scriptGates opened by Udayasagar in udaipur | उदयसागर के खोले गेट, इधर वल्लभनगर बांध पर चली 6 इंच की चादर | Patrika News

उदयसागर के खोले गेट, इधर वल्लभनगर बांध पर चली 6 इंच की चादर

- उदयपुर का बड़ी तालाब 1 फीट खाली

उदयपुर

Published: September 18, 2017 02:23:38 am

उदयपुर . शहर सहित जिले में रविवार सुबह से बारिश शुरू हो गई। इस दौरान कहीं तेज तो कहीं हल्की बौछारें गिरी। शहर में दोपहर के बाद मौसम खुल गया। इधर, मानसून के अंतिम सत्र में एक सप्ताह से अधिक समय से जारी बारिश के चलते जलाशयों में पानी की आवक बनी हुई है। भारी आवक से उदयसागर के दोनों गेट को पूरे खोल दिए गए। वल्लभनगर बांध के देर रात ओवरफ्लो होने के बाद दोपहर में इससे ६ इंच पानी ओवरफ्लो हो रहा था।
badi talab
 

READ MORE : #sehatsudharosarkar: ब्लड बैंक पर स्थापना के बाद से ही ताले, गर्भवती महिलाएं जांच के लिए ये जोखिम उठाने को मजबूर

 

इधर, देवास टनल में आ रहे आकोदड़ा बांध का पानी रोकने के बाद अब पिछोला झील में मादड़ी बांध का पानी लाया जा रहा है। फतहसागर में बड़ी की पहाडि़यों से आवक बनी हुई है। बड़ी तालाब में कुल भराव क्षमता 32 फीट के मुकाबले 31 फीट पानी आ चुका है। फतहसागर लबालब होने से चिकलवास फीडर से मदार नहर में पानी की आवक रोक दी गई है। मदार के दोनों तालाब का पानी अब आयड़ नदी में होते हुए उदयसागर पहुंच रहा है। जल संसाधन विभाग के अनुसार सुबह आठ बजे समाप्त 24 घंटों में सर्वाधिक बारिश सलूम्बर में 21 मिमी दर्ज की गई। जयसमंद व केजड़ में 15-15मिमी बारिश हुई।
 

सरजणा बांध पर आधा फीट चादर, बहाव क्षेत्र में अलर्ट

भटेवर. वल्लभनगर उपखंड क्षेत्र में सबसे बड़े सरजणा बांध पर रविवार सुबह आधा फीट की चादर चल पड़ी। बांध शनिवार देर रात छलक गया था। अगले ही दिन छुट्टी का मौका देख कई लोग सैर को आ पहुंचे।
 

READ MORE : स्वाइन फ्लू ने बरपाया कहर, एक दिन में चार लोगों की हुई मौत, दो मृतक उदयपुर से


जल संसाधन विभाग के सहायक अभियन्ता दिलीप सिंह देवड़ा ने बताया कि उदयसागर के सभी गेट खोलने से सरजणा बांध में आवक बनी हुई है। शाम तक रपट पर लगभग आधा फीट की चादर चली। बांध की पाल व रपट पर चौकीदार लगाए हैं। ओवर फ्लो बहाव मार्ग पर आमजन को चेतावनी जारी की गई है। ग्रामीणों से अपील की गई है कि वे पुलिया से बहता पानी पार न करें। बता दें कि वल्लभनगर कस्बे में पीने के पानी की आपूर्ति इसी बांध से की जाती है। इसके अलावा उपखंड क्षेत्र के कई गांवों में इसका पानी नहरों के जरिए सिंचाई के लिए पहुंचता है। इसके ओवर फ्लो का पता लगते ही वल्लभनगर, भटेवर, तारावट, धारता, धमानिया, करणपुर, रणछोडपुरा, नवानिया, ढावा सहित कई गांव-कस्बों से ग्रामीण दिनभर पाल पर डटे रहे।
 

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Delhi News Live Updates: दिल्ली में आज भी मेहरबान रहेगा मानसून, आईएमडी ने जारी किया बारिश का अलर्टLPG Price 1 July: एलपीजी सिलेंडर हुआ सस्ता, आज से 198 रुपए कम हो गए दामJagannath Rath Yatra 2022: देशभर में भगवान जगन्नाथ रथयात्रा की धूम, अमित शाह ने अहमदाबाद में की 'मंगल आरती'Kerala: सीपीआई एम के मुख्यालय पर बम से हमला, सीसीटीवी में कैद हुआ आरोपीमहाराष्ट्र की राजनीति में बड़ा उलटफेर: एकनाथ शिंदे ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ, देवेंद्र फडणवीस बने डिप्टी सीएमMaharashtra Politics: बीजेपी ने मौका मिलने के बावजूद एकनाथ शिंदे को क्यों बनाया सीएम? फडणवीस को सत्ता से दूर रखने की वजह कहीं ये तो नहीं!भारत के खिलाफ टेस्ट मैच से पहले इंग्लैंड को मिला नया कप्तान, दिग्गज को मिली बड़ी जिम्मेदारीउदयपुर कन्हैयालाल हत्याकांडः कानपुर से आतंकी कनेक्शन, एनआईए की टीम जल्द जा कर करेगी छानबीन
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.