महामारी के बीच चक्रवाती आफत , ब‍िजली, ऑक्‍सीजन और आपदा प्रबंधन पर रहेगी नजर

तीन टीमें रखेंगी अस्पतालों में बिजली आपूर्ति पर नजर

By: madhulika singh

Published: 17 May 2021, 04:10 PM IST

उदयपुर. चक्रवाती तूफान तौकते के कारण कोविड मरीजों के उपचार में कोई बाधा उत्पन्न न हो इसके लिए जिला कलक्टर चेतन देवड़ा ने जिला परिषद सभागार में रविवार को आपातकालीन बैठक बुलाई। जिला कलक्टर ने अजमेर विद्युत वितरण निगम लिमिटेड को निर्देश दिये कि वे तीन क्लस्टर बनाकर प्रत्येक में एक तकनीकी दल बनाएं जो न्यूनतम समय में बिजली व्यवस्था में बाधा उत्पन्न होने पर उस सुचारू कर सके। मै. आदर्श गैसेस, मै. अर्नेस्ट गैसेस प्रा. लि. पर बिजली व्यवस्था सुचारू रूप से रखने हेतु एक डेडिकेटेड टीम लगायी जाए, ताकि पावर कट होने की स्थिति में तत्काल बिजली व्यवस्था सुचारू की जा सकें।

एसडीआरएफ, नागरिक सुरक्षा दल और पुलिस अलर्ट
जिला कलक्टर ने पुलिस, एसडीआरएफ और नागरिक सुरक्षा विभाग को अलर्ट मोड पर रहने के निर्देश दिए। एडीएम प्रशासन ओ.पी. बुनकर ने बताया कि नागरिक सुरक्षा विभाग में 300 स्वयंसेवक है जिनमें से 100 कार्यरत है तथा 32 राउन्ड दी क्लोक कार्य कर रहे हैं। विभाग के पास फायर ब्रिगेड, मिनी ट्रक, 409 एवं बौलेरों उपलब्ध है। एसडीआरएफ द्वारा निजी जेसीबी व ट्रेक्टर संचालकों से सम्पर्क कर रोड जाम की स्थिति से निपटने हेतु अलर्ट रहने हेतु निर्देशित किया गया है। पुलिस विभाग, नागरिक सुरक्षा दल तथा एसडीआरएफ को अलर्ट मोड पर रहने हेतु निर्देशित किया गया तथा पुलिस विभाग को निर्देश दिये गये कि चक्रवात के दौरान यदि कहीं पर भी जाम की स्थिति बनती एवं आवागमन बाधित होता है तो तुरन्त कानून व्यवस्था सुनिश्चित करने हेतु अलर्ट मोड पर रहें।

ऑक्सीजन परिवहन रहे सुचारू
बैठक के दौरान जिला कलक्टर ने चक्रवात के दौरान राष्ट्रीय राजमार्ग, राजमार्ग सड़के आदि क्षतिग्रस्त होने की आशंका जताते हुए कहा कि चट्टाने खिसकने, पेड़ गिरने आदि से परिवहन बाधित हो सकता है। कोविड-19 के तहत प्रभावित लोगों के ईलाज हेतु जामनगर एवं हजीरा से आॅक्सीजन सड़क मार्ग से उदयपुर टेंकर द्वारा लाई जा रही है एवं मार्ग बाधित होने से ऑक्सीजन आपूर्ति में बाधा उत्पन्न हो सकती है। अतः परिवहन सुगम करने हेतु कार्यवाही सुनिश्चित करें ताकि कोविड-19 के संक्रमितांे के इलाज हेतु आॅक्सीजन आपूर्ति में कोई बाधा उत्पन्न नहीं हों।

बैठक में जिले के सभी विभागों को निर्देश प्रदान किये गये कि उनके सभी अधिकारी एवं कार्मिक मुख्यालय पर उपलब्ध रहेंगे तथा बिना पूर्वानुमति के वे मुख्यालय परित्याग नहीं करेंगे। बैठक में एडीडम प्रशासन ओ.पी. बुनकर, स्मार्ट सिटी लिमिटेड उदयपुर के सीईओ नीलाभ सक्सेना, एसडीएम गिर्वा अपर्णा गुप्ता सहित प्रशासन और पुलिस के आला अधिकारी उपस्थित थे।

Show More
madhulika singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned