डबल मास्क सुरक्षा नहीं खतरा है...

- एमबी में खूब लगा रहे हैं स्वास्थ्यकर्मी - ना केवल मास्क बिगाड़ रहे बल्कि खुद की जान से भी कर रहे खिलवाड़

By: bhuvanesh pandya

Updated: 24 May 2020, 07:16 AM IST

भुवनेश पंड्या

उदयपुर. महाराणा भूपाल हॉस्पिटल के कोरोना वार्ड से लेकर अन्य वार्डों में कई चिकित्साकर्मी दो या इससे अधिक मास्क एक साथ उपयोग कर रहे हैं, वे ये समझते है कि कई मास्क एक साथ लगाने से सुरक्षा बढ़ जाएगी लेकिन वे गलत हैं। इसलिए कि यू दोहरे मास्क लगाने से सुरक्षा बढेग़ी नहीं बल्कि घटेगी। अक्सर दलील ये दी जाती है, कि एक तो मैंने पहले का पहन रखा है, आज का एक ही पहना है। इसका मतलब ये है कि जो नया और पूरी तरह से सुरक्षित है उसे भी पुराने मास्क के साथ मिलाकर उसे कंटामिनेट और किटाणुग्रस्त कर दिया है।

------

नीचे कपडे का ऊपर एन 95

अक्सर ये भी देखने में आ रहा है कि मुंह पर कपड़े का मास्क पहनकर चिकित्साकर्मी ऊपर एन 95 लगा रहे हैं, ऐसे में वह लगाते ही इस एन 95 मास्क की गुणवत्ता को समाप्त कर देते हैं। ये तब ही प्रभावशाली रहता है, जब तक ये मुंह और नाक पर पूरा फिट हो जाए, अन्दर एक स्टिल क्लिप होता है जिसे दबाने पर अच्छी तरह से नाक पर फिट हो जाता है।

------

- कई ऐसे प्रोफेसर्स से लेकर नर्स भी दोहरे मास्क लगा रहे हैं, जबकि इस तरह से मास्क लगाना ना तो नियमों में हैं और ना ही इसका सही तरह से उपयोग किया जा रहा है। ये सबसे महत्वपूर्ण साधन मास्क हैं, जिसका अनावश्यक दुरुपयोग किया जा रहा है। आने वाले समय के लिए भी ये सबसे महत्वपूर्ण है।

--------

सभी को डबल मास्क पहने हुए देखने पर तत्काल कहा जा रहा है, कि वह इस तरह से इसका दुरुपयोग नहीं करें। कई बार ऐसे कार्मिकों को अब भी डबल मास्क में देखा जा रहा है, उन्हें तत्काल इसके बारे में बताया जाता है कि इस तरह से पहनना ना तो उनके लिए बेहतर है और ना ही मास्क की गुणवत्ता बनी रहती है।

डॉ रमेश जोशी, उपाधीक्षक एमबी हॉस्पिटल उदयपुर

------

bhuvanesh pandya Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned