scriptChildren became enemies of each other's life in love affair | प्रेम प्रसंग में हक जताने को एक-दूसरे की जान के दुश्मन हुए बच्चे | Patrika News

प्रेम प्रसंग में हक जताने को एक-दूसरे की जान के दुश्मन हुए बच्चे

बीते महीनों में जिले में सामने आई चौंकाने वाली घटनाएं, आक्रोश में बच्चे बाहरी लड़कों की गैंग से जुड़कर कर रहे अपराध

उदयपुर

Updated: June 13, 2022 12:36:15 pm

उदयपुर शहर और गांव के कई सरकारी-निजी स्कूलों के बच्चे गुंडा गैंग का हिस्सा बनते जा रहे हैं। इनमें ज्यादातर निजी स्कूलों की बड़ी कक्षाओं में पढऩे वाले बच्चे हैं, जो बाहरी गैंग से प्रभावित होकर फंसते जा रहे हैं। रुतबा और टशन में अपना प्रभाव जमाने के लिए हिंसक भी हो रहे हैं। इसमें सबसे बड़ा कारण प्रेम प्रसंग का आकर्षण है, जिसमें अपना हक जताने को लड़के एक-दूसरे की जान के दुश्मन हो रहे हैं। बीते महीनों में जिले में ऐसी चौंकाने वाली कई घटनाएं सामने आई, जिनमें बच्चे अपराध कर बैठे। आपराधिक कदम उठाने में ना सिर्फ अपने क्लासमेट का गुट बनाया, बल्कि बाहरी तत्वों का भी सहारा लिया गया।
प्रेम प्रसंग में हक जताने को एक-दूसरे की जान के दुश्मन हुए बच्चे
प्रेम प्रसंग में हक जताने को एक-दूसरे की जान के दुश्मन हुए बच्चे
केस 01

प्रतापनगर थाना क्षेत्र में एनबी नगर के रहने वाले छात्र ने आठ माह पहले केस दर्ज कराया था। उसके स्कूल में अन्य लड़के से विवाद हुआ, जिससे आरोपी छात्र ने कई लड़कों को बुला लिया और प्रार्थी छात्र पर जानलेवा हमला कर दिया। बीच बचाव में उसका भाई आया तो उसे भी पत्थर मारकर घायल कर दिया। आरोपी लड़कों ने एयरगन से हवाई फायर भी किया। घटना के पीछे का कारण प्रेम प्रसंग होना बताया गया।
केस 02

छह माह पहले खेरवाड़ा में स्कूली बच्चों के बीच जानलेवा हमले का केस सामने आया। एक निजी स्कूल में पढऩे वाले दो छात्रों के बीच विवाद में एक छात्र ने चार साथियों के साथ मिलकर दूसरे छात्र और उसके तीन दोस्तों पर चाकू से हमला कर दिया। मामला प्रेम प्रसंग का सामने आया। पुलिस ने हमलावर चार छात्रों को डिटेन किया। हमलावर छात्रों ने घटना में बाहरी लड़कों का भी सहारा लिया था।
केस 03

छह माह पहले ही जिले के झाड़ोल (स.) के सरकारी स्कूल में छात्रों के गुटों में जानलेवा हमला हुआ। यहां भी मामला प्रेम प्रसंग और लड़कियों से संपर्क होना सामने आया। झगड़ा गांव के चौराहे तक पहुंच गया, जहां अलग-अलग गैंग बनाकर लड़के आमने-सामने हो गए। ग्रामीणों ने स्कूल प्रशासन और अभिभावकों को सूचना दी। समझाइश से मामला थाने नहीं पहुंचा और छात्रों को चेतावनी देकर छोड़ा।
स्कूलों ने नहीं समझी जिम्मेदारी

मुद्दे को लेकर तीन केस बानगी मात्र है, बल्कि ऐसे केस स्कूलों में आए दिन होते हैं। स्कूल प्रबंधन ऐसे मामलों को हल्के में लेकर जिम्मेदारी से पीछे हटते हैं। बच्चों को स्कूल से निकालने की चेतावनी देकर चुप कर दिया जाता है, जबकि बच्चों की काउंसलिंग करवाई जानी चाहिए।
पत्रिका अभियान

यदि आपके बच्चे भी ऐसी गैंग के शिकार हुए हैं या स्कूल में परेशानी से गुजरे हैं तो वॉट्सएप नम्बर 9672992535 पर मैसेज करें। बच्चे और आपकी पहचान को गोपनीय रखा जाएगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

नुपूर शर्मा को सुप्रीम कोर्ट की फटकार, कहा- आपके बयान के चलते हुई उदयपुर जैसी घटना, पूरे देश से टीवी पर मांगे माफीहैदराबाद में आज से शुरू हो रही BJP की कार्यकारिणी बैठक, प्रधानमंत्री मोदी कल होगें शामिल, जानिए क्या है बैठक का मुख्य एजेंडाआज से प्रॉपर्टी टैक्स, होम लोन सहित कई अन्य नियमों में हुए बदलाव, जानिए आपके जेब में क्या पड़ेगा असरकेंद्रीय मंत्री आर के सिंह का बड़ा बयान, सिर काटने वाले आतंकियों के खिलाफ बनेगा UAPA की तरह सख्त कानून!LPG Price 1 July: एलपीजी सिलेंडर हुआ सस्ता, आज से 198 रुपए कम हो गए दामकेंद्रीय मंत्री आर के सिंह का बड़ा बयान, सिर काटने वाले आतंकियों के खिलाफ बनेगा UAPA की तरह सख्त कानून!Jagannath Rath Yatra 2022: देशभर में भगवान जगन्नाथ रथयात्रा की धूम, अमित शाह ने अहमदाबाद में की 'मंगल आरती'Kerala: सीपीआई एम के मुख्यालय पर बम से हमला, सीसीटीवी में कैद हुआ आरोपी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.