राजस्‍थान में मिलने वाली ‘कॉमन जेजेबेल’ राष्ट्रीय तितली बनने की दौड़ में

- सात में से चुनी जानी है एक राष्ट्रीय तितली, राजस्‍थान में 114 और मेवाड़ में पाई जाती हैंं 106 प्रकार की तितलियां

By: madhulika singh

Published: 23 Sep 2020, 12:49 PM IST

उदयपुर. राजस्थान और मेवाड़ में मिलने वाली कॉमन जेजेबेल तितली, उन सात तितलियों में शामिल है, जिनमें से राष्ट्रीय तितली चुनी जानी है। तितली की ये खूबसूरत प्रजाति है, जो आमतौर पर यहां पाई जाती है। दरअसल, राष्ट्रीय तितली चुनने का अभियान 10 सितंबर से शुरू हुआ है, जिसमें लोग वोटिंग के माध्यम से राष्ट्रीय तितली का चुनाव कर सकते हैं।

तितलियों पर शोध कर रहे डूंगरपुर के विशेषज्ञ मुकेश पंवार के अनुसार, मेवाड़ व वागड़ में 106 प्रजातियों, जबकि प्रदेशभर में 114 तरह की तितलियां पाई जाती हैं। राष्ट्रीय तितली बनने की दौड़ में शामिल कॉमन जेजेबेल या इंडियन जेजेबेल तितली राजस्थान में ही पाई जाती है। ये तितली अपना जीवनचक्र डेण्ड्रोफ्थोए फाल्काटा वनस्पति पर पूरा करता है। ये वनस्पति घने जंगलों के पुराने पेड़ों पर ही ज्यादा पाई जाती है, जैसे सागवान, हर, तेंदू, सारल, गोंदल, पलाश आदि वृक्षों के ऊपर ही परजीवी के रूप में रहती है। अत: इस एक तितली के संरक्षण के लिए इन अनेकानेक वृक्ष व वन क्षेत्रों के संरक्षण की भी पहल कर सकते हैं।


ये 7 तितलियां हैं दौड़ में

- फाइव बार स्वॉर्डटेल
- इंडियन जेजेबेल

- इंडियन नवाब
- कृष्णा पीकॉक

-ऑरेंज ऑकलीफ
- नॉर्दर्न जंगल क्वीन

- यलो गॉर्गन

8 अक्टूबर तक की जा सकती है वोटिंग
भारत में कुल 1500 प्रकार की तितलियां पाई जाती हैं। राष्ट्रीय तितली चुनने का अभियान 10 सितंबर से शुरू हुआ है और 8 अक्टूबर तक ऑनलाइन मतदान करके सात में से अपनी पसंदीदा एक तितली का चयन कर सकते हैं। इसके लिए लिंक ह्लद्बठ्ठ4.ष्ष्/ठ्ठड्डह्लद्बशठ्ठड्डद्यड्ढह्वह्लह्लद्गह्म्द्घद्य4श्चशद्यद्य पर जाना होगा। अधिकतम वोट प्राप्त करने वाली तितली को राष्ट्रीय तितली चुना जाएगा।

madhulika singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned