फसलों को मिला जीवनदान, बुवाई अब भी बाकी

पिछले वर्षाकाल में हुई थी 1000 मिमी से ज्यादा बारिश, इस बार केवल 179 मिमी बरसात होने से मुरझाने लगी थी फसल

By: jitendra paliwal

Updated: 27 Jul 2020, 12:11 AM IST

उदयपुर. करीब तीन सप्ताह से ज्यादा वक्त से अच्छी बारिश का इंतजार कर रहे जिलेभर के किसानों को शुक्रवार की बारिश से राहत मिली। फसलों को जीवनदान मिलने से उनके चेहरे खिल गए। पिछले वर्षाकाल के मुकाबले अब तक बारिश भी कम ही हुई है।
कृषि विभाग को पिछले साल के मुकाबले इस बार ५५९६ हेक्टेयर में फसल ज्यादा बोने का लक्ष्य दिया गया था। मक्का, चावल, ज्वार, बाजरा जैसी फसलें पिछले साल के 170200 हेक्टेयर के मुकाबले इस बार 183000 में बोई जाएंगी, जबकि अभी तक 168763 हेक्टेयर में यानि 92.22 फीसदी बुवाई हुई है। इसी तरह दलहन में मूंग, उड़द, मोठ, चवला, अरहर आदि पिछले साल के 11100 के मुकाबले 6557 हेक्टेयर में यानि 59.61 प्रतिशत ही बुवाई हुई है। तिलहन में मूंगफली, तिल, सोयाबीन, अरड़ी आदि पिछली बार के 35000 के मुकाबले 25000 हेक्टेयर में बोने का लक्ष्य था, जिसकी तुलना में 28699 हेक्टेयर में बुवाई हो गई है। लक्ष्य 114. प्रतिशत हासिल कर लेने का दावा किया गया है। वाणिज्यिक में गन्ना की 82 फीसदी, कपास की 119.60, ग्वार की 55.03 और दूसरी किस्म की फसलों की 72.94 प्रतिशत बुवाई हो चुकी है।
वर्ष 2019-20 में 2 लाख 36 हजार 500 हेक्टेयर में खरीफ की बुवाई हुई थी, जबकि इस बार 2 लाख 42 हजार 200 हेक्टेयर में बुवाई लक्ष्य रखा। अब तक 2 लाख 42 हजार 492 हेक्टेयर यानि 90.62 प्रतिशत जमीन पर बीज बो दिए हैं।

खरीफ फसल बुवाई-2020 की स्थिति (हेक्टेयर में)
फसल बुवाई 2019-20 लक्ष्य 2020 बुवाई प्रतिशत
चावल 5000 5000 2831 56.62
ज्वार 5000 7000 8148 116.40
मक्का 160000 170000 157456 92.62
छोटे धान्य 200 1000 328 32.80

--बारिश की स्थिति--
179 मिमी बारिश हुई इस जुलाई में अभी तक
250 मिमी बरसात हुई थी पिछली बार इस समय तक
1048 मिमी से ज्यादा पानी गिरा पूरे सीजन में
----
बारिश हो गई है, इसलिए अब किसानों के लिए चिंता का विषय नहीं है। अब फिर से बरसात का दौर शुरू होने की उम्मीद है। पानी की कमी से अभी तक फसलों को नुकसान होने की कहीं से कोई सूचना नहीं है।
के.एन. सिंह, उप निदेशक, कृषि विभाग

jitendra paliwal
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned