VIDEO : इस पार्क में ब्रांडेड आउटलेट्स खोलने की तैयारी

Mukesh Hingar

Publish: Jan, 24 2019 09:40:00 AM (IST)

Udaipur, Udaipur, Rajasthan, India

मुकेश हिंगड / उदयपुर. स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में दूधतलाई स्थित माणिक्यलाल वर्मा पार्क की सुंदरता बढऩे एवं वहां पर एडवेंचर जोन विकसित करने के लिए इसे पीपीपी मोड की तैयारी है, लेकिन इससे ग्रीन पॉकेट में दूसरी गतिविधियां भी बढ़ेंगी। अनुबंध के अध्ययन में सामने आया कि वहां पर ब्रांडेड आउटलेट्स खोले जाएंगे जिससे व्यावसायिक गतिविधियां संचालित होंगी और इस ग्रीन जोन में प्रदूषण बढऩे के पूरे आसार है। बाहर की कंपनी के साथ अनुबंध प्रक्रिया अंतिम चरण में है। अनुबंध के तहत वर्मा पार्क का पुन: विकास किया जाएगा, जिसका डिजाइन, विकास, वित्त संचालन, प्रबंधन सब ठेकेदार करेगा। वहां पर सिविल वर्क पर बहुत कम खर्च किया जाएगा लेकिन वहां पर बच्चों से लेकर बड़ों तक के लिए ढेरों एडवेंचर गतिविधियां होंगी। एडवेंचर जोन में करीब 30 तरह की गतिविधियों में से दो तिहाई का संचालन करना होगा। माछला मगरा वन क्षेत्र में स्थित इस पार्क के लिए काफी पहले वन विभाग ने यूआईटी को जमीन दी थी। अब वहां पर नया अनुबंध लागू होता है तो उसमें संचालक को कैफे के अलावा 5 अतिरिक्त कियोस्क लगाने की अनुमति भी दी जा रही है जिसका कोई क्षेत्रफल निश्चित नहीं है। पर्यावरणविदों का कहना है कि वन क्षेत्र में ब्रांडेड आउटलेट्स या रेस्टोरेंट वहां खुलते हैं तो यह राजस्थान हाइकोर्ट के फैसले की अवहेलना होगी।

वन विभाग से तो पूछा भी नहीं
हालांकि पार्क की जमीन यूआईटी के पास है लेकिन वन क्षेत्र में होने वाली गतिविधियों के लिए वन विभाग से स्वीकृति जरूरी है। वन विभाग से एनओसी लिए बगैर ही इस वन क्षेत्र में एडवेंचर जोन एवं व्यावसायिक गतिविधियां शुरू करने की तैयारी है। पूर्व में इसी पार्क के पास रोप-वे संचालन के लिए केन्द्रीय वन मंत्रालय से सशर्त स्वीकृति आने के बाद यह प्रक्रिया आगे बढ़ी थी। फिलहाल वन विभाग इस गतिविधि पर मौन है।

शर्तों पर एक नजर
- हर एडवेंचर गतिविधि की टिकट दर ठेकेदार तय करेगा, उस पर नगर निगम या स्मार्ट सिटी का कोई नियंत्रण नहीं होगा।
- संचालक को कुछ वैकल्पिक गतिविधियों का अधिकार भी दिया है जैसे बटर फ्लाई पार्क, वाटर कर्टन के जरिये लेजर शो आदि।
- वर्मा पार्क जनता के लिए हमेशा खुला रहेगा, वहां पर स्कूटर का 5 व कार का 10 रुपए पार्किंग चार्ज तीन घंटे के लिए निश्चित किया गया है।
- हर माह सरकारी स्कूल के 50 बच्चों को मुफ्त में इस पार्क की सैर।
- हर गुरुवार को वर्मा पार्क व दूध तलाई में शहरवासी व पर्यटक आधे टिकट पर एडवेंचर जोन का आनंद ले सकेंगे।
- अनुबंध दस साल के लिए होगा, इसमें ऑपरेट व रखरखाव शामिल है।

ये बोले यह ठीक नहीं...
यह वन क्षेत्र है, इसे बचाने के लिए ही तो पार्क के रूप में विकसित किया गया था। अब इसमें एडवेंचर गतिविधियों के साथ कियोस्क लगाने और दूसरी गतिविधियां बढ़ाकर जंगल को खत्म करने का काम किया जा रहा है जो ठीक नहीं है।
- ओम खत्री, सामाजिक कार्यकर्ता

अनुबंध में स्पष्ट अंकित है कि पांच ब्रांडेड आउटलेट्स खोले जाएंगे जिसका सीधा सा मतलब है कि इस शांत क्षेत्र में अशांति होगी, वन क्षेत्र में व्यावसायिक गतिविधियां बढ़ेगी। एक तरफ तो हरित क्षेत्र व जंगल बचाने की बात की जा रही है, जंगल को बाजार में तब्दील करने का काम किया जा रहा है। इस पर विचार करने की जरूरत है।
- महेश शर्मा, झील व पर्यावरण हितैषी

- पार्क में दूसरी गतिविधियों के लिए हाइकोर्ट के जो आदेश है, उसकी पालना की जाएगी। स्मार्ट सिटी कंपनी ने वहां पर बाजार का जो प्रावधान रखा है, उसको पूरा वापस देखते है।
चन्द्रसिंह कोठारी, महापौर

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned