scriptGovernment's 'E-Sanjivani,': Jeevan Raksha Kavach, more than 30 thousa | सरकार की 'ई संजीवनी,: जीवन रक्षा कवच, 30 हजार से अधिक रोगियों ने लिया ऑनलाइन उपचार | Patrika News

सरकार की 'ई संजीवनी,: जीवन रक्षा कवच, 30 हजार से अधिक रोगियों ने लिया ऑनलाइन उपचार

उदयपुर प्रदेश में तीसरे स्थान पर

राज्य के 30192 रोगियों ने लिया उपचार

14 नवम्बर से 7 जनवरी तक की स्थिति

उदयपुर

Published: January 12, 2022 04:35:01 pm

भुवनेश पंड्या
कोरोना के तेज संक्रमण काल में सरकार ने मरीजों को घर बैठे उपचार मिले इसकी शुरुआत की थी, जिसका लोग लगातार लाभ ले रहे हैं। लोगों ने सरकार की ई संजीवनी टेली मेडिसिन योजना के माध्यम से सवाईमानसिंह मेडिकल कॉलेज जयपुर सहित हर जिले के स्थानीय मेडिकल कॉलेजों व आरयूएचएस जयपुर के वरिष्ठ व विशेषज्ञ चिकित्सकों से ऑनलाइन उपचार लिया, जिससे उन्हें घर बैठे बेहतर उपचार मुहैया हो गया और वे संक्रमण से भी बचे रहे। सरकार ने हाल में 14 नवम्बर से 7 जनवरी तक के आंकड़े जारी किए हैं, इसमें प्रदेश के 30192 रोगियों ने इस सेवा का लाभ लिया है। इसमें उदयपुर 1928 मरीजों को सेवाएं देने के साथ ही प्रदेश में तीसरे स्थान पर आया है।
सरकार की 'ई संजीवनी,: जीवन रक्षा कवच, 30 हजार से अधिक रोगियों ने लिया ऑनलाइन उपचार
सरकार की 'ई संजीवनी,: जीवन रक्षा कवच, 30 हजार से अधिक रोगियों ने लिया ऑनलाइन उपचार
--------

ई.संजीवनी एचडब्लयूसी सेवाएं हर जिले में जारी : मुख्यमंत्री निरोगी राजस्थान चिरंजीवी योजना के तहत चिरंजीवी स्वास्थ्य शिविरों के दौरान टेली मेडिसिन ई.संजीवनी एचडब्लयूसी की सेवाएं सभी जिलों में जारी रही है। नागौर का प्रदर्शन प्रदेश में सबसे बेहतर रहा है, इसमें 4880 मरीजों को उपचार मिला है। हनुमानगढ़ 2723 रोगियों के उपचार के साथ दूसरे व उदयपुर 1928 मरीजों के उपचार के साथ ही तीसरे स्थान पर रहा है।
-----

यहां से मिली ई संजीवनी व टेलीमेडिसिन सेवा: आरयूएचएस, एसएमएस व स्थानीय मेडिकल कॉलेजों के विशेषज्ञ चिकित्सकों से मरीजों ने स्वयं ऑनलाइन या टेलीफोन के जरिए उपचार लिया है।

-----

प्रदेश के टॉप फाइव जिले
जिला- इतने रोगियों को मिला उपचार

- नागौर 4880

- हनुमानगढ़ 2723

- उदयपुर 1928

- अलवर 1827

- राजसमन्द 1669

----

बॉटम फाइव जिले

सिरोही- 232
जैसलमेर-228

पाली-200

जालौर- 151

प्रतापगढ़- 76

-----

सरकार की ई संजीवनी टेलीमेडिसिन सेवा का लाभ कई लोग ले रहे हैं। इस संक्रमण काल में इस तरह की सेवा शुरू कर सरकार ने कई मरीजों व परिजनेां को राहत दी है। उदयपुर में भी नियमित सेवांए जारी है। हम प्रदेश में तीसरे स्थान पर रहे है। उद्देश्य है कि गंभीर से गंभीर मरीज को आसानी से घर बैठे उपचार मिल सके।
डॉ दिनेश खराड़ी, सीएमएचओ उदयपुर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

School Holidays in February 2022: जनवरी में खुले नहीं और फरवरी में इतने दिन की है छुट्टी, जानिए कितनी छुट्टियां हैं पूरे सालCash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीइस एक्ट्रेस को किस करने पर घबरा जाते थे इमरान हाशमी, सीन के बात पूछते थे ये सवालजैक कैलिस ने चुनी इतिहास की सर्वश्रेष्ठ ऑलटाइम XI, 3 भारतीय खिलाड़ियों को दी जगहदुल्हन के लिबाज के साथ इलियाना डिक्रूज ने पहनी ऐसी चीज, जिसे देख सब हो गए हैरानकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेश

बड़ी खबरें

RRB-NTPC Results: प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोले रेल मंत्री, रेलवे आपकी संपत्ति है, इसको संभालकर रखेंRepublic Day 2022 LIVE updates: राजपथ पर दिखी संस्कृति और नारी शक्ति की झलक, 7 राफेल, 17 जगुआर और मिग-29 ने दिखाया जलवानहीं चाहिए अवार्ड! इन्होंने ठुकरा दिया पद्म सम्मान, जानिए क्या है वजहजिनका नाम सुनते ही थर-थर कांपते थे आतंकी, जानें कौन थे शहीद ASI बाबू राम जिन्हें मिला अशोक चक्रRepublic Day 2022: 'अमृत महोत्सव' के आलोक में सशक्त बने भारतीय गणतंत्रCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे में आए कोरोना के 7,498 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 10.59%डायबिटीज के पेशेंट्स के लिए फायदेमंद हैं ये सब्जियां, रोजाना करें इनका सेवनक्या दुर्घटना होने पर Self-driving Car जाएगी जेल या ड्राइवर को किया जाएगा Blame? कौन होगा जिम्मेदार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.