कोरोना को हराने के लिए तैयार हो रहा कोविड-19 वैक्सीन फ्रीजर फाउण्डेशन यानी 'जीवन डोर

- नए वर्ष में नई उम्मीदें - खुश खबर: पत्रिका पहुंचा बड़ी स्थित वैक्सीन स्टोर तक

By: bhuvanesh pandya

Published: 03 Jan 2021, 10:06 PM IST

भुवनेश पंड्या
उदयपुर. नए वर्ष में माहौल बदलेगा, हम जीतेंगे, जरूर जीतेंगे, हमारी जीत तय है, और इसकी शुरुआत होगी कोरोना को हराने से। कोरोना को हराने के लिए आने वाली एंटी कोरोना वैक्सीन के लिए उदयपुर में बहुत ही तेजी से काम चल रहा है। यहां बड़ी स्थित वैक्सीन स्टोर में डब्ल्यूआईसी वॉक इन कूलर के लिए फाउण्डेशन तैयार किया जा रहा है, जबकि टीके लगाने के लिए सीरिंज की पहली खैप पहुंच चुकी है। इसके साथ ही उदयपुर में 60 फ्रीजर भी पहुंच चुके हैं। ये फ्रीजर इस फाउण्डेशन पर लगाए जाएंगे। फिर जैसे ही वैक्सीन पहुंचेगी, इसे यहां फ्रीजर मेंं रखा जाएगा और नियमानुसार टीकाकरण शुरू किया जाएगा।
------

ये है तैयारी: -

- विभाग ने सभी कार्मिकों के प्रशिक्षण शुरू कर दिए हैं, इसमें से जो बकाया है वो जल्द से जल्द नए वर्ष में पूरे किए जाएंगे।

- देश भर में जहां वैक्सीन का ड्राई रन दो जनवरी को होगा, वहीं यहां भी ड्राइ रन आयोजित किया जाएगा, ताकि इस मॉक ड्रिल से ये पता चलेगा कि किस तरह से टीकाकरण किया जाएगा।

- चिकि त्सा विभाग ने सभी टीकाकरण केन्द्रों के नाम तय कर लिए हैं, जल्द ही जिला प्रशासन के मार्गदर्शन के बाद सभी संबंधित प्रभारियों को इसकी जानकारी दी जाएगी ताकि वे तय समय पर इसकी तैयारी कर लें।

- बस इंतजार वैक्सीन आने का है, जैसे ही वैक्सीन आती है, तो ये इस डब्ल्यूआईसी वॉक इन कूलर में रखा जाएगा, यदि जरूरत पड़ी तो इसे अन्य उपलब्ध वैक्सीन स्टोर में भी रखा जा सकेगा।

-----

एक नजर ये भी समझे: पत्रिका उस वैक्सीन स्टोर तक भी पहुंचा जहां फिलहाल तो पोलियों की वैक्सीन रखी गई है, लेकिन इसी तर्ज पर ही ये एंटीकोरोना वैक्सीन भी रखी जाएगी। जैसे पोलियो वैक्सीन बॉक्स में पहुंच रही है, वैसे ही एंटी कोरोना भी बॉक्स में उदयपुर पहुंचे। इस नए तैयार हो रहे वैक्सीन स्टोर में पूरे संभाग यानी उदयपुर से ही सभी छह जिलों के चिकित्सा केन्द्रों तक पहुंचेगी। जो पोलियो वैक्सीन फिलहाल यहां पहुंची है, वह यहां एक अन्य वैक्सीन स्टोर में रखी गई है।

------

टीकाकरण में फ ोकस- वैक्सीन की डिलीवरी से लेकर व्यक्ति में लगने तक की जानकारी रखी जाएगी।- क्षेत्रीय वैक्सीन सेंटर से दवा जिले के कोल्ड चेन सेंटर तक पहुंचेगी। यहां से तय जिला अस्पताल, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, निजी स्वास्थ्य केंद्र या अन्य स्वास्थ्य केंद्र पर पहुंचेगी।

- मेडिकल ऑफि सर, वैक्सीन हैंडलर, वैक्सीनेटर, वैकल्पिक वैक्सीनेटर, सुपरवाइजर, डेटा मैनेजर, आशा को ऑर्डिनेटर उपस्थित रहेंगी।- वैक्सीन के साइड इफेक्ट्स होने पर मरीज को स्वास्थ्य सुविधा देने के लिए एफ आई किट की उपलब्धता, इंफेक्शन कंट्रोल प्रैक्टिस के लिए भी विशेषज्ञ मौजूद रहेंगे।

- भीड़ नियंत्रित करने को मानव संसाधन की भी व्यवस्था की जाएगी। फि जिकल डिस्टेंसिंग का भी ख्याल रखा जाएगा।

- वैक्सीन की जानकारी, संख्या को विन पोर्टल पर उपलब्ध रहेगी। किस व्यक्ति को किस वैक्सीनेटर ने किस कंपनी की डोज कब दी, सब नोट किया जाएगा।

-----

स्पेशल बॉक्स में रहेगी वैक्सीन- लाइट जाने के बाद भी 10 से 12 घंटे माइनस 8 डिग्री तक रहेगा तापमान वैक्सीन को स्पेशल बॉक्स में रखा जाएगा, यदि बिजली चली भी गई तो इस बॉक्स में वैक्सीन 10 से 12 घंटे तक माइनस 2 से माइनस 8 डिग्री तापमान में रह सकती है। वैक्सीनेशन के मूवमेंट और वैक्सीन लगने को लेकर बताया कि एक स्थान पर पांच लोग स्टाफ के रूप में तैनात होंगे। प्री रजिस्ट्रेशन के जरिए ही वैक्सीन लगेगी। रजिस्ट्रेशन के बाद मैसेज आएगा, जिसमें तारीख और सेंटर के बारे में जानकारी रहेगी। उन्होंने बताया कि किसी को कोविड हो गया है और वह ठीक हो चुका है, उसे भी वैक्सीन लगवानी है। जो भी वैक्सीन आने वाली है, वह पूरी तरह से सुरक्षित होगी।

-------

फैक्ट फाइल

- हैल्थ केयर वर्कर जिन्हें वैक्सीन लगेगी- 27 हजार, कोविन एप पर पंजीकृत

15 हजार- सरकारी

12 हजार- निजी

- जिले में कोल्ड स्टोरेज - 111/ नए के साथ मिलाकर कुल 117

छह नए खोले- इसमें मादड़ी अरबन पीएचसी, चित्रावास, जयसमन्द, जगत, टोकर व लकड़वास

प्रस्तावित- चित्रकूट नगर, सरेरी, देवला, ढेलाणा

- चारों नए के साथ मिलाकर कुल 121 हो जाएंगे।

-----

bhuvanesh pandya
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned