उपचार निजी हॉस्पिटल में भले ही हो, सरकारी में हो सकेगी कोरोना की नि:शुल्क जांच

- सरकार ने जारी किए आदेश

By: bhuvanesh pandya

Published: 17 Oct 2020, 09:01 AM IST

भुवनेश पंड्या

उदयपुर. अब भले ही किसी भी मरीज का निजी हॉस्पिटल में उपचार हो, लेकिन उसकी जांच जरूरत पर सरकारी हॉस्पिटल में नि:शुल्क हो सकेगी। साथ ही कोई भी निजी अस्पताल इसका कोई भी खर्च किसी मरीज से जांच के नाम पर नहीं ले सकेंगे। इस योजना के लिए निजी हॉस्पिटलों को आरटी पीसीआर एप पर पंजीकरण करना होगा।

--------

सर्जरी व प्रसव से पहले यदि जरूरी हो...

- राज्य में कोविड -१९ संक्रमण की स्थिति को देखते हुए सरकार ने राजकीय व निजी जांच प्रयोगशालाओं को अधिकृत किया गया है। कोरोना-१९ संक्रमण के प्रसार को रोकने के निजी अस्पतालों में सर्जरी, प्रसव आदि किए जाने से पूर्व मरीज की कोविड जांच करवाई जता रही है। राज्य के सभी जिलों में कोविड जांच के लिए अधिकृत निजी जांच प्रयोगशालाओं की संख्या अपेक्षाकृत कम है। जिन निजी चिकित्सालयों में कोरोना की जांच की सुविधा नहीं है, वे अपने चिकित्सालयों में सर्जरी व प्रसव से पहले जरूरी होने पर कोरोना जांच के लिए अपने चिकित्सालय में कार्यरत लैब टेक्नीशियन के माध्यम से कोरोना सेंपल संग्रहण के लिए तय प्रोटोकोल का पालन करते हुए नमूने शामिल करेंगे। इसके बाद इन नमूनों को जिले में स्थित राजकीय कोरोना जांच प्रयोगशाला में भेजेंगे। जहां उक्त नमूनों की जांच बिना राशि लिए यानी नि:शुल्क की जाएगी। इस जांच के नाम पर निजी चिकित्सालय कोई खर्च नहीं ले सकेंगे। सभी निजी चिकित्सालयों को आरटी पीसीआर पोर्टल पर पंजीयन करना होगा, नमूने लेने का विवरण आरटी पीसीआर एप जरूरी पंजीयन करेंगे। प्रमुख शासन सचिव अखिल अरोड़ा ने यह आदेश जारी किए हैं।

------

हां यह आदेश जारी किया गया है, जरूरत पर जांच सरकारी में हो सकेगी और कोई भी प्राइवेट हॉस्पिटल इस जांच की राशि मरीजों से नहीं लेगा।

डॉ दिनेश खराड़ी, सीएमएचओ उदयपुर

bhuvanesh pandya
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned