पार्क के लिए सरकार के अलावा मदद नगर विकास प्रन्यास और नगर निगम कर रहा है। बर्ड पार्क शुरू होने के बाद उदयपुर वन्यजीवों, पक्षियों, जैव विविधता और जंगल के लिए हर तरह से अपना नाम देश-दुनिया में रखेगा।


गुलाबबाग में मगर वाले तरणताल और अन्य वन्यजीवों के पिंजरों को तोडऩे का काम पूरा होने आया है। वहां पर अब पुराने पिंजरों व स्थानों को हटाने के बाद तय प्लानिंग के अनुसार बर्ड पार्क का निर्माण किया जाएगा। बर्ड पार्क का काम तय समय पर पूरा करने के लिए ठेकेदार को जो जिम्मेदारी दी उसी के तहत यह कार्य तेजी से किया जा रहा है। बर्ड पार्क के भूमि पूजन के दौरान गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया ने ठेकेदार से साफ कहा था कि इस काम को तय समय तक नहीं उससे पहले पूरा करने का प्रयास करना। करीब 11.49 करोड़ के इस बर्ड पार्क में आठ करोड़ रुपए भारत सरकार और बाकी की राशि यूआईटी व नगर निगम ने दी। बर्ड पार्क का कार्य दस महीने में पूरा करना है।


ऐसा होगा गुलाबबाग बर्ड पार्क : उदयपुर का बर्ड पार्क गुलाबबाग के 5.11 हैक्टेयर क्षेत्र में स्थापित होगा जिसमें 11 पक्षीघर बनाए जाएंगे। इनमें मकाव, काकातू, तोते, जलपक्षी, उल्लू, शिकरे, गिद्ध व बाज़, मुर्ग, मुनिया, पेसेराइल, ईमू, हॉर्नबिल व पहाड़ी मैना आदि के पक्षीघर बनाए जाने प्रस्तावित हैं। इसके साथ ही पक्षी अस्पताल, वॉच टावर, जनसुविधाएं, शिक्षण केन्द्र के साथ ही सौंदर्यीकरण के कार्य पार्क स्थल पर कराए जाएंगे।

 

READ MORE: PICS: उदयपुर में भक्तों ने खेली फूलों की होली, देखें तस्वीरें

 


एक्सपर्ट कह चुके स्वच्छता पर फोकस हो
बर्ड पार्क में पिछले दिनों आए पक्षी एवं तकनीकी विशेषज्ञों की टीम नेे स्थल को देख इस बात पर जोर दिया कि इसमें स्वच्छता पर पूरा ध्यान देना होगा और इसी के अनुरुप इसकी रचना की जाए। इसमें कोई कमी हो तो उसे अभी ही जोड़ा जाए। उन्होंने उस समय दी रिपोर्ट में यह भी कहा था कि एनक्लोजर्स में किन-किन पक्षियों को कहां रखा जाना है एवं उनके लिए किस प्रकार से एनक्लोजर्स को विकसित किया जाना है।


पुराने निर्माण हटते ही दिखने लगेगा डिजाइन
बर्ड पार्क का कार्य समय पर पूरा हो इस बात पर हमारा भी पूरा जोर है। वहां अभी तेजी से कार्य चल रहा है। पुराने निर्माण हटने के बाद निर्धारित डिजाइन के अनुसार बर्ड पार्क का निर्माण होने लगेगा।
राहुल भटनागर, सीसीएफ (वन्यजीव)

bird park

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned