कोरोना से जीतने सरकार ने उतारी नई फौज, लगाए 735 नए डॉक्टर

- गांवों से लेकर शहरों में उतारी टीम - विभिन्न जिलों में लगाए 735 चिकित्सक

भुवनेश पंड्या

उदयपुर. कोरोना से लड़ाई में सरकार कोई मौका छोडऩा नहीं चाहती। जिन क्षेत्रों में डॉक्टर नहीं है, वहां पर सरकार ने नई फौज उतार दी है, ताकि वक्त जरूरत पर तत्काल लोहा लिया जा सके। वर्तमान में इन चिकित्सकों का मासिक वेतन 56700 किया गया है, इसमें 39300 प्रतिमाह व 17400 चिकत्सा व परिचर्या भत्ता शामिल किया गया है। ये अभ्यर्थी चिकित्साधिकारी के पद पर लगाए गए हैं। इनका दो वर्ष का प्रोबेशन काल रहेगा, जबकि एक वर्ष के लिए इंटर्नशिप रहेगी।

-----

ये है निर्देशकोविड-19 महामारी को देखते हुए नवनियुक्त चिकित्सकों को पदास्थापन सीएमएचओ के अधीन रहेगा। पदस्थान रिक्त चिकित्सा संस्थाओं पर निदेशालय की ओर से अलग से आदेश जारी किए जाएंगे। तब तक संबंधित नियंत्रण अधिकारी जरूरत के अनुसार इनकी सेवाएं लेंगे। महामारी को देखते हुए सरकार ने सख्त निर्देश दिए है कि किसी भी प्रकार की कार्यग्रहण में अभिवृद्धि स्वीकार नहीं होगी। एक वर्ष तक पीजी की अनुमति नहीं मिलेगी।

----

कुछ चिकित्सकों को आई परेशानी आदेश के तीन दिन में इन चिकित्सकों को तय जिलों के सीएमएचओ के अधीन ज्वाइनिंग देनी है, जबकि देश भर में कोविड- 19 को लेकर किया गया लॉक डाउन परेशान कर सकता है। हालंाकि चिकित्सकों ने इसे लेकर सरकारी उच्चाधिकारी के समक्ष अपनी बात रखी। इस पर सभी चिकित्सकों को अपना आदेश दिखाकर तय जिले तक पहुंचने के लिए अनुमति दी गई है।

--

-जिन चिकित्सकों को लगाया गया है प्रयास करेंगे कि जहां चिकित्सक नहीं है या कम उपलब्ध हैं वहां लगाएंगे ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को लाभ हो सके , महामारी के समय सरकार का यह निर्णय बेहतर है।

डॉ दिनेश खराड़ी, सीएमएचओ उदयपुर

bhuvanesh pandya Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned