scriptGovernment preparing for Rural Olympics, Maharana Pratap Sports Villag | सरकार ग्रामीण ओलम्पिक की तैयारी में, यहां शहर में महाराणा प्रताप खेल गांव बदहाल | Patrika News

सरकार ग्रामीण ओलम्पिक की तैयारी में, यहां शहर में महाराणा प्रताप खेल गांव बदहाल

- रन ट्रेक पर पत्थर

- खेल अधिकारी नया लगाने के बाद भी नहीं बदली स्थितियां

- नियमित प्रशिक्षक गिने चुने तो अन्य प्रशिक्षक ठेके के

उदयपुर

Published: November 28, 2021 09:24:24 am

भुवनेश पंड्या

ओलम्पिक खेलों में पदक नहीं मिलने या कम आने के कारण हर कोई खिलाडिय़ों को कोसता है, लेकिन उन्हें दी जाने वाली सुविधाओं पर नजर डाले तो सच खुद ब खुद सामने आ जाएगा। सरकार ने 250 बीघा में 30 करोड़ रुपए खर्च कर खिलाडिय़ों के लिए महाराणा प्रताप खेल गांव बनाया, लेकिन अधिकारियों की अनदेखी व लापरवाही ने इसे फिर से गर्त में धकेलने की शुरुआत कर दी है। ना तो खेल गांव सोसायटी इसे संभाल रही है और ना ही खेल अधिकारी। खैर नगर विकास प्रन्यास से तो अपेक्षा करना ही बेमानी है। आइए जानते है क्या है हाल...
सरकार ग्रामीण ओलम्पिक की तैयारी में, यहां शहर में महाराणा प्रताप खेल गांव बदहाल
सरकार ग्रामीण ओलम्पिक की तैयारी में, यहां शहर में महाराणा प्रताप खेल गांव बदहाल
उदयपुर. सरकार खेलों को बढ़ावा देने व खिलाडिय़ों को आगे लाने के लिए ग्रामीण ओलम्पिक करवाने की तैयारी में जुटी है, मंशा है कि खेलों के नए हीरे सामने लाए जा सके। तो दूसरी ओर शहर में खिलाडिय़ों की बेहतरी के लिए बना महाराणा प्रताप खेल गांव बदहाल है, यहां अब तक इसकी स्थितियां सुधरी नहीं है। हालात ये है कि इसकी सुध लेने वाला कोई नहीं है। पत्रिका की ओर से गत दिनों समाचार अभियान चलाने के बाद सरकार ने यहां नया खेल अधिकारी डेरिक पेट्रिक को लगाया गया, बावजूद यहां रत्ती भर भी हालात नहीं सुधरे। जिम्मेदार भी अब पूरा ठीकरा नगर विकास न्यास पर फोड़ खुद पल्ला झाडऩे में लगे हैं।
-----
ये है हालात
- दौड़ ट्रेक पर बड़े-बड़े पत्थर उभरे हुए हैं, तो वह इतना सख्त हो चुका है इस पर दौडऩा तक संभव नहीं है।
- पूरे खेल गांव में घास ही घास, ना सफाई व्यवस्था ना सभी खेलों के टे्रक व मैदानों की सुध लेने वाला कोई जिम्मेदार।
- अधिकांश ट्रेक खराब होने लगे हैं, देखने वाला कोई नहीं।
- क्रिकेट के लिए बनाया गया मैदान तो बन गया खेत से भी बदतर।
- एक हिस्से का प्रवेश द्वार बंद, दूसरा शुरू
- कई पौधे सूखने लगे हैं, तो पौधों की सुरक्षा के लिए लगाए गए ट्री गार्ड भी टूटने लगे हैं।
- पूरे खेल गांव में जाड़-जंखाड़ पसरा हुआ है।
- अधिकांश कोर्ट के चारो ओर लगाई गई फेंसिंग भी टूटने लगी है।
-------
ये काम रहे अधूरे - कब होंगे पूरे - इन कामों की फाइल अब तक दफ्तर दाखिल ही है। यूं कहें कि एक मेज से दूसरी मेज तक नहीं पहुंची।
- क्रीडा परिषद की तीरंदाजी एकेडमी में अब तक नहीं बन पाई शेड। यहां तक की हरी घास का मैदान ही नहीं।
- इंडोर स्टेडियम राशि के अभाव में अधूरा।
- स्केटिंग रिंक बेहतर नहीं बन पाई। खराब रिंक पर ही स्केटिंग कर रहे खिलाड़ी। 12 लाख में होना है तैयार।
- मिट्टी के ट्रेक पर हमारे एथलेटिक्स दौडऩे का मजबूर है। सिंथेटिक ट्रेक नहीं बन पाया। 7.19 करोड़ में होना है तैयार।
- शूटर्स के हाथ नहीं लग पाई जर्मन राइफल
- यहां क्रिकेट फील्ड तैयार होना है- 25 लाख
----------
पार्ट टाइम प्रशिक्षकों से काम चलाया जा रहा है। नियमित प्रशिक्षक गिने चुने हैं। इसमें से दो तो प्रतिनियुक्ति पर भेजे गए हैं।

ये है नियमित प्रशिक्षक- सुनीता भंडारी बैडमिंट, दिलीप भंडारी क्रिकेट, महेश पालीवाल तैराकी, हिमांशु राजौरा जूड़ो, अर्जुनसिंह प्रतिनियुक्ति बांसवाड़ा जिम्नास्टिक, नरपतसिंह चुंडावत बॉक्सींग प्रतिनियुक्ति डूंगरपुर।
- खेल विभाग द्वारा विभिन्न खेलों के एनआईएस हॉल्टर व नेशनल मेडलिस्ट लिए गए है। प्रवीणसिंह एथलेटिक्स, कपिल जैन कबड्डी, निश्चयसिंह चौहान कायकिंग केनोइंग, हेमन्त अटवाल कुश्ती, धापू लोहार भारतोल्लन, उषा आर्चरज बास्केटबॉल, चिराग कुश्ती, हेमलता गायरी ताइक्वांडों, भृगुराजसिंह तिरंदाजी, शकील अहमद फुटबॉल में लिए हैं।
-----

2.81 होने थे जबकि फिलहाल अब तक 1.84 हुए है। हम तो उनसे निवेदन ही कर सकते हैं, सोसायटी को बताया गया है, लोग आते है घास काटकर ले जाते है।

डेरिक जॉय पैट्रिक, खेल अधिकारी
महाराणा प्रताप खेल गांव

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

UP Election: चार दिन में बदल गया यूपी का चुनावी समीकरण, वर्षों बाद 'मंडल' बनाम 'कमंडल'दिल्ली में संक्रमण दर 30% के पार, बीते 24 घंटे में आए कोरोना के 24,383 नए मामलेअब एसएसबी के 'ट्रैकर डॉग्स जुटे दरिंदों की तलाश में !सूर्य ने किया मकर राशि में प्रवेश, संक्रांति का विशेष पुण्यकाल आजParliament Budget session: 31 जनवरी से शुरू होगा संसद का बजट सत्र, दो चरणों में 8 अप्रैल तक चलेगाWeather Forecast News Today Live Updates: उत्तर भारत में जबरदस्त कोहरा और कड़ाके की ठंड, कई राज्यों में बर्फबारी और बारिश की चेतावनीArmy Day 2022: क्‍यों मनाया जाता है सेना दिवस, जानिए महत्व और इतिहास से जुड़े रोचक तथ्यकोरोना से बचने एडवाइजरी जारी-फल और सब्जियों में बरतें ये सावधानियां
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.