उदयपुर के निजी अस्पताल में नवजात की हालत बिगड़ी तो परिजनों की मारपीट और तोडफ़ोड़, पुलिस ने पहुंचकर पाया काबू

-दोनों पक्षों की ओर से हाथीपोल थाने में मामला दर्ज कराया इधर, अस्पताल प्रबंधन ने तोडफ़ोड़, मारपीट व लूटपाट की दी रिपार्ट

Mohammed Iliyas

December, 1001:54 AM

Udaipur, Rajasthan, India

उदयपुर . मधुवन स्थित राहत हॉस्पिटल में भर्ती एक नवजात की हालत बिगडऩे पर परिजनों का आक्रोश फूट पड़ा। उन्होंने रिश्तेदारों के साथ शनिवार दोपहर अस्पताल में तोडफ़ोड़ व मारपीट करते हुए हंगामा मचाया। पुलिस ने मौके पर पहुंच हालत को काबू में किया। इस संबंध में दोनों पक्षों की ओर से हाथीपोल थाने में रिपोर्ट दी गई है। परिजनों ने चिकित्सकों पर इलाज में लापरवाही व अस्पताल प्रबंधन ने मारपीट, तोडफ़ोड़ व लूटपाट का आरोप लगाते हुए मामला दर्ज करवाया।

 

READ MORE : video: दक्षिणी राजस्थान बना गुजरात जाने वाली अवैध शराब का Launch Pad , यहां से सालों से शराब माफिया कर रहे तस्करी

 

सविना खेड़ा निवासी निर्भयसिंह पुत्र भानसिंह ने रिपोर्ट में बताया कि उसकी पत्नी ने 29 नवम्बर को एक बच्ची को कल्पना नर्सिंग होम में जन्म दिया। 7 माह की अपरिपक्व होने पर चिकित्सकों ने उसे बेहतर इलाज बताकर राहत हॉस्पिटल रेफर कर दिया। आरोप लगाया कि हॉस्पिटल में लगातार चिकित्सक झूठा आश्वासन देकर बच्ची की हालत में सुधार की जानकारी देते रहे। बच्ची जन्म के समय पूरी तरह से स्वस्थ्य थी तथा उसके पैर में हल्का इंफेक्शन बताया। चिकित्सकों की लापरवाही से इंफेक्शन फैलता रहा।

 

सुबह बच्ची की हालत बिगडऩे पर उसे राजकीय चिकित्साल रेफर किया गया। हॉस्पिटल की एम्बुलेंस से ही बच्ची को राजकीय चिकित्सालय छोड़ा गया। वहां पर चिकित्सकों ने इलाज में लापरवाही की जानकारी दी। राहत हॉस्पिटल में जानकारी देने पर उन्होंने हमारे साथ धक्कामुक्की की। परिजनों ने आठ दिनों में इलाज पर करीब एक लाख से अधिक राशि खर्च होना बताया।

crime,Newborn,beating in hospital,crime in udaipur,udaipur hindi latest news,udaipur latest hindi news,hathipol police,

अस्पताल प्रबंधक अरविंदर सिंह ने बताया कि बच्चे को उसके माता-पिता 12.45 बजे डिस्चार्ज करवाकर ले गए। बिल भुगतान करते समय धमकाकर गए कि हम वापस आकर पैसे लेकर जाएंगे। आधे घंटे बाद 10-15 लोग आए और तोडफ़ोड़ व लूटपाट की। नर्सिंग स्टाफ रियाज अहमद, डॉक्टर पूजा चान्दोलिया के साथ मारपीट की। तुरंत जाब्ता बुलवाया। पुलिस ने हालत को काबू में किया।

 

इधर, इंडियन मेडिकल एसोसिएशन, मेडिकल प्रेक्टिसनर सोसाइटी, राजस्थान मेडिकल कॉलेज टीचर्स एसोसिएशन, ऑल राजस्थान इन सर्विस डॉक्टर्स एसोसिएशन एवं रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन ने शनिवार शाम अरावली हॉस्पिटल में आपात बैठक में मंत्रणा की। सभी संगठनों के प्रतिनधियों ने एक स्वर में तोडफ़ोड़ में लिप्त लोगों को सबक सिखाने की ठानी।

 

साथ ही ज्ञापन लेकर रात करीब 10 बजे पुलिस अधीक्षक के आवास पहुंचे। आईएमए अध्यक्ष डॉ. सुनील चुघ, डॉ. आनंद गुप्ता, आरएमसीटीए के डॉ. राहुल जैन, अरिस्दा के डॉ. तरुण व्यास, आरडीए अध्यक्ष डॉ. राजवीरसिंह एवं महासचिव डॉ. दीपाराम पटेल के हस्ताक्षरयुक्त ज्ञापन में घटना की निंदा की। साथ ही डॉक्टर्स की सुरक्षा को लेकर कानून का हवाला देकर चिकित्सालयों में होने वाली तोडफ़ोड़ की घटना का विरोध दर्ज कराया।

Show More
Mohammed illiyas
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned