scriptGovernment gave a strong notice to Vice Chancellor Prof. America Singh | सरकार ने कुलपति प्रो.अमेरिका सिंह को थमाया कड़ा नोटिस, प्रो. राठौड़ को तत्काल करो निलम्बित | Patrika News

सरकार ने कुलपति प्रो.अमेरिका सिंह को थमाया कड़ा नोटिस, प्रो. राठौड़ को तत्काल करो निलम्बित

मोहनलाल सुखाडि़या विवि में ड्रामा जारी: सरकार ने कुलपति प्रो.अमेरिका सिंह को थमाया कड़ा नोटिस, प्रो. राठौड़ को तत्काल करो निलम्बित, नहीं तो अन्य विकल्प से करेंगे कार्रवाई
- केवीएट मामले में कुलपति प्रो. सिंह ने वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी ललित कुमार को नोटिस दिया, गैर शैक्षणिक कार्मिकाें के विरोध के बाद लिया वापस

- सांइस कॉलेज डीन पहुंचे हाईकोर्ट, सुनवाई 18 को

उदयपुर

Published: April 14, 2022 09:11:22 am

उदयपुर. मोहनलाल सुखाडि़या विश्वविद्यालय में बुधवार को दिनभर साइंस कॉलेज डीन प्रो. जीएस राठौड़ को निलम्बित नहीं करने के मामले में जमकर ड्रामा हुआ। प्रदेश के बहुचर्चित सीकर में प्रस्तावित गुरुकुल विवि के सत्यापन समिति के संयोजक व सुविवि कुलपति प्रो. अमेरिका सिंह को राज्य सरकार ने साइंस कॉलेज डीन प्रो. घनश्याम सिंह राठौड़ को निलम्बित करने में अनावश्यक देरी करने को लेकर कड़ा नोटिस थमाया है। सरकार ने प्रो.राठौड़ को तत्काल निलम्बित कर दो दिन में रिपोर्ट मांगी है, वहीं जल्द निलम्बित नहीं करने पर सरकार ने अन्य विकल्प पर विचार करने की चेतावनी दी है। दूसरी ओर कुलपति प्रो. सिंह द्वारा विवि के वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी ललितकुमार टेलर को हाईकोर्ट में केवीएट लगाने के मामले में नोटिस देने के बाद विवि के सभी गैर शैक्षणिक कार्मिकों ने काम बंद कर परिसर में विरोध जताया, इस पर कुलपति प्रो. सिंह काे बेकफुट पर जाते हुए अपना नोटिस वापस लेना पड़ा। मामले में निलम्बन से राहत के लिए साइंस कॉलेज डीन प्रो. राठौड़ ने हाईकोर्ट की शरण ली है, जिसकी सुनवाई 18 अप्रेल को है।
mlsu.jpg
mlsu
-----

पूर्व में दो सदस्य हो चुके हैं निलम्बित, यहां कुलपति प्रो. सिंह जिद पर अडे़- गौरतलब है कि सीकर के प्रस्तावित गुरुकुल विवि मामले में सत्यापन समिति के दो सदस्य राजस्थान विवि जयपुर के प्रोफेसर डॉ .जयन्तसिंह और राजकीय विधि महाविद्यालय, अलवर के असि.प्रोफेसर डॉ. विजय बेनिवाल को पूर्व में निलम्बित किया जा चुका है। आठ अप्रेल को डॉ. बेनिवाल को कर्त्तव्यों में गंभीर लापरवाही बरतने, राज्य सरकार को असत्य व भ्रामक रिपोर्ट प्रस्तुत करने, बिना पर्याप्त जांच के अनुपालना रिपोर्ट प्रमाणित करने, उत्तरदायित्वों में घोर लापरवाही व उदासीनता बरतने का दोषी बताकर उच्च शिक्षा के संयुक्त सचिव डॉ. फिरोज अख्तर ने निलम्बित कर दिया था। इसी प्रकार सत्यापन समिति के अन्य सदस्य डॉ. सिंह को इन्हीं आरोपों को लेकर सरकार के निर्देशों पर दूसरे ही दिन 9 अप्रेल को कुलसचिव केएम दूडिया ने निलम्बित कर दिया था। सुविवि के कुलपति प्रो. सिंह, जो स्वयं सत्यापन समिति के संयोजक थे, वे साइंस कॉलेज डीन प्रो. राठौड़ को बचाने की अपनी जिद पर अडे़ हैं। सरकार की ओर से प्रो. राठौड़ को मामले में पूर्व के दो सदस्यों की तरह ही दोषी माना गया है। इसे लेकर प्रो. राठौड़ को निलम्बित करने के सरकार द्वारा कुलपति प्रोे. सिंह को आदेश जारी करने के चार दिन बाद तक कार्रवाई नहीं की गई है। इस पर सरकार ने बुधवार को कुलपति प्रोे. सिंह को कड़ा नोटिस थमाया है।
उल्लेखनीय है कि सत्यापन समिति द्वारा भ्रामक व असत्य रिपोर्ट देने के बाद विधानसभा में उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र सिंह राठौड़ द्वारा विरोध जताने व सही साक्ष्य प्रस्तुत कर रिपोर्ट की गड़बड़ी उजागर करने पर सरकार की किरकिरी हुई थी और विवि से जुड़ा बिल वापस लेना पड़ा था।
------

सरकार ने कुलपति प्रो. सिंह को दिया यह नोटिससरकार ने बुधवार को कुलपति प्रो. सिंह को शिक्षा ग्रुप 4 के संयुक्त सचिव डॉ. फिरोज अख्तर द्वारा दिए नोटिस में उल्लेख किया है कि प्रस्तावित गुरुकुल विवि मामले में साइंस कॉलेज डीन प्रो. राठौड़ को दोषी माना गया है। विवि अधिनियम व उसके अधीन बनाए गए परिनियमों के तहत नियमानुसार तत्काल निलम्बित कर इनके विरुद्ध कार्रवाई के लिए लिखा गया था, लेकिन चार दिन बाद भी इस प्रकरण में निलम्बन की कार्रवाई नहीं हुई है। दोषी पाए गए सत्यापन समिति के डॉ. बेनीवाल को राजस्थान सिविल सेवाएं (वर्गीकरण, नियंत्रण व अपील) नियम 1958 के नियम 13 व डॉ. जयन्तसिंह को विवि अध्यादेश संख्या 357 सी -1 के तहत निलम्बित किया जा चुका है। प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए सुविवि के साइंस कॉलेज डीन प्रो. राठौड़ को सुविवि के परिनियमों के पार्ट 7 पाइन्ट नम्बर 72 व अन्य संबंधित नियमों व प्रावधानों के तहत तत्काल प्रभाव से निलम्बित कर दो दिन में रिपोर्ट राज्य सरकार को आवश्यक रूप से भिजवाएं। आपके द्वारा प्रकरण में किए जा रहे अनावश्यक विलम्ब को सरकार द्वारा गंभीरता से लिया जा रहा है। अपेक्षा है कि प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए प्रो. राठौड़ को तत्काल निलम्बित कर अनुशासनात्मक कार्रवाई सुनिश्चित करें अन्यथा राज्य सरकार को अन्य विकल्पों पर विचार के लिए बाध्य होना पडे़गा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

Thailand Open: PV Sindhu ने वर्ल्ड की नंबर 1 खिलाड़ी Akane Yamaguchi को हराकर सेमीफाइनल में बनाई जगहIPL 2022 RR vs CSK Live Updates: रोमांचक मुकाबले में राजस्थान ने चेन्नई को 5 विकेट से हरायासुप्रीम कोर्ट में अपने लास्ट डे पर बोले जस्टिस एलएन राव- 'जज साधु-संन्यासी नहीं होते, हम पर भी होता है काम का दबाव'ज्ञानवापी मस्जिद केसः सुप्रीम कोर्ट का सुझाव, मामला जिला जज के पास भेजा जाए, सभी पक्षों के हित सुरक्षित रखे जाएंशिक्षा मंत्री की बेटी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने दिए बर्खास्त करने के निर्देश, लौटाना होगा 41 महीने का वेतनCBI रेड के बाद तेजस्वी यादव ने केंद्र सरकार पर कसा तंज, कहा - 'ऐ हवा जाकर कह दो, दिल्ली के दरबारों से, नहीं डरा है, नहीं डरेगा लालू इन सरकारों से'Ola-Uber की मनमानी पर लगेगी लगाम! CCPA ने अनुचित व्यवहार के लिए भेजा नोटिस, 15 दिन में नहीं दिया जवाब तो हो सकती है कार्रवाईHyderabad Encounter Case: सुप्रीम कोर्ट के जांच आयोग ने हैदराबाद एनकाउंटर को बताया फर्जी, पुलिसकर्मी दोषी करार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.