सॉफ्टवेयर ने थामे चक्के, राशि जमा करवाने के बावजूद वाहन मालिक परेशान

- ई-ग्रास सॉफ्टवेयर तीन दिन से बंद, त्योहारी सीजन में बस संचालकों को परेशानी

मो. इलियास/उदयपुर. ई-ग्रास सॉफ्टवेयर बंद होने से पिछले तीन दिन से परिवहन विभाग में जमा राशि की प्राप्ति रसीद नहीं मिलने से प्रदेशभर में लोग खासे परेशान हैं। रसीद के लिए जहां वे विभाग के चक्कर काट रहे हैं, वहीं कइयों के जबरन चालान कटने से झड़पें भी हो रही हैं। इधर, त्योहारी सीजन में यात्रीभार होने के बावजूद ट्यूरिट बसें बाहर नहीं जा पा रही है। अकेले उदयपुर प्रादेशिक परिवहन कार्यालय में करीब लाखों रुपए का काम प्रभावित हुआ है।

परिवहन विभाग के अधिकारियों के अनुसार विभाग में पांच हजार तक के काम की रसीद कार्यालय में ही दी जा रही है, लेकिन इससे ऊपर का सारा काम ई-ग्रास सॉफ्टवेयर के जरिए ही होता है, जो पिछले तीन दिन से बंद पड़ा है। जयपुर मुख्यालय से इसके अपडेट होने की जानकारी मिल रही है, लेकिन कब तक यह सुचारू हो पाएगा इसका अब तक पता नहीं चला। इस सॉफ्टवेयर के नहीं चलने पर विभाग कार्यालय में आने वाले वाहन मालिकों के टैक्स से लेकर समस्त राशि जमा होकर बैंक में जा रही है, लेकिन संबंधित को रसीद प्राप्त नहीं हो पा रही है। रसीद के अभाव में वाहन मालिकों को दिक्कत हो रही है। वाहन मालिकों का कहना है कि रसीद के अभाव में विभाग का ही उडऩदस्ता जबरन धरपकड़ करते हुए चालान काट रहा है।

बस संचालकों को सर्वाधिक परेशानी
बस संचालकों का कहना है त्योहारी सीजन में छुट्टियां होने से यात्रीभार होने के बावजूद वे बसोंं को बाहर नहीं ले जा पा रहे हैैं। विभाग में उन्होंने टैक्स जमा करवा दिया, राशि बैंक में जमा होकर मोबाइल पर ओटीपी मैसेज भी आ गया, लेकिन रसीद नहीं होने से चालान के भय से वे बस नहीं चला रहे हैं। अधिकारियों ने बताया कि सर्वाधिक बस संचालकों का ही प्रतिमाह टैक्स जमा होता है। ट्रैवल्स बस संचालक तो अमूमन 7 तारीख तक जमा करवा देते हैं, लेकिन ट्यूरिस्ट व सिटी परमिट की बसों का टैक्स जमा होता रहता है। इसके अलावा माल वाहक वाहनों के टैक्स की भी यहीं स्थिति है।

अपडेट की वजह से बंद
ई-ग्रास सॉफ्टवेयर अपडेट की वजह से बंद है। राशि जमा हो रही है, लेकिन रसीद नहीं दे पा रहे हैं।

डॉ. कल्पना शर्मा, जिला परिवहन अधिकारी

madhulika singh
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned