दस दिन में कोरोना डकार गया 50 हजार विटामिन सी, पांच हजार एजिथ्रोमाइसिन, 10 हजार जिंक टेबलेट

- लगातार बढ़ रहे हैं रोगी
- अब तक दवाओं की उपलब्धता ठीक, लेकिन अब हो सकती है कमी

By: bhuvanesh pandya

Published: 15 Apr 2021, 09:05 AM IST

भुवनेश पंड्या
उदयपुर. उदयपुर में इन दस दिनों में विटामिन सी करीब 50 हजार, जिंक करीब 10 हजार खर्च हुई हैं। वहीं इन 10 दिनों में ही कोरोना पांच हजार एजिथ्रोमाइसिन डकार गया है। लगातार दूसरी दवाइयों की खपत भी जारी है। यदि पिछले माह की बात करें तो अभी जो दवाओं की खपत है उससे करीब आधी दवाओं की खपत थी, लेकिन अभी हालात बिलकुल उलट हैं। लगातार मामले सामने आ रहे हैं तो हर कोई जैसे कोरोना की गिरफ्त में आ रहा है।
-----

ये है असल हालात:
- कोरोना की प्रथम लहर के बाद केसेज काफी कम हो गए थे। मार्च में फिर दूसरी लहर आने से केसेज बढऩे लगे और एक अप्रेल से यकायक कोरोना मरीजों की संख्या में तेजी से बढ़ोतरी हुई। मामले कई गुना बढऩे से मेडिकल कॉलेज उदयपुर के स्तर पर इसके बचाव, उपचार के लिए दवाइयों की उपलब्धता बनाए रखी। अब तक राजस्थान मेडिकल सर्विस कॉरपोरेशन लिमिटेड की ओर से दवाओं की पूरी उपलब्धता रखी गई है, लेकिन अब जिस तरह से खपत बढ़ रही है, इससे समस्या आ सकती है।

------
ये है उपलब्धता

संख्या- साधन या दवाई
34 हजार एन-95 मास्क

18 हजार- पीपीइ किट
17700 कोरोना टेस्ट किट

6 लाख एजिथ्रोमाइसिन टेबलेट
21 हजार प्राइप्रासिलिन व टैजोब्रेक्टम इंजेक्शन

8 हजार- लिनेजोनिड इंजेक्शन
48 हजार जिंक सेल्फेट टेबलेट

1 लाख 60 हजार विटामिन सी टेबलेट
3 लाख - विटामिन सी

2 लाख - जिंक टेबलेट
----------

ऐसे बढ़ती जा रही है खपत
इन दवाओं की खपत में पिछले माह की तुलना में कई गुना बढ़ोतरी होने के बाद भी दवाएं मिल रही है। जिसमें एजिथ्रोमाइसिन टेबलेट की अप्रेल माह में दस दिनों में पांच हजार की खपत हुई है, जबकि पिछले पूरे माह में करीब एक चौथाई ही खपत हुई थी, इसी प्रकार फेस मास्क की 31 हजार की खपत हुई थी। लिनेजोलिड इंजेक्शन की पिछले पूरे माह में सात हजार की खपत हुई थी, लेकिन अप्रेल के दस दिनों में ही 14500 इंजेक्शन की खपत हो चुकी है।

फिलहाल दवाएं उपलब्ध
भंडार में फिलहाल तो पर्याप्त दवाएं उपलब्ध है, कोरोना से बचाव व उपचार में काम आने वाली ओषधियां की उपलब्धता बनी रहे इसके प्रयास कर रहे हैं। नियमित आरएमएससी जयपुर से संपर्क बनाए रखा है, जो टैबलेट कम होने वाली होती है, उसे तत्काल मंगवाया जा रहा है।

डॉ. दीपक सेठी, नोडल ऑफिसर, ड्रग वेयर हाउस, मेडिकल कॉलेज उदयपुर

bhuvanesh pandya
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned