scriptGangaur fair in Gogunda for 67 years, there is a reconciliation of man | gangaur mela news : 67 साल से गोगुंदा में गणगौर मेला, कई संस्कृतियों का होता है मिलाप | Patrika News

gangaur mela news : 67 साल से गोगुंदा में गणगौर मेला, कई संस्कृतियों का होता है मिलाप

दो वर्ष कोरोना काल के चलते मेला स्थगित रहा

उदयपुर

Published: April 04, 2022 06:02:09 pm

लकी गणगौर की प्रतिमा को कोटा से उदयपुर लेकर आए थे
देवी गौरी व शिव के गण, भगवान ब्रह्मा के पुत्र ईसर से जुड़े पर्व को पूरे भारत के कई राज्यों में मनाया जाता है। हर जगह इनका अलग महत्व है। परन्तु उदयपुर जिले के गोगुंदा कस्बे में गणगौर मनाने का अलग ही इतिहास है। इस पर्व की यादें जुड़ी रहे इसलिए पिछले 67 वर्षों से पर्व के शुरू के दिन से तीन दिन तक बड़े स्तर पर मेले का आयोजन होता है, इतने वर्षों में केवल दो वर्ष कोरोना काल के चलते मेला स्थगित रहा। आज भी मेले में कई संस्कृतियों का मिलाप होता है, इसीके चलते मेले को पर्यटन विभाग ने मेवाड़ महोत्सव में लिया है। कस्बे में गणगौर पर्व मनाने की शुरुआत राज राणा लालङ्क्षसह के समय में हुई, पहले राजस्थान में कोटा की गणगौर प्रसिद्ध थी, 1855 में उदयपुर महाराणा के कहने पर राज राणालाल ङ्क्षसह व कलजी का गुड़ा के कल जी झाला कोटा गए व वहां से लकी गणगौर की प्रतिमा को उदयपुर लेकर आ गए, जिस पर प्रसन्न हो महाराणा ने कुछ मांगने को कहा। राजराणा लालङ्क्षसह ने गोगुन्दा में गणगौर की सवारी निकालने व मेला लगाने की अनुमति मांगी, जिस पर महाराणा ने अनुमति दे दी तभी से इस पर्व को मनाया जाने लगा। कुछ समय तक मेला तालाब पर लगता था बाद में 1955 को तत्कालीन सरपंच भैरूङ्क्षसह मकवान ने इसे बसस्टैण्ड चौगान प्रांगण में लगवाना शुरू कर दिया, तभी से आज तक यह मेला इसी जगह लगता है।
मेले में लगातार तीसरी पीढ़ी लाती है झूला
तीन दिवसीय गणगौर मेला अपने आप में विविधता का प्रतीक है। मेले में अजमेर जिले से टटोली से 90 वर्ष पूर्व सलीमुद्दीन शेख बैलगाड़ी में एक लकड़ी का झूला लेकर आते थे, आज उनके परिवार में 50 से अधिक सदस्य हैं और तीसरी पीढ़ी के सदस्य 11 झूले लेकर मेले में आते हैं।
तीन दिन चलता है मेला
तीन दिवसीय पर्व में कस्बे के चारभुजा मंदिर से मेला प्रांगण तक ऊंट, घोड़ों व बैण्डबाजों के साथ गणगौर की सवारी निकाली जाती है। जहां मेला प्रांगण में महिलाएं गणगौर की प्रतिमाओं को सिर पर रख नृत्य करती हैं। शाम को पुन: सवारी के साथ गणगौर प्रतिमाएं जाती हैं।
मेले में लगातार तीसरी पीढ़ी लाती है झूला
तीन दिवसीय गणगौर मेला अपने आप में विविधता का प्रतीक है। मेले में अजमेर जिले से टटोली से 90 वर्ष पूर्व सलीमुद्दीन शेख बैलगाड़ी में एक लकड़ी का झूला लेकर आते थे, आज उनके परिवार में 50 से अधिक सदस्य हैं और तीसरी पीढ़ी के सदस्य 11 झूले लेकर मेले में आते हैं।
Gangaur fair in Gogunda for 67 years, there is a reconciliation of many cultures
67 साल से गोगुंदा में गणगौर मेला, कई संस्कृतियों का होता है मिलाप

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

दिल्ली हाई कोर्ट से AAP सरकार को झटका, डोर स्टेप राशन डिलीवरी योजना पर लगाई रोकसुप्रीम कोर्ट का फैसला: रोड रेज केस में Navjot Singh Sidhu को एक साल जेल की सजा, जानें कांग्रेस नेता ने क्या दी प्रतिक्रियाGST पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, जीएसटी काउंसिल की सिफारिश मानने के लिए बाध्य नहीं सरकारेंपंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़ BJP में शामिल, दिल्ली में जेपी नड्डा ने दिलाई पार्टी की सदस्यताअलगाववादी नेता यासीन मलिक आतंकवाद से जुड़े मामले में दोषी करार, 25 मई को होगी अगली सुनवाईज्ञानवापी मस्जिद-श्रृंगार गौरी विवाद : वाराणसी कोर्ट की कार्रवाई पर सुप्रीम कोर्ट की रोक, शुक्रवार को होगी सुनवाईAssam Flood Situation: बाढ़ का जायजा लेने पहुंचे BJP विधायक को जवान ने पीठ पर लादकर नाव तक पहुंचायाउदयपुर नव संकल्प पर अमल: अब कांग्रेस भी बनेगी 'प्रोफेशनल', देशभर में 6500 पूर्णकालिक कार्यकर्ता नियुक्त करने की तैयारी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.