गांव को खुले में शौच मुक्त के लिए बनाए सामुदायिक शौचालय

सरकार अब शहरों की तर्ज पर गांवों में सामुदायिक शौचालयों के निर्माण पर जोर दे रही

धरियावद. स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण योजनान्र्तगत ग्रामों को खुले में शौच से मुक्त एवं ग्रामों को स्वच्छ, सुंदर ग्राम बनाने की दिशा में सरकार अब शहरों की तर्ज पर सामुदायिक शौचालयों के निर्माण पर जोर दे रही है। आदिवासी बहुल्य धरियावद ब्लाक की 38 ग्राम पंचायतों में इन दिनों सामुदायिक शौचालय निर्माण बनााए जा रहे हैं। अधिकांश जगह ऐसे शौचालय बनकर तैयार हो चुके हैं। पंचायत स्तर के सामुदायिक शौचालयों के अलावा फरवरी में ग्राम पंचायत मद से 115 अतिरिक्त सामुदायिक शौचालय भी स्वीकृत किए गए। इनका निर्माण कार्य भी युद्धस्तर पर चल रहा है। इससे धरियावद ब्लाक के प्रत्येक राजस्व ग्राम को एक-एक सामुदायिक शौचालय की सौगात मिलेगी। सामुदायिक शौचालय के निर्माण कार्य की खुद विकास अधिकारी भगवानसिंह कुम्पावत, स्वच्छत्ता ब्लाक समन्वयक मनोज कुमार भंवरा समय-समय पर दौर निरीक्षण कर इसका जायजा ले रहे हैं।

29 जगह शौचालय तैयार
स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण योजनान्र्तगत प्रतापगढ़ जिले की धरियावद पंचायत समिति अधीनस्थ 38 ग्राम पंचायतों में से 34 में सामुदायिक शौचालय एसबीएम के जरिए स्वीकृत हो चुके। इनमें से 29 जगह यह शौचालय बनकर तैयार हैं। शेष 5 जगहों पर निर्माण कार्य अंतिम चरण में चल रहा है।


यह मिलेगी सुविधा
ब्लाक समन्वयक मनोजकुमार भंवरा के अनुसार ब्लाक के प्रत्येक ग्राम पंचायत स्तर पर निर्मित सामुदायिक शौचालयों में महिला एवं पुरूष के लिए अलग अलग शौचालय बने हुए इनमें यूरिन टॉयलेट के अलावा 1-1 डब्लुयूसी टॉयलेट भी बनाए गए हैं। इनमें एक-एक हाथ धुलाई के लिए आकर्षक बेसिन भी बनाई गई। यहां हाथ धुलाई के लिए साबुन भी रखे जाएंगे तथा पानी सप्लाई के लिए शौचालय भवन पर एक-एक प्लास्टिक टंकी रखवाई गई है। इसके साथ ही इन सामुदायिक शौचालय पर आकर्षक रंगरोगन एवं स्वच्छत्ता के प्रति जागरूकता का संदेश देने वाली चित्रकारी एवं कलाकृति बनाई गई हैं रखरखाव ग्राम पंचायत के करेगी।


प्रति शौचालय 2 लाख की राशि
स्वच्छ भारत ग्रामीण मिशन में पंचायत स्तर पर सार्वजानिक जगहों पर बनाए जा रहे इन सामुदायिक शौचालय के निर्माण रखरखाव के लिए ग्राम पंचायत को कार्यकारी एजेंसी नियुक्त किया गया। इसमें प्रति सामुदायिक शौचालय 2 लाख की राशि ग्राम पंचायतों को दी गई। इनमें से एसबीएम के जरिए 1 लाख 80 हजार एवं ग्राम पंचायत एसएफसी मद से 20 हजार रुपए की राशि जारी की गई है।

madhulika singh Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned