नौंवी से बारहवीं कक्षा के बच्चे पहुंच रहे स्कूल तो कॉलेज की कक्षाएं बंद क्यों ?

- पत्रिका पड़ताल - सरकार ने जारी की है एसओपी (मानक संचालन प्रक्रिया)

By: bhuvanesh pandya

Published: 23 Jan 2021, 08:30 AM IST

भुवनेश पंड्या
जब नौंवी से बारहवीं कक्षा के बच्चों के लिए स्कूलों को खोल दिया है, तो कॉलेज में पढऩे वाले बड़े बच्चों की कक्षाएं यानी स्नातक प्रथम वर्ष, द्वितीय वर्ष और स्नातकोत्तर प्रथम वर्ष की कक्षाओं को शुरू करने की हरी झंडी नहीं दी है। कोरोना महामारी को देखते हुए सरकार ने इसके लिए मानक संचालन प्रक्रिया जारी की थी। इसमें स्नातक तृतीय वर्ष और स्नातकोत्तर अंतिम वर्ष की कक्षाओं को 18 जनवरी से शुरू करना था, लेकिन फिलहाल कॉलेजों में इन विद्याथियों की कक्षाएं नियमित नहीं हो पाई है़ं। अपेक्षा अनुरूप विद्यार्थी नहीं पहुंच रहे हैं। पत्रिका ने गुरुवार को कला महाविद्यालय, विज्ञान महाविद्यालय, वाणिज्य महाविद्यालय, मीरा कन्या महाविद्यालय में जमीनी हकीकत जानी तो कुछ ये हाल नजर आए।

-----

उदयपुर. सरकार ने भले ही कॉलेजों के थर्ड इयर और पीजी की फाइनल इयर की कक्षाओं को 18 जनवरी से शुरू करने का आदेश जारी किया है, लेकिन कॉलेजों में ये कक्षाएं भी पूरी तरह से शुरू नहीं हो पाई हैं। इन कक्षाओं में केवल 50 प्रतिशत विद्यार्थियों को बुलाना था, लेकिन फिलहाल अधिकांश कॉलेजों की तृतीय वर्ष की कक्षाओं में तो विद्यार्थी आ ही नहीं रहे।

------

वाणिज्य महाविद्यालय उदयपुर: समय- दोपहर 1.10 बजेयहां कक्षाएं संचालित नहीं मिली। सीए की परीक्षा होने के कारण परीक्षार्थी पहुंचे थे। कुछ प्रथम वर्ष व द्वितीय वर्ष के विद्यार्थी कैंपस में पहुंचे थे, पूछने पर उन्होंने बताया कि जानकारी लेने पहुंचे हैं कि कब कक्षाएं शुरू होगी। प्राचार्य प्रो.पीके सिंह ने बताया कि फिलहाल सुबह सात से 10 बजे तक की कक्षाओं में बच्चे जरूर आ रहे हैं, लेकिन संख्या कम हैं। अभिभावक में भी कोरोना का डर है, साथ ही ऑनलाइन कक्षाएं चल रही है, इसका असर शुरुआती ऑफ लाइन कक्षाओं पर साफ नजर आ रहा है।

----

विज्ञान महाविद्यालय: समय 1 बजेयहां एमएससी स्टेटिस्टिक्स की एक मात्र कक्षा चलती हुई मिली। कुछ विद्यार्थी प्रथम वर्ष से तृतीय वर्ष के कॉलेज कैंपस में जरूर नजर आए। तृतीय वर्ष के विद्यार्थियों का कहना था कि अभी तक उनकी कक्षाएं शुरू नहीं हुई है। प्राचार्य प्रो. कनिका शर्मा ने बताया कि बुलाने पर भी विद्यार्थी नहीं आ रहे। प्रेक्टिकल के लिए तृतीय वर्ष के विद्यार्थियों को बुलाएंगें। अभी बेहद कम बच्चे आ रहे है।

------

कला महाविद्यालय- समय 12.30 बजेयहां विजुअल आट्र्स की कक्षा चल रही थी। अधिकांश विद्यार्थी बाहरी कैंपस में नजर आए। यहां गिने-चुने विद्यार्थी पहुंच रहे हैं। कॉलेज ने विद्यार्थियों से अभिभावकों का अनुमति पत्र भी मांगा हैं, ऐसे में यहां बेहद कम विद्यार्थी आ रहे है। प्राचार्य प्रो. सीमा मलिक ने बताया कि अभी तृतीय वर्ष की कक्षाएं शुरू की हैं। हालांकि अपेक्षाकृत विद्यार्थी कम आ रहे है, ऑनलाइन व ऑफलाइन कक्षाएं चल रही है, जो स्वयं नहीं आ रहा वह ऑनलाइन पढ़ रहा है।

-----

मीरा कन्या महाविद्यालय- 1.05 बजेयहां तृतीय वर्ष वाणिज्य की कक्षा चल रही थी, छात्राएं पूरे प्रोटोकोल से मास्क पहने बैठी नजर आई। फिलहाल कॉलेज में तृतीय वर्ष व पीजी फाइनल इयर की कक्षाएं शुरू की हैं, लेकिन अपेक्षाकृत छात्राओं की संख्या कम है। प्राचार्य प्रो.निधि श्रीवास्तव ने बताया कि कोरोना के नियमों के अनुरूप कक्षाएं शुरू की है, लेकिन छात्राओं की संख्या कम है। कोशिश है कि प्रेक्टिकल वाले विषयों में छात्राएं अधिक पहुंचे तो बेहतर पढ़ाई हो सकेगी।

-------

स्कूलों में स्थिति - गांवों से लेकर शहरों तक स्कूल शुरू होने के साथ ही बेहतर संख्या में बच्चे पहुंचने लगे हैं।

- कुराबड ब्लॉक के उमावि बोरी में एक कक्षा में विद्यार्थी पढ़ते दिखे। यहां सीबीइओ जांच के लिए भी पहुंचे थे। - राउमावि लखावली की एक कक्षा में विद्यार्थी मास्क पहने पढ़ते दिखे।

- राउमावि आसोलियों की मादडी की कक्षा में भी विद्यार्थी पढ़ते नजर आए।

- राजकीय माध्यमिक विद्यालय पहाड़ा- कक्षा 9 में उपस्थिति का प्रतिशत 60 प्रतिशत हो गया है।

- नवजीवन स्कूल, सेक्टर 14- स्कूल में नवी और दसवीं में 70 छात्र-छात्राएं आ रहे हैं।

- डीपीएस स्कूल में भी सोशियल डिस्टेंसिंग व कोरोना प्रोटोकोल से कक्षाएं चल रही है।

---------

bhuvanesh pandya
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned